in

CAG की रिपोर्ट में खुलासा, UPA सरकार ने ‘बोइंग’ डील में किया खेल | Bharat Tak


Right News : तिरंगे की आन, मातृभूमि की मान

CAG की रिपोर्ट में खुलासा, UPA सरकार ने ‘बोइंग’ डील में किया खेल | Bharat Tak

#bharattak #BHARAT_TAK #BHARATTAK
कैग ने यूपीए सरकार के शासन काल के दौरान नौसेना के लिये बोइंग को दिये गये 2.1 अरब डॉलर के विमानों के ठेके पर सवाल उठाया है।कैग ने कहा कि पी-81 समुद्री टोही विमान का बेड़ा खरीदने के लिये प्रतिद्वंद्वी बोलीदाता स्पेन की ईएडीएस सीएएसए की जगह अमेरिकी रक्षा कंपनी को तरजीह दी गयी।संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में कैग ने कहा कि रक्षा मंत्रालय ने 20 साल के लिये उत्पादों के रखरखाव को लेकर स्पेन की एयरोस्पेस कंपनी की वित्तीय बोली को बढ़ाया।यह इस मान्यता पर किया गया कि बोइंग की पेशकश में इसी प्रकार का प्रावधान है।बाद में बोइंग ने अलग से अनुबंध बातचीत में विमानों के रखरखाव में मदद की पेशकश की जिस पर मोल-भाव करने की गुंजाइश थी।कैग ने इस निष्कर्ष को गलत बताया कि अमेरिकी कंपनी सबसे कम बोली लगाने वाली इकाई थी।रिपोर्ट के अनुसार उत्पाद समर्थन लागत को शामिल कर स्पेन की कंपनी की वित्तीय बोली को बढ़ाने से वो दूसरी सबसे कम बोली लगाने वाली कंपनी बन गयी।कैग ने यह भी कहा कि अमेरिकी विमान भारतीय नौसेना की जरूरतों को पूर्ण रूप से पूरा नहीं करता।इसका मुख्य कारण विमान के अंदर लगे रडार की सीमा है।रिपोर्ट के अनुसार रक्षा मंत्रालय ने बोइंग के लिये ‘आफसेट’ अनुबंध के तहत बोइंग पर भारत में 64.1 करोड़ डॉलर (3,127.43 करोड़ रुपये) के निवेश की जिम्मेदारी तय की थी।कैग ने कहा कि बोइंग ने अबतक आपसेट की शर्त को पूरा नहीं किया है जबकि उसे यह काम 2016 तक पूरा करना था।वर्ष 2009 में आठ पी-81 विमान के लिये सौदा हुआ था. पहला विमान मई 2013 में भारत में आया और सभी आठ विमान भारतीय नौसेना में शामिल कर लिये गये हैं।कैग ने अपनी रिपोर्ट में इन विमानों के लिये बम खरीदने में देरी की भी आलोचना की है।
———-
About The Channel: भारत तक (Bharat Tak) – एक ऐसा मंच, जहां भारत के इतिहास से लेकर वर्तमान तक, देश के रक्षक जवानों से लेकर आज़ादी तक, तिरंगे से लेकर राजनीतिक नेतृत्व तक और व्यक्तिगत अधिकारों से लेकर राष्ट्र कर्तव्यों तक यानि भारत से लेकर भारत तक, जन जन से बनते भारत तक जो देश को जानना चाहिए, वो सब कुछ देश के सामने प्रस्तुत किया जाएगा। एक भारतीय होने के नाते किसी के भी मन में उठते हर सवाल का होगा एक जवाब – निर्भीक, निडर भारत तक।

Everything that you want to know about your history, your present, your soldiers, your saviours, your freedom, your flag, your leaders, your rights and your duties. Everything you want to know about India. Everything you want to know about Indians. From common people with extraordinary talent to special ones with supreme might, Bharat Tak is your one stop for all information.

If there is a question that needs to be asked, we ask it here. Opinions uncut, uncensored. And yes, we have an agenda! Our agenda is our India.

Bharat Tak gives you information that empowers you as a citizen of India. Bharat Tak has just one celebrity: the Patriots. So if you love India, you will very soon fall in love with BHARAT TAK.

You can follow us at:

Website:

Twitter : @bharattak_ (

Instagram: bharattakofficial (

Facebook: @bharattakofficial (

Bharat Tak

#bharattak #BHARAT_TAK #BHARATTAK
कैग ने यूपीए सरकार के शासन काल के दौरान नौसेना के लिये बोइंग को दिये गये 2.1 अरब डॉलर के विमानों के ठेके पर सवाल उठाया है।कैग ने कहा कि पी-81 समुद्री टोही विमान का बेड़ा खरीदने के लिये प्रतिद्वंद्वी बोलीदाता स्पेन की ईएडीएस सीएएसए की जगह अमेरिकी रक्षा कंपनी को तरजीह दी गयी।संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में कैग ने कहा कि रक्षा मंत्रालय ने 20 साल के लिये उत्पादों के रखरखाव को लेकर स्पेन की एयरोस्पेस कंपनी की वित्तीय बोली को बढ़ाया।यह इस मान्यता पर किया गया कि बोइंग की पेशकश में इसी प्रकार का प्रावधान है।बाद में बोइंग ने अलग से अनुबंध बातचीत में विमानों के रखरखाव में मदद की पेशकश की जिस पर मोल-भाव करने की गुंजाइश थी।कैग ने इस निष्कर्ष को गलत बताया कि अमेरिकी कंपनी सबसे कम बोली लगाने वाली इकाई थी।रिपोर्ट के अनुसार उत्पाद समर्थन लागत को शामिल कर स्पेन की कंपनी की वित्तीय बोली को बढ़ाने से वो दूसरी सबसे कम बोली लगाने वाली कंपनी बन गयी।कैग ने यह भी कहा कि अमेरिकी विमान भारतीय नौसेना की जरूरतों को पूर्ण रूप से पूरा नहीं करता।इसका मुख्य कारण विमान के अंदर लगे रडार की सीमा है।रिपोर्ट के अनुसार रक्षा मंत्रालय ने बोइंग के लिये ‘आफसेट’ अनुबंध के तहत बोइंग पर भारत में 64.1 करोड़ डॉलर (3,127.43 करोड़ रुपये) के निवेश की जिम्मेदारी तय की थी।कैग ने कहा कि बोइंग ने अबतक आपसेट की शर्त को पूरा नहीं किया है जबकि उसे यह काम 2016 तक पूरा करना था।वर्ष 2009 में आठ पी-81 विमान के लिये सौदा हुआ था. पहला विमान मई 2013 में भारत में आया और सभी आठ विमान भारतीय नौसेना में शामिल कर लिये गये हैं।कैग ने अपनी रिपोर्ट में इन विमानों के लिये बम खरीदने में देरी की भी आलोचना की है।
———-
About The Channel: भारत तक (Bharat Tak) – एक ऐसा मंच, जहां भारत के इतिहास से लेकर वर्तमान तक, देश के रक्षक जवानों से लेकर आज़ादी तक, तिरंगे से लेकर राजनीतिक नेतृत्व तक और व्यक्तिगत अधिकारों से लेकर राष्ट्र कर्तव्यों तक यानि भारत से लेकर भारत तक, जन जन से बनते भारत तक जो देश को जानना चाहिए, वो सब कुछ देश के सामने प्रस्तुत किया जाएगा। एक भारतीय होने के नाते किसी के भी मन में उठते हर सवाल का होगा एक जवाब – निर्भीक, निडर भारत तक।

Everything that you want to know about your history, your present, your soldiers, your saviours, your freedom, your flag, your leaders, your rights and your duties. Everything you want to know about India. Everything you want to know about Indians. From common people with extraordinary talent to special ones with supreme might, Bharat Tak is your one stop for all information.

If there is a question that needs to be asked, we ask it here. Opinions uncut, uncensored. And yes, we have an agenda! Our agenda is our India.

Bharat Tak gives you information that empowers you as a citizen of India. Bharat Tak has just one celebrity: the Patriots. So if you love India, you will very soon fall in love with BHARAT TAK.

You can follow us at:

Website:

Twitter : @bharattak_ (

Instagram: bharattakofficial (

Facebook: @bharattakofficial (

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading…

0

Comments

Opposition Create Ruckus In Lok Sabha During Finance Minister's Speech

Opposition Create Ruckus In Lok Sabha During Finance Minister’s Speech

Amendment To Triple Talaq Bill Approved From Cabinet

Amendment To Triple Talaq Bill Approved From Cabinet