Home मुख्य समाचार कंपनियां-कर्मचारी आपसी समझौते से सुलझाए मामला, पूरा वेतन न देने वालों के...

कंपनियां-कर्मचारी आपसी समझौते से सुलझाए मामला, पूरा वेतन न देने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं- SC

[

Publish Date:Fri, 12 Jun 2020 11:27 AM (IST)

नई दिल्ली, माला दीक्षित। लॉकडाउन के दौरान कर्मचारियों को 54 दिन का पूरा वेतन देने के मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सुप्रीम कोर्ट ने आज इस मामले में अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि कर्मचारी और नियोक्ता(कंपनी) आपस में समझौते से मामला सुलझाए। इसमें राज्य के श्रम विभाग मदद करेंगे। कोर्ट ने साथ ही कहा कि इस बीच पूरा वेतन न देने वाले नियोक्ताओं के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्यवाही नहीं होगी।

सुप्रीम कोर्ट ने MSMEs सहित कई कंपनियों द्वारा दायर कई याचिकाओं पर अपना फैसला सुनाया, जिसमें लॉकडाउन के 54 दिनों की अवधि के दौरान कर्मचारियों को पूर्ण वेतन और भुगतान करने के गृह मंत्रालय के आदेश को चुनौती दी गई।

चीफ जस्टिस भूषण ने सुनवाई के दौरान कहा कि हमने कंपनियों के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं करने का निर्देश दिया है। इस पर पहले के आदेश जारी रहेंगे। केंद्र सरकार द्वारा जुलाई के अंतिम सप्ताह में एक विस्तृत हलफनामा दाखिल किया जाए। कोर्ट ने कहा कि कर्मचारियों और कंपनियों के बीच सुलह के लिए बातचीत का जिम्मा राज्य सरकार के श्रम विभागों को दिया जाता है।

इससे पहले 4 जून को सुप्रीम कोर्ट ने वेतन भुगतान पर गृह मंत्रालय (MHA) की अधिसूचना को चुनौती देने वाली याचिकाओं के एक बैच पर सुनवाई करते हुए देखा कि कंपनी और कर्मचारियों के बीच सुलह का कोई रास्ता निकाला जा सकता है जिससे 54 दिनों की सैलरी दी जा सके।

न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली शीर्ष अदालत की एक पीठ, जिसमें जस्टिस संजय किशन कौल और एम आर शाह शामिल है, इस याचिका पर सुनवाई की।

पिछली सुनवाई में फैसला रखा था सुरक्षित

सुप्रीम कोर्ट में पिछली बार हुई सुनवाई के बाद कोर्ट ने इस पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। दरअसल, सैलरी देने वाली कंपनियों की दलील है कि वो 29 मार्च से 17 मई के बीच के 54 दिनों की पूरी सैलरी देने की हालत में नहीं है। उनकी दलील थी कि सरकार को ऐसे मुश्किल हालत में उद्योगों की मदद करनी चाहिए। इस केस की सुनवाई जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस संजय कौल और एमआर शाह की बेंच कर रही है।

पिछली सुनवाई में क्या हुआ ?

4 जून को सुनवाई के दौरान कोर्ट को ये बताया गया कि कर्मचारियों और कंपनियों के बीच सैलरी को लेकर बातचीत हुई है। सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में कहा गया कि अगर कोई कोई कंपनी ये कह रही है कि वो पूरी सैलरी देने की हालत में नहीं है तो वो फिर अपनी ऑडिटेड बैलेंस शीट दिखाए।

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

यूपी में कक्षा 9 से 12 तक के लिए 21 से नहीं खुलेंगे स्कूल

[ {"_id":"5f58fe1f4dcdf6055022ed34","slug":"schools-in-up-will-not-open-for-classes-9-to-12-from-21","type":"feature-story","status":"publish","title_hn":"u092fu0942u092au0940 u092eu0947u0902 u0915u0915u094du0937u093e 9 u0938u0947 12 u0924u0915 u0915u0947 u0932u093fu090f 21 u0938u0947 u0928u0939u0940u0902 u0916u0941u0932u0947u0902u0917u0947 u0938u094du0915u0942u0932","category":{"title":"City & states","title_hn":"u0936u0939u0930 u0914u0930 u0930u093eu091cu094du092f","slug":"city-and-states"}} न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ Updated Wed,...

‘लव जिहाद’ के मामलों पर एक्शन में योगी सरकार, कहा- लड़कियों को धोखे में रखकर शादी करने वाले को बख्शे नहीं

[हाइलाइट्स:उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के बढ़ते मामलों को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अपनायासीएम योगी ने 'लव जिहाद' की घटनाओं...

विधायक जन्मेजय के निधन के कारण यूपी विधानमंडल सत्र कल तक के लिए स्थगित, सर्वदलीय बैठक में हुआ फैसला

[ विधानसभा सत्र स्थगित होने के बाद खाली पड़ा तिलक हाल - फोटो : amar ujala पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription...

कनिमोझी से पूछा आप भारतीय हैं? अब चिदंबरम और कुमारस्वामी बोले- हिंदी के कारण हमसे भी हुई बदसलूकी

[kanimozhi cisf tweet: सांसद कनिमोझी के भाषा के आधार पर भेदभाव के आरोपों के बाद कुमारस्वामी और चिंदबरम ने भी कहा है कि...

नेपाली बैंकों ने अमेरिका को दिया धोखा, ईरान और चीन को भेजे संदिग्‍ध पैसे

[हाइलाइट्स:चीन के इशारे पर नाच रहे नेपाल के बैंकों और कंपनियों ने अब अमेरिका से पंगा लेना शुरू कर दिया हैईरान और चीन...

चीन से तनाव के बीच भारत को श्रीलंका से मजबूत रिश्तों की उम्मीद, पीएम मोदी ने राजपक्षे को दी बधाई

[​​India Srilanka Relation: भारत और श्रीलंका के बीच संबंध पहले से काफी मजबूत हैं। यही वजह है कि भारत (India) ने पड़ोसी देश...