Home मुख्य समाचार इनकम बिना एक महीने से ज्यादा सर्वाइव नहीं कर सकते आधे भारतीय:...

इनकम बिना एक महीने से ज्यादा सर्वाइव नहीं कर सकते आधे भारतीय: सर्वे

[

Edited By Dil Prakash | आईएएनएस | Updated:

फाइल फोटो
हाइलाइट्स

  • 28.2 फीसदी पुरुषों ने माना कि वे आय के बिना एक महीने से कम समय तक सर्वाइव कर पाएंगे
  • 20.7 प्रतिशत का कहना है कि वे एक महीने तक सर्वाइव कर सकते हैं
  • 19.9 महिलाओं ने कहा कि वे बिना नौकरी या आय के एक माह से कम समय के लिए सर्वाइव कर सकती हैं
  • सैंपल डेटा को जून के पहले सप्ताह में जुटाया गया और इसका सैंपल साइज 1,397 है

नई दिल्ली

लगभग आधे भारतीय किसी नौकरी या आय के स्रोत के बिना एक माह से अधिक समय तक सर्वाइव नहीं कर सकते। लंबे लॉकडाउन और खराब अर्थव्यवस्था, नौकरी जाने से परिवार की चिंताएं बढ़ रही हैं कि वे आखिर कब तक घर चला पाएंगे। आईएएनएएस सीवोटर इकोनॉमी बैट्री वेव सर्वे के अनुसार, 28.2 फीसदी पुरुषों ने माना कि वे आय के बिना एक माह से कम समय तक सर्वाइव कर पाएंगे। जबकि 20.7 प्रतिशत ने कहा कि वे एक माह तक सर्वाइव कर सकते हैं।

वहीं 10.7 प्रतिशत ने कहा कि वे बिना आय के एक वर्ष से ज्यादा समय तक सर्वाइव कर सकते हैं। वहीं दो महीने के लिए 10.2 प्रतिशत लोगों ने, जबकि तीन महीने के लिए 8.3 प्रतिशत लोगों ने और 4 से 6 महीने के लिए 9.7 प्रतिशत लोगों ने आय बगैर सर्वाइव करने की बात कही और 5.7 प्रतिशत लोगों ने कहा वे एक वर्ष से कम समय तक सर्वाइव कर सकते हैं।

500 से अधिक लोकसभा सीटों से डेटा

इस सैंपल डेटा को जून के पहले सप्ताह में जुटाया गया है और इसका सैंपल साइज 1,397 है, और इसमें पूरे देश की 500 लोकसभा सीटों से भी ज्यादा को कवर किया गया है। यह 1000 से अधिक नए उत्तरदाताओं का साप्ताहिक ट्रैकर है। महिलाओं के लिए, बिना आय के एक महीने से भी कम या एक महीने के लिए सर्वाइव करने की संख्या समान है। महिलाओं में, 19.9 प्रतिशत ने कहा कि वे बिना नौकरी या आय के एक माह से कम समय के लिए सर्वाइव कर सकती हैं, वहीं 28.4 प्रतिशत ने कहा कि वे एक माह तक सर्वाइव कर सकती हैं। मोटे तौर पर यह आधी संख्या को जोड़ता है।

महिलाओं का सर्वाइवल रेट ज्यादा

कुल 11.5 प्रतिशत महिलाओं ने कहा कि वे एक वर्ष से भी ज्यादा समय तक सर्वाइव कर सकती हैं। सर्वे से यह स्पष्ट हुआ कि वरिष्ठ नागरिकों की बिना आय के सबसे अच्छी सर्वाइवल रेट है और वे अपनी बचत का लाभ उठा रहे हैं। वरिष्ठ नागरिक जिनमें 60 और इससे अधिक उम्र के हैं, में से 19.2 प्रतिशत ने कहा कि वे बिना आय के एक वर्ष तक सर्वाइव कर सकते हैं। बिना आय के सबसे कम सर्वाइवल रेट 25-40 वर्ष के आयु समूह की है, जहां 28.6 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे बिना आय के बमुश्किल एक माह या इससे कम समय तक सर्वाइव कर सकते हैं।

उच्च शिक्षा प्राप्त लोगों का सर्वाइवल रेट बेहतर

जाहिर है कि इसमें अधिक आय वर्ग या उच्च शिक्षा प्राप्त लोगों की सर्वाइवल रेट अच्छी है। सभी सामाजिक समूहों में से उच्च शिक्षा प्राप्त समूह में से 31.6 प्रतिशत ने कहा कि वे बिना आय के एक वर्ष से ज्यादा समय तक सर्वाइव कर सकते हैं। वहीं उच्च शिक्षित समूहों से यह संख्या 29.6 प्रतिशत है। वहीं मुस्लिमों में से एक माह से भी कम समय तक सर्वाइव करने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है, जिनकी संख्या 38.4 प्रतिशत है। वहीं एक माह तक सर्वाइव करने की संख्या 30.2 प्रतिशत है। वहीं इस समूह में 68 प्रतिशत लोग ऐसे हैं, जो बिना आय के एक माह से अधिक समय तक सर्वाइव नहीं कर सकते हैं।

पश्चिमी क्षेत्र का प्रदर्शन सबसे अच्छा

क्षेत्रवार बात करें तो, समृद्ध पश्चिमी क्षेत्र का इस मामले में प्रदर्शन सबसे अच्छा है, जहां केवल 17.2 प्रतिशत लोगों का कहना है कि वे एक माह से कम समय तक बिना आय के सर्वाइव कर सकते हैं, जबकि 15 प्रतिशत लोगों का कहना है कि वे एक वर्ष से अधिक समय तक सर्वाइव कर सकते हैं। वहीं पूर्वी क्षेत्र के 30.4 फीसदी लोगों का कहना है कि वे एक माह से भी कम समय तक सर्वाइव कर पाएंगे। पूरे क्षेत्र की बात करें तो 48 फीसदी से ज्यादा लोगों का मानना है कि वे एक माह या इससे कम समय तक बिना नौकरी के सर्वाइव कर पाएंगे।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प के बाद LAC पर हथ‍ियारों के इस्तेमाल को लेकर सेना ने बदले नियम

[चीनी सैनिकों के साथ झड़प के बाद LAC पर हथ‍ियारों के इस्तेमाल को लेकर सेना ने बदले नियम.नई दिल्ली: लद्दाख के गलवान घाटी...

पकड़े गए लश्‍कर आंतकियों के पंजाब में संपर्क सूत्र का पता करने जुटी में एजेंसियां, कई क्षेत्रों में जांच

[ पठानकोट/अमृतसर, जेएनएन। लश्‍कर-ए-तैयबा के तीन आतंकियों के पकड़ जाने के बाद पठानकोट और अमृतसर व आसपास के क्षेत्र में तलाशी अभियान तेज...

बिहार से सटी सीमा पर फायरिंग के बाद नेपाल का नया दांव, इस पोस्ट से हटाए अपने जवान

[भारत-नेपाल बॉर्डर (India Nepal Border) पर फायरिंग (Firing India Nepal Border) के बाद स्थिति काफी बदल गई है। जानकारी के मुताबिक नेपाल की...

TBSE Tripura Madhyamik 10th Result 2020: त्रिपुरा बोर्ड 10वीं का रिजल्ट जारी, ऐसे ऑनलाइन और ऑफलाइन चेक करें अपने नंबर

[ TBSE Tripura Board Madhyamik 10th Result 2020: त्रिपुरा बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (TBSE), राज्य मध्यमिक 10वीं के नए सिलेबस के परिणाम जारी कर दिए...

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा- राज्यसभा चुनाव कराने में जानबूझकर देरी की गई, ताकि भाजपा विधायकों की खरीद फरोख्त कर सके

[ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कहा कि हमने विधायकों की खरीद की जांच कराने का फैसला किया है, सच जल्द सामने आएगादेशभर में राज्यसभा की...