Home मुख्य समाचार दिल्ली में कोरोना का 'कम्यूनिटी में ट्रांसमिशन' हो रहा है, केंद्र बताएगा...

दिल्ली में कोरोना का ‘कम्यूनिटी में ट्रांसमिशन’ हो रहा है, केंद्र बताएगा कि कम्यूनिटी ट्रांसमिशन हो रहा है या नहीं: सत्येंद्र जैन

[

कोरोना मरीजों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर क्या बोले स्वास्थ्य मंत्री?
हाइलाइट्स

  • दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने दावा किया है कि यहां समुदायिक स्तर पर कोरोना का प्रसार हो रहा है
  • सत्येंद्र जैन ने कहा कि कम्यूनिटी में ट्रांसमिशन हो रहा है, लेकिन कम्यूनिटी ट्रांसमिशन टेक्निकल टर्म है
  • उन्होंने कहा कि अब केंद्र सरकार ही कम्यूनिटी ट्रांसमिशन का ऐलान कर सकती है

नई दिल्ली

क्या दिल्ली में कोरोना वायरस का कम्यूनिटी ट्रांसमिशन शुरू हो चुका है? प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की मानें तो जवाब है- हां। उनका कहना है कि दिल्ली में कोविड-19 महामारी का सामुदायिक स्तर पर प्रसार होने लगा है, लेकिन इसकी पुष्टि केंद्र सरकार ही कर सकती है। उन्होंने कहा कि कम्यूनिटी ट्रांसमिशन एक टेक्निकल टर्म है। जैन ने दिल्ली में तकनीकी रूप से कम्यूनिटी ट्रांसमिशन के आगाज के ऐलान की जिम्मेदारी केंद्र पर छोड़ दी।

टेक्निकल टर्म में केंद्र ही करेगा ऐलान: जैन

स्वास्थ्य मंत्री जैन ने कहा, ‘कम्यूनिटी में ट्रांसमिशन हो रहा है, लेकिन यह कम्यूनिटी ट्रांसमिशन है या नहीं, इसका ऐलान सिर्फ केंद्र कर सकता है। यह एक टेक्निकल टर्म है।’उन्होंने कहा, ‘अखिल भारतीय आर्युविज्ञान संस्थान (AIIMS) के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने खुद कहा कि कंटेनमेंट जोनों में कम्यूनिटी ट्रांसमिशन हो रहा है।’

दिल्ली में अभी 31 हजार से ज्यादा मरीज

ध्यान रहे कि उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने एक दिन पहले कहा था कि केंद्र सरकार के मुताबिक, अभी राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस का संक्रमण सामुदायिक स्तर पर शुरू नहीं हुआ है। दिल्ली में मंगलवार को 1,366 नए कोविड-19 मरीज सामने आए जिससे प्रदेश में कुल मरीजों की तादाद बढ़कर 31,309 पर पहुंच गई। वहीं, मरने वालों की संख्या अब 905 हो चुकी है। जैन ने बताया कि दिल्ली में अभी 18,543 मरीज इलाजरत हैं जबकि 11,861 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।

दिल्ली में बिगड़ रहे हालात, शाह से मिले केजरी

घटाया गया कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग का दायरा

जैन ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा था कि सामने आ रहे नए कोविड-19 मरीजों में करीब आधे को वायरस का संक्रमण किस स्रोत से हो रहा है, इसका पता नहीं चल पा रहा है। उन्होंने कहा कि पहले एक केस में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग (मरीज के संपर्क में आने वालों की तलाश) 600 लोगों तक भी पहुंच जाती थी। अब अगर 1,500 केस को 600 से गुना कर दें तो कुल 9 लाख लोंगों तक पहुंचना होगा। इसलिए, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग सिर्फ निकटतम संपर्क के लोगों तक ही सीमित रहेगी, न कि परोक्ष संपर्क में आने वाले लोगों तक जाएगी।

दिल्ली में मरीजों के मुकाबले बेडों की संख्या डबल

उन्होंने कहा कि अभी दिल्ली में करीब 4 हजार कोविड-19 बेड खाली हैं और विभिन्न प्राइवेट हॉस्पिटलों में कुल 2 हजार से ज्यादा बेड तैयार किए गए हैं। उन्होंने बताया, ‘हम अस्पतालों में मरीजों की संख्या से दोगुना बेड की व्यवस्था कर रहे हैं। अभी भी 50% उपलब्ध बेड खाली हैं।’ जैन के मुताबिक, 15 जून तक 7 हजार जबकि 30 जून तक 15 हजार बेड पर मरीज होंगे। उन्होंने कहा, ‘अगर हमने कोविड मरीजों के हिसाब से ही बेड की व्यवस्था की होती तो बाकी मरीजों का इलाज नहीं हो पाता। इसलिए, हम जितना तेजी से हो सके, ज्यादा-से-ज्यादा बेड तैयार करेंगे।’

दिल्ली में कोरोना के 1501 नए केस, रेकॉर्ड मौतें

10-15 दिन में दोगुने हो जाएंगे मरीज: जैन

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोविड-19 मानव इतिहास की सबसे बड़ी महामारी है। करीब 100 साल पहले स्पेनिश फ्लू के नाम से एक वायरस ने दुनिया में ऐसा ही कहर बरपाया था। जैन ने कहा, ‘वायरस बहुत तेजी से फैल रहा है और अगर कोई संक्रमित हो जाए तो उसे ठीक होने में दो हफ्ते का वक्त लग जाता है।’ उन्होंने कहा कि अगर अभी 30 हजार से ज्यादा कोरोना केस है तो आशंका है कि अगले 10 से 15 दिनों में आंकड़ा दोगुना हो जाएगा। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, ‘यह संख्या बिल्कुल सटीक नहीं है, लेकिन यह संक्रमण की दर पर निर्भर करेगा क्योंकि जब कोई संक्रमित होता है तो वह ठीक होने तक दो-तीन लोगों को संक्रमित कर चुका होता है। यह सिर्फ दिल्ली की बात नहीं है, हर राज्य में यही हो रहा है।’

‘सही नहीं हुआ WHO का अनुमान’

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा था कि 16 मई तक कोविड-19 महामारी का प्रकोप खत्म हो सकता है, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यह अब भी हमारे बीच है और हमें इससे निपटने के लिए सारे कदम उठाने होंगे और सभी सावधानियां बरतनी होंगी। उन्होंने कहा, ‘जब लॉकडाउन लागू किया गया तो देश में सिर्फ 100 कोविड-19 मरीज थे और अब यह संख्या हजारों में पहुंच गई है। अगर हम फिर से लॉकडाउन लगा दें तो यह बेतुका होगा क्योंकि अब 2.5 लाख से बढ़कर 25 लाख केस लॉकडाउन के बावजूद हो जाएंगे।’



‘लोग क्या-क्या बोलते थे, लेकिन सब गलत निकला’


उन्होंने कहा कि लॉकडाउन से बहुत कुछ सीख मिली है क्योंकि इसके बारे में अलग-अलग तरह की धारणाएं बनी हैं। कुछ को लगता था कि वायरस एक-दो महीने में खत्म हो जाएगा, कुछ मानते थे कि वायरस तापमान बढ़ने से खत्म हो जाएगा, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। उन्होंने कहा, ‘हमें वायरस के साथ जीना सीखना होगा क्योंकि यह अभी 2-3 सालों तक कहीं नहीं जाने वाला। मैं लोगों से तीन बातों की अपील करता हूं- पहला कि लोग बाहर निकलें तो मास्क जरूर लगाएं, दूसरा कि सोशल डिस्टैंसिंग बनाए रखें और तीसरा कि हाथ बार-बार धोने की आदत नहीं छोड़ें।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

पति बिना कंडोम के पीरियड्स के दौरान सम्भोग करते हैं और इसके फायदे भी गिनाते हैं, क्या यह सही है?

मैं 32 साल की महिला हूं। मेरे पति कंडोम के बिना पीरियड्स के दौरान यौन संबंध बनाने पर जोर देते हैं। वह...

कई बार सहवास करने से पहले ही सीमन बाहर आ जा जाता है, क्या करूं?

सवाल: मैं कॉलेज के दिनों में मास्टरबेशन करता था, लेकिन उस समय मुझे शादीशुदा जिंदगी पर पड़ने वाले इसके नकारात्मक प्रभाव के बारे...

एलएसी पर चीनी हेलिकॉप्टर, भारत ने तैनात की कंधे पर रखकर छोड़ी जाने वाली मिसाइलें

[पूर्वी लद्दाख में तनातनी के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास चीन की वायुसेना के युद्धक हेलिकॉप्टर मंडरा रहे हैं। पीपुल्स लिबरेशन...

राजस्थान की राजनीति में प्रियंका का पंच, गहलोत-पायलट गुट को एक करने की Inside Story

,(a=t.createElement(n)).async=!0,a.src="https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js",(f=t.getElementsByTagName(n)).parentNode.insertBefore(a,f))}(window,document,"script"),fbq("init","465285137611514"),fbq("track","PageView"),fbq('track', 'ViewContent'); Source link

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की चीन को चेतावनी- अशांति पैदा करने की कोशिश की तो माकूल जवाब मिलेगा

[हाइलाइट्स:74वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को दीं शुभकामनाएंपूर्वी लद्दाख में चीन के साथ तनाव के बीच...

कोरोना से लड़ाई में WHO ने की भारत की प्रशंसा, डेटा मैनेजमेंट को लेकर दी हिदायत

[कोरोना वायरस के खिलाफ भारत द्वारा लड़ी जा रही जंग की दुनिया की सबसे बड़ी नोडल हेल्थ एजेंसी विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने...