Home मुख्य समाचार सीमा पर घट रहा तनाव, पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन ने...

सीमा पर घट रहा तनाव, पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन ने कम की सैनिकों की तैनाती

[

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Tue, 09 Jun 2020 08:12 PM IST

भारत और चीन की सेना (फाइल फोटो)
– फोटो : पीटीआई

ख़बर सुनें

भारत और चीन ने पूर्वी लद्दाख में कई बिंदुओं पर अपने सैनिकों की तैनाती को कम किया है। सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने गलवां क्षेत्र में, पैट्रोलिंग बिंदु 15 और हॉट स्प्रिंग एरिया से अपने सैनिकों और युद्धक वाहनों को ढाई किलोमीटर पीछे किया है। भारत ने भी अपनी कुछ टुकड़ियां पीछे हटाई हैं। 
 

दोनों देशों के बीच विवाद की शुरुआत पिछले महीने हुई थी जब चीन ने पूर्वी लद्दाख में एलएसी के पास सैन्य निर्माण और सेना को तैनात करना शुरू कर दिया। इसमें पेगोंग त्सो झील और गलवां घाटी शामिल हैं। चीनी सैनिक विवादित क्षेत्र में भारतीय सुरक्षा बलों के साथ कई बार आमने-सामने हो चुके हैं।

पैंगोंग त्सो क्षेत्र में कोई सैन्य बदलाव नहीं

सैन्य सूत्रों ने बताया कि भारत और चीन दोनों देशों की सेनाओं ने गलवां, हॉट स्प्रिंग्स और पैट्रोलिंग एरिया पीपी-15 से अपने सैनिक और अस्थायी रूप से तैयार किए गए ढांचे हटाए हैं। हालांकि, सूत्रों ने कहा कि पैंगोंग त्सो और दौलत बेग ओल्डी जैसे इलाकों में उनकी स्थितियों में कोई परिवर्तन नहीं आया है। 

माना जा रहा है कि यह कदम दोनों देशों ने एक महीने से ज्यादा समय से चल रहे विवाद को सुलझाने के लिए हुई वार्ताओं का परिणाम है। हालांकि, अभी तक रक्षा मंत्रालय या विदेश मंत्रालय की ओर से भी सैनिकों के पीछे हटने की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। चीन की ओर से इसे लेकर कोई बयान नहीं आया है।

समाधान के लिए जारी है बातचीत का दौर

विवाद को हल करने के लिए दोनों देशों के बीच बाचतीच का दौर जारी है। सू्त्रों ने बताया कि इलाकों में तनाव कम करने के लिए दोनों पक्षों के बीच बुधवार को मेजर जनरल स्तर की वार्ता होगी। वहीं, समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक सैन्य दल के सदस्य चुशुल में हैं और वे अगले कुछ दिनों में होने वाली बातचीत की तैयारी कर रहे हैं।

टीम को सेना मुख्यालय और सरकारी अधिकारियों से मामले के समाधान में मदद करने के लिए निर्देश और आदेश दिए गए हैं। इससे पहले दोनों पक्षों के बीच छह जून को सैन्य कमांडर स्तर की बातचीत हुई। जिसमें भारत का प्रतिनिधित्व 14 कॉर्प्स कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने किया था। वहीं चीन की तरफ से दक्षिण झिंजियांग सैन्य जिला कमांडर मेजर जनरल लियू लिन थे। यह बैठक मोल्डो में हुई थी।

इस वार्ता का जमीन पर कोई तत्कालिक परिणाम नहीं निकला क्योंकि दोनों पक्ष एक-दूसरे के विपरीत गतिरोध की स्थिति में बने हुए हैं। दोनों पक्ष समस्या का हल खोजने के लिए राजनयिक और सैन्य दोनों स्तरों पर बातचीत जारी रखने पर सहमत हुए थे। सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि चीन के साथ सैन्य और राजनयिक स्तरों पर वार्ता जारी है।

भारत और चीन ने पूर्वी लद्दाख में कई बिंदुओं पर अपने सैनिकों की तैनाती को कम किया है। सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने गलवां क्षेत्र में, पैट्रोलिंग बिंदु 15 और हॉट स्प्रिंग एरिया से अपने सैनिकों और युद्धक वाहनों को ढाई किलोमीटर पीछे किया है। भारत ने भी अपनी कुछ टुकड़ियां पीछे हटाई हैं। 

 

दोनों देशों के बीच विवाद की शुरुआत पिछले महीने हुई थी जब चीन ने पूर्वी लद्दाख में एलएसी के पास सैन्य निर्माण और सेना को तैनात करना शुरू कर दिया। इसमें पेगोंग त्सो झील और गलवां घाटी शामिल हैं। चीनी सैनिक विवादित क्षेत्र में भारतीय सुरक्षा बलों के साथ कई बार आमने-सामने हो चुके हैं।

पैंगोंग त्सो क्षेत्र में कोई सैन्य बदलाव नहीं

सैन्य सूत्रों ने बताया कि भारत और चीन दोनों देशों की सेनाओं ने गलवां, हॉट स्प्रिंग्स और पैट्रोलिंग एरिया पीपी-15 से अपने सैनिक और अस्थायी रूप से तैयार किए गए ढांचे हटाए हैं। हालांकि, सूत्रों ने कहा कि पैंगोंग त्सो और दौलत बेग ओल्डी जैसे इलाकों में उनकी स्थितियों में कोई परिवर्तन नहीं आया है। 

माना जा रहा है कि यह कदम दोनों देशों ने एक महीने से ज्यादा समय से चल रहे विवाद को सुलझाने के लिए हुई वार्ताओं का परिणाम है। हालांकि, अभी तक रक्षा मंत्रालय या विदेश मंत्रालय की ओर से भी सैनिकों के पीछे हटने की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। चीन की ओर से इसे लेकर कोई बयान नहीं आया है।

समाधान के लिए जारी है बातचीत का दौर

विवाद को हल करने के लिए दोनों देशों के बीच बाचतीच का दौर जारी है। सू्त्रों ने बताया कि इलाकों में तनाव कम करने के लिए दोनों पक्षों के बीच बुधवार को मेजर जनरल स्तर की वार्ता होगी। वहीं, समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक सैन्य दल के सदस्य चुशुल में हैं और वे अगले कुछ दिनों में होने वाली बातचीत की तैयारी कर रहे हैं।

टीम को सेना मुख्यालय और सरकारी अधिकारियों से मामले के समाधान में मदद करने के लिए निर्देश और आदेश दिए गए हैं। इससे पहले दोनों पक्षों के बीच छह जून को सैन्य कमांडर स्तर की बातचीत हुई। जिसमें भारत का प्रतिनिधित्व 14 कॉर्प्स कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने किया था। वहीं चीन की तरफ से दक्षिण झिंजियांग सैन्य जिला कमांडर मेजर जनरल लियू लिन थे। यह बैठक मोल्डो में हुई थी।

इस वार्ता का जमीन पर कोई तत्कालिक परिणाम नहीं निकला क्योंकि दोनों पक्ष एक-दूसरे के विपरीत गतिरोध की स्थिति में बने हुए हैं। दोनों पक्ष समस्या का हल खोजने के लिए राजनयिक और सैन्य दोनों स्तरों पर बातचीत जारी रखने पर सहमत हुए थे। सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि चीन के साथ सैन्य और राजनयिक स्तरों पर वार्ता जारी है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Sushant Case: सुशांत के मामा बोले- केके सिंह ने नहीं की हैं दो शादियां, गलत बोल रहे हैं संजय राउत

[शिवसेना (Shivsena) के सांसद संजय राउत (Sanjay raut statement) ने सामना (Samna) में लिखे लेख में सुशांत के पिता केके सिंह की दूसरी...

अमेरिका ने ह्यूस्टन के चीनी दूतावास पर किया कब्जा, ड्रैगन का पलटवार

,(a=t.createElement(n)).async=!0,a.src="https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js",(f=t.getElementsByTagName(n)).parentNode.insertBefore(a,f))}(window,document,"script"),fbq("init","465285137611514"),fbq("track","PageView"),fbq('track', 'ViewContent'); Source link

प्रधानमंत्री की दहलीज तक पहुंची जेडीयू-लोजपा की लड़ाई, चिराग पासवान ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

प्रधानमंत्री मोदी ने किया ‘राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र’ का उद्घाटन, कहा- हमारा अभियान है गंदगी भारत छोड़ो

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source...

‘तो ऐसे होती है…’, सुशांत केस में CBI जांच शुरू होने पर शेखर सुमन ने कुछ यूं किया रिएक्ट

]>     आपको बता दें कि शेखर सुमन का नाम उस बॉलीवुड स्टार्स की लिस्ट में शामिल हैं, जिन्होंने सुशांत केस के लिए सीबीआई जांच...

भारत-चीन सीमा पर शहीद हुए बिहार रेजिमेंट के कर्नल संतोष बाबू, डेढ़ साल से थे तैनात

https://www.youtube.com/watch?v=3zfi98OHTzQ अपने बेटे के शहीद होने पर उनकी मां ने कहा कि वह एक ही समय पर खुश भी हैं और दुखी भी। अपने...