Home मुख्य समाचार भारतीय दबाव के आगे झुका नेपाल, विवादित नक्‍शे वाली किताब पर लगाई...

भारतीय दबाव के आगे झुका नेपाल, विवादित नक्‍शे वाली किताब पर लगाई रोक

[

हाइलाइट्स:

  • नेपाल की केपी ओली सरकार ने देश के विवादित नक्‍शे वाली किताब के वितरण पर रोक लगा दिया है
  • नेपाल के विदेश मंत्रालय और भू प्रबंधन मंत्रालय ने इस किताब के विषयवस्‍तु पर गंभीर आपत्ति जताई थी
  • नेपाली कैबिनेट ने न केवल इस किताब का वितरण रोकने बल्कि उसके प्रकाशन पर रोक लगाने को कहा

काठमांडू
चीनी राजदूत के इशारे पर चल रही नेपाल की केपी ओली सरकार ने देश के विवादित नक्‍शे वाली किताब के वितरण पर रोक लगा दिया है। नेपाल के विदेश मंत्रालय और भू प्रबंधन मंत्रालय ने श‍िक्षा मंत्रालय की ओर से जारी इस किताब के विषयवस्‍तु पर गंभीर आपत्ति जताई थी। इसके बाद नेपाली कैबिनेट ने श‍िक्षा मंत्रालय को निर्देश दिया कि वह न केवल इस किताब का वितरण रोके बल्कि उसके प्रकाशन पर भी रोक लगाए। नेपाली कैबिनेट के इस फैसले से शिक्षा मंत्री गिरिराज मणि पोखरल को करारा झटका लगा है।

काठमांडू पोस्‍ट की रिपोर्ट के मुताबिक विदेश मंत्रालय और भू प्रबंधन मंत्रालय ने कहा था कि इस किताब में कई तथ्‍यात्‍मक गल्तियां और ‘अनुचित’ कंटेंट है, इस वजह से किताब के प्रकाशन पर रोक लगाई गई है। कानून मंत्री श‍िव माया ने कहा, ‘हमने यह निष्‍कर्ष निकाला है कि किताब के वितरण पर रोक लगा दी जाए।’ माया ने माना कि कई गलत तथ्‍यों के साथ संवेदनशील मुद्दों पर किताब का प्रकाशन गलत कदम था।

नेपाली जमीन पर ओली के दोस्त चीन का कब्जा, हुमला में बनाई 9 बिल्डिंग्स

द्विपक्षीय बातचीत को झटका पहुंचने की थी आशंका
बता दें कि भारत और नेपाल के बीच मई में सीमा विवाद पैदा हो गया था। बातचीत के जरिए इसका समाधान होने का दरवाजा भी दिखने ही लगा था कि यह ताजा विवाद खड़ा हो गया था। नेपाल सरकार ने बच्चों की एक किताब में विवादित नक्शा प्रकाशित किया है। यही नहीं, इसमें भारत के साथ सीमा विवाद का भी जिक्र है। नेपाल के इस कदम से दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बातचीत को झटका पहुंचने की आशंका पैदा हो गई थी।

कालापानी पर नेपाल का दावा

देश के शिक्षा मंत्री गिरिराज मणि पोखरल के मुताबिक किताब का प्रकाशन भारत की कार्रवाई के जवाब में किया गया है। उनका कहना है कि भारत ने पिछले साल कालापानी को अपनी सीमा में दिखाते हुए नक्शा जारी किया था। नेपाल कालापानी को अपना बताता है। नेपाल की नई किताब में बच्चों को नेपाल के क्षेत्र के बारे में पढ़ाया जा रहा है और सीमा विवादों का जिक्र भी किया गया है।

अपने फायदे के लिए किया?
किताब में पोखरल ने खुद लिखा है कि कैसे उन्होंने 24 साल पहले भारतीय सेना को नेपाल से बाहर करने के लिए अभियान चलाया था। नेपाल में एक्सपर्ट्स ने भी इस कदम का विरोध किया है। उनका कहना है कि अकैडमिक किताब में मंत्री की भूमिका नहीं होनी चाहिए और पोखरल ने अपनी छवि बनाने के लिए ऐसा किया है। वहीं, सेंटर फॉर नेपाल ऐंड एशियन स्टडीज के असोसिएट प्रफेसर का कहना है कि ऐसी किताबों से नई पीढ़ी का ज्ञान नहीं बढ़ता है बल्कि दो देशों में तनावपूर्ण संबंधों के बीच बातचीत का रास्ता भी बंद हो जाता है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

भारत के खिलाफ बड़ी साजिश रच रहा पाकिस्‍तान, चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग को भेजे तीन प्रस्‍ताव

[हाइलाइट्स:पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी अपनी एक दिवसीय चीन यात्रा पर हेनान पहुंच गए हैंकुरैशी ने इसे 'महत्‍वपू्र्ण' यात्रा करार दिया...

बहुत जल्द आपके हाथों में होगा पेटीएम क्रेडिट कार्ड, मिलेंगी ये सारी सुविधाएं

https://www.youtube.com/watch?v=z4q4IvOn4Jg>> पेटीएम के इस नेक्स्ट जेनरेशन क्रेडिट कार्ड्स में इंस्टैंट वन-टच सुविधाएं होंगी. इससे यूजर्स को सिक्योरिटी पिन नंबर बदलने, एड्रेस अपडेट करने,...

एक ही रात में यूपी का मोस्ट वॉन्टेड बन गया विकास दुबे, भेष बदलने में है माहिर

[Edited By Raghavendra Shukla | नवभारत टाइम्स | Updated: 05 Jul 2020, 10:45:00 AM IST कानपुर शूटआउट: विकास दुबे पर 1...

कृषि कानूनों पर चर्चा के बीच मीटिंग से वॉक आउट कर गए 29 किसान यूनियनों के नेता, किसी मंत्री के शामिल नहीं होने से नाराज

[हाइलाइट्स:किसान संगठनों के नेता नए कृषि कानूनों में सुधारों को लेकर केंद्र सरकार के साथ चर्चा करना चाहते थेवो सरकार के आग्रह पर...

कोरोना पर ताजा खबर: आज 48,916 कोविड-19 मरीज, जानें कहां कितने केस

[corona in india latest updates: देश में रेकॉर्ड संख्या में कोरोना मरीजों के मिलने के बाद टेंशन बड़ी हो गई है। आज 48,916...