Home मुख्य समाचार Live: राहुल बोले- भाजपा संग मिलीभगत से लिखा गया पत्र, सिब्बल और...

Live: राहुल बोले- भाजपा संग मिलीभगत से लिखा गया पत्र, सिब्बल और आजाद ने दी सफाई

[

सीडब्ल्यूसी की बैठक जारी है
– फोटो : ANI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर छिड़ी बहस के बीच सोमवार को कांग्रेस कार्यसमिति की आभासी बैठक जारी है। बैठक में पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अध्यक्ष पद के छोड़ने की पेशकश की है। वहीं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और वरिष्ठ नेता एके एंटनी ने उनसे पद पर बने रहने को कहा है। इसके अलावा पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नेतृत्व को लेकर 23 नेताओं द्वारा सोनिया को भेजी गई चिट्ठी को भाजपा के साथ मिलीभगत करार दिया है। जिसपर पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद ने प्रतिक्रिया दी है। यहां पढ़ें सभी अपडेट्स-
राहुल की बात साबित होने पर दे दूंगा इस्तीफा: गुलाम नबी

पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि यदि राहुल गांधी का भाजपा के साथ मिलीभगत वाला बयान साबित हो जाता है तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे।
 

राहुल पर कपिल सिब्बल ने किया पलटवार
सूत्रों के अनुसार, बैठक में राहुल गांधी ने कहा कि ऐसा (पार्टी नेतृत्व में सुधारों के लिए सोनिया गांधी को पत्र) भाजपा के साथ मिलीभगत की वजह से किया गया। इसपर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने जवाब देते हुए कहा, ‘पिछले 30 सालों में हमने कभी भी किसी मुद्दे पर भाजपा के पक्ष में बयान नहीं दिया। इसके बावजूद हम भाजपा के मिलीभगत कर रहे हैं।’
 

पत्र पर चर्चा करने की जगह सीडब्ल्यूसी बैठक है न की मीडिया: राहुल गांधी
सूत्रों के अनुसार, सीडब्ल्यूसी बैठक के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि पत्र (पार्टी नेतृत्व के बारे में सोनिया गांधी) को उस समय लिखा गया था जब राजस्थान में कांग्रेस सरकार संकट का सामना कर रही थी। पत्र में जो कुछ लिखा गया है उसपर चर्चा करने का सही स्थान सीडब्ल्यूसी की बैठक था न कि मीडिया।
 

राहुल गांधी ने पत्र भेजे जाने के समय पर उठाए सवाल
सोनिया गांधी का कहना है कि उन्होंने केसी वेणुगोपाल को एक नोट दिया है (कुछ वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं द्वारा पार्टी नेतृत्व को लिखे गए पत्र का जवाब) और वे इसे पढ़ेंगे। सूत्रों के अनुसार, राहुल गांधी ने पार्टी के सहयोगियों द्वारा पत्र के समय जिक्र करते हुए इसकी आलोचना की। राहुल गांधी ने कहा कि जब सोनिया गांधी अस्पताल में भर्ती थीं उस समय पत्र (पार्टी नेतृत्व पर) क्यों भेजा गया।
 

 

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पार्टी के वरिष्ठ नेता एके एंटनी ने सोनिया गांधी से अगला पार्टी अध्यक्ष चुने जाने तक पद पर बने रहने की अपील की है।
 

सोनिया ने की इस्तीफे की पेशकश
बैठक में पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की इच्छा जाहिर की है। उन्होंने कहा कि मुझे रिप्लेस करने की प्रक्रिया शुरू करें। सूत्रों के अनुसार सोनिया ने सीडब्ल्यूसी सदस्यों से कहा कि उन्हें पार्टी अध्यक्ष के कर्तव्य से मुक्त करने की प्रक्रिया के प्रति विचार-विमर्श शुरू करें।
 

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक हुई शुरू
कांग्रेस कार्यसमिति की आभासी बैठक शुरू हो गई है। इसमें मनमोहन सिंह, प्रियंका गांधी वाड्रा, कैप्टन अमरिंदर सिंह सहित कांग्रेस के नेता शामिल हो गए हैं।
 

कार्यकर्ताओं ने पार्टी कार्यालय के बाहर लगाए नारे
दिल्ली में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पार्टी कार्यालय के बाहर नारे लगाए। उन्होंने मांग की कि पार्टी अध्यक्ष गांधी परिवार से होना चाहिए। कांग्रेस कार्यकर्ता जगदीश शर्मा ने कहा, ‘हम गांधी परिवार से पार्टी अध्यक्ष चाहते हैं। यदि किसी बाहरी व्यक्ति को अध्यक्ष बनाया जाता है तो पार्टी नष्ट और टूट जाएगी।’

सोनिया गांधी करें कांग्रेस का नेतृत्व: कमलनाथ
बैठक से पहले कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा, ‘श्रीमती सोनिया गांधी के नेतृत्व पर कोई भी सुझाव या आक्षेप बेतुका है। मैं श्रीमती सोनिया गांधी से अपील करता हूं कि वे अध्यक्ष के रूप में कांग्रेस पार्टी को मजबूती प्रदान करें और कांग्रेस का नेतृत्व करती रहें।’ मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि श्रीमती सोनिया गांधी के खिलाफ तमाम झूठी अफवाहों के बावजूद उन्होंने 2004 में कांग्रेस पार्टी की जीत का नेतृत्व किया और अटल बिहारी वाजपेयी को घर पर बैठाया।

 

इसके अलावा पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह का कहना है कि वे नेहरू-गांधी परिवार के बिना कांग्रेस की कल्पना नहीं कर सकते हैं और पार्टी का एक साधारण कार्यकर्ता किसी और को पार्टी अध्यक्ष के रूप में स्वीकार नहीं करेगा।

कांग्रेस में केवल हेडमास्टर का बच्चा ही ऊपर पहुंचता है: नरोत्तम मिश्रा
मध्यप्रदेश के मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर जारी खींचतान पर तंज कसते हुए कहा, कांग्रेस में कई योग्य उम्मीदवार हैं (पार्टी अध्यक्ष के पद के लिए) जैसे राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, रेहान वाड्रा और मिराया वाड्रा। कांग्रेस सदस्यों को यह समझना चाहिए कि कांग्रेस उस स्कूल की तरह है जहां केवल हेडमास्टर का बच्चा ही सबसे ऊपर पहुंचता है।
 

 

कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर छिड़ी बहस के बीच सोमवार को कांग्रेस कार्यसमिति की आभासी बैठक जारी है। बैठक में पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अध्यक्ष पद के छोड़ने की पेशकश की है। वहीं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और वरिष्ठ नेता एके एंटनी ने उनसे पद पर बने रहने को कहा है। इसके अलावा पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नेतृत्व को लेकर 23 नेताओं द्वारा सोनिया को भेजी गई चिट्ठी को भाजपा के साथ मिलीभगत करार दिया है। जिसपर पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल और गुलाम नबी आजाद ने प्रतिक्रिया दी है। यहां पढ़ें सभी अपडेट्स-

राहुल की बात साबित होने पर दे दूंगा इस्तीफा: गुलाम नबी

पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि यदि राहुल गांधी का भाजपा के साथ मिलीभगत वाला बयान साबित हो जाता है तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे।

 

राहुल पर कपिल सिब्बल ने किया पलटवार
सूत्रों के अनुसार, बैठक में राहुल गांधी ने कहा कि ऐसा (पार्टी नेतृत्व में सुधारों के लिए सोनिया गांधी को पत्र) भाजपा के साथ मिलीभगत की वजह से किया गया। इसपर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने जवाब देते हुए कहा, ‘पिछले 30 सालों में हमने कभी भी किसी मुद्दे पर भाजपा के पक्ष में बयान नहीं दिया। इसके बावजूद हम भाजपा के मिलीभगत कर रहे हैं।’
 

पत्र पर चर्चा करने की जगह सीडब्ल्यूसी बैठक है न की मीडिया: राहुल गांधी
सूत्रों के अनुसार, सीडब्ल्यूसी बैठक के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि पत्र (पार्टी नेतृत्व के बारे में सोनिया गांधी) को उस समय लिखा गया था जब राजस्थान में कांग्रेस सरकार संकट का सामना कर रही थी। पत्र में जो कुछ लिखा गया है उसपर चर्चा करने का सही स्थान सीडब्ल्यूसी की बैठक था न कि मीडिया।
 

राहुल गांधी ने पत्र भेजे जाने के समय पर उठाए सवाल
सोनिया गांधी का कहना है कि उन्होंने केसी वेणुगोपाल को एक नोट दिया है (कुछ वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं द्वारा पार्टी नेतृत्व को लिखे गए पत्र का जवाब) और वे इसे पढ़ेंगे। सूत्रों के अनुसार, राहुल गांधी ने पार्टी के सहयोगियों द्वारा पत्र के समय जिक्र करते हुए इसकी आलोचना की। राहुल गांधी ने कहा कि जब सोनिया गांधी अस्पताल में भर्ती थीं उस समय पत्र (पार्टी नेतृत्व पर) क्यों भेजा गया।
 

 


आगे पढ़ें

मनमोहन एंटनी ने सोनिया से की पद पर बने रहने की अपील

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Sushant Singh Rajput Case: सीबीआई के सवालों का सामना नहीं कर पा रही है रिया चक्रवर्ती

[ रिया चक्रवर्ती (फाइल फोटो) - फोटो : सोशल मीडिया पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon...

चीन को कड़ा संदेश देना जरूरी, ‘सीमित ऐक्शन’ के पक्ष में है सेना का बड़ा हिस्सा

[Edited By Vishva Gaurav | टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Updated: 19 Jun 2020, 05:37:00 AM IST चीन को सबक सिखाने गूगल...

मैं 22 साल की हूं, मास्टरबेशन से परेशानी तो नहीं होगी?

सवाल: मैं 22 साल की हूं। हाल ही में एक फिल्म देखी जिसमें महिला मास्टरबेट करती है और उसे अच्छा लगता है। फिल्म...

दिल्ली मेट्रो 169 दिन बाद आज से फिर शुरू होगी, शुरुआत सिर्फ एक रूट से

[दिल्ली मेट्रो की सेवाएं सात सितंबर से शुरू होंगी. इसके लिए तैयारियां जारी हैं.नई दिल्ली: दिल्ली की लाइफलाइन मानी जाने वाली दिल्ली मेट्रो...

पीछे हटने की बात कहकर भी LAC पर निर्माण कर रहा चीन, भारतीय इलाके में भी ड्रैगन का काम जारी

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link