Home मुख्य समाचार भारत को रणनीतिक श्रेष्ठता का भ्रम, उकसावे में न आए: चीनी मीडिया

भारत को रणनीतिक श्रेष्ठता का भ्रम, उकसावे में न आए: चीनी मीडिया

[

Edited By Priyesh Mishra | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

चीनी सेना
हाइलाइट्स

  • लद्दाख सीमा विवाद को लेकर दोनों देशों के लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के अफसरों की बैठक से पहले चीनी मीडिया ने साधा निशाना
  • चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने भारत को अमेरिका या किसी और के उकसावे में न आने की चेतावनी दी
  • ग्लोबल टाइम्स ने लिखा- भारत को चीन के प्रति रणनीतिक श्रेष्ठता का भ्रम, उन्हें लगता है कि चीन दे सकता है रियायत

पेइचिंग

लद्दाख सीमा विवाद को हल करने के लिए चीन और भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के अफसरों के बैठक से पहले चीनी मीडिया ने भारत पर जमकर निशाना साधा है। चीन सरकार के प्रोपगेंडा मैगजीन ग्लोबल टाइम्स ने कटाक्ष करते हुए लिखा कि भारत ने धीरे-धीरे चीन के प्रति रणनीतिक श्रेष्ठता का भ्रम पैदा किया है। भारत के कुछ लोगों को लगता है कि चीन सीमा मुद्दे पर रियायत दे सकता है। उन्हें विश्वास है कि चीन, भारत के टूटने से डरता है और भारत को इसका लाभ हो सकता है।

भारत में बढ़ रही चीन विरोधी मानसिकता

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा कि चीन के प्रति विरोध की मानसिकता भारत में बढ़ रही है और इसने भारतीय नीति निर्माताओं पर दबाव डाला है। चीनी और भारतीय नेताओं ने 2018 में एक अनौपचारिक शिखर बैठक की और एक महत्वपूर्ण सहमति पर पहुंच गए थे। पिछले दो वर्षों में दोनों देशों के उच्च-रैंक के अधिकारियों के बीच लगातार संपर्क बना रहा और भारतीय नेताओं ने रणनीतिक शांति दिखाई। उम्मीद है कि इस तरह की शांति विशेषकर सीमा मुद्दे पर अग्रणी भूमिका निभाएगी।

लद्दाख सीमा विवाद: वार्ता से पहले चीन बोला- हालात नियंत्रण में, हर मुद्दे पर होगी बात

भारत को उकसावे में नहीं आना चाहिए

चीनी मीडिया ने लद्दाख में जारी सीमा विवाद के बीच भारत को चेतावनी देते हुए कहा कि उसे अमेरिका या किसी और के उकसावे में नहीं आना चाहिए। मैगजीन ने आरोप लगाया कि वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास गालवान घाटी क्षेत्र में भारत के बुनियादी ढांचे के निर्माण के कारण संघर्ष हुआ था। जिसमें दोनों पक्षों के सैनिक घायल हो गए थे। भारत और चीन ने विवाद को कम करने के लिए सीमा पर कम संख्या में सैनिकों को तैनात किया है।

भारतीय मीडिया पर निशाना

ग्लोबल टाइम्स ने भारतीय मीडिया पर निशाना साधते हुए लिखा कि कुछ भारतीय मीडिया संस्थान चीनी आक्रामकत शब्द का इस्तेमाल कर रहे हैं। यह विवाद को भड़काने वाला है। भारत को उकसावे में नहीं आना चाहिए। चीनी सरकार के मुखपत्र ने राजनाथ सिंह के बारे में लिखा कि भारतीय रक्षा मंत्री ने कहा कि चीन और भारत के बीच एलएसी की धारणा अलग है।

चीन मीडिया ने G7 के विस्‍तार पर दी धमकी, आग से खेल रहा है भारत

सीमा पर बढ़ते संघर्ष का कारण बताया

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा कि चीन-भारत सीमा रेखा और LAC अभी भी अस्पष्ट हैं। पुराने समय में भारतीय और चीनी सेना के बीच पेट्रोलिंग के दौरान संघर्ष की कुछ ही वारदात सामने आई थी। जबकि जबसे दोनों देशों की सेनाओं ने आधुनिकीकरण के स्तर को बढ़ाया है वैसे-वैसे सीमावर्ती क्षेत्रों में इंफ्रास्टक्चर का निर्माण भी बढ़ता जा रहा है। इसी कारण सीमा पर झड़पों की संख्या भी बढ़ी है।

हिंद महासागर पर नजर, पाकिस्तान में नेवल बेस की तैयारी में चीन?

अमेरिका कर रहा हस्तक्षेप

ग्लोबल टाइम्स ने अमेरिका पर निशाना साधते हुए लिखा कि अमेरिका भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद में हस्तक्षेप करना चाहता है, लेकिन न तो चीन और न ही भारत ने इसे स्वीकार किया। चीन और भारत विकास को अपनी प्राथमिकता मानते हैं, दोनों देश सीमा संघर्ष को बढ़ाना भी नहीं चाहते हैं। लेकिन, अमेरिका ने चीन को रणनीतिक रूप से दबाने के लिए भारत का समर्थन करना शुरू कर दिया है।

वो तीन बड़े कारण जिनके चलते लद्दाख में पीछे हटा चीनवो तीन बड़े कारण जिनके चलते लद्दाख में पीछे हटा चीनलद्दाख में भारतीय सरजमीं पर कब्‍जा करने की फिराक में लगे चीन को आखिरकार अपने कदम पीछे खींचने पड़े गए है। चीनी सेना करीब दो किलोमीटर पीछे हट गई है। अंतरराष्‍ट्रीय मामलों के जानकार कमर आगा ने नवभारत टाइम्‍स ऑनलाइन से बातचीत में बताया कि चीन के पीछे हटने को मोटे तौर पर तीन वजहें हैं। देखिए-

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

नेपाल: अपनी कुर्सी बचाने के लिए केपी शर्मा ओली ने भारत संग छेड़ा था सीमा विवाद?

[India-Nepal Border Conflict: पिछले महीने भारत और नेपाल के बीच सीमा को लेकर जारी विवाद के दौरान पड़ोसी देश ने आक्रामक तेवर अपना...

मोदी सरकार ने तैयार किया 3.3 लाख करोड़ का मास्टर प्लान, बनेंगे 23 नए एक्सप्रेसवे और इकॉनमी को मिलेगी रफ्तार

[हाइलाइट्स:NHAI बनाएगी देश में 23 नए एक्सप्रेसवेमार्च 2025 तक पूरा करने का रखा है लक्ष्यइन एक्सप्रेसवे की टोटल डिस्टेंस करीब 7800 किमीइन प्रॉजेक्ट्स...

यूपी में नहीं होंगी विश्वविद्यालय की परीक्षाएं, प्रोन्नत होंगे 48 लाख विद्यार्थी

[ पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद ख़बर सुनें ख़बर सुनें कोरोना संक्रमण के चलते प्रदेश...

Metro Reopening LIVE: 169 दिन बाद आज पटरी पर लौटी मेट्रो, दिल्ली-लखनऊ में सेवा बहाल, पढ़ें हर अपडेट

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

मुजफ्फरनगर : पुलवामा में शहीद हुए प्रशांत शर्मा का पार्थिव शरीर पहुंच घर

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link