Home मुख्य समाचार भगवान जगन्नाथ परिवार सहित 15 दिन के लिए हुए Quarantine....

भगवान जगन्नाथ परिवार सहित 15 दिन के लिए हुए Quarantine….

[

अस्वस्थ हुए भगवान जगन्नाथ, 15 दिन के लिए मंदिर के कपाट बंद

भगवान जगन्नाथ के पुजारी उनके स्वस्थ होने के लिए पूजा करते हैं और 15 दिन तक औषधीय गुणों से युक्त काढ़े का भोग लगाते हैं. पौराणिक कथाओं के अनुसार इसी काढ़े से भगवान 15 दिन में पुन: स्वस्थ होकर आषाढ़ शुक्ल एकम पर भक्तों को दर्शन देते हैं.

उदयपुर. कोरोना संक्रमण (coronavirus infection) के इस दौर में क्वारंटाइन (Quarantine) शब्द सभी की जुबान पर है. लेकिन भगवान जगन्नाथ भी आज अस्वस्थ होकर 15 दिन के लिए भक्तों से दूर हो गए हैं. ऐसे में भक्तों में भगवान के भी क्वारंटाइन हो जाने की चर्चा है. दरअसल यह एक सदियों पुरानी परंपरा हैं जिसके तहत ही इस बार भी भगवान जगन्नाथ बीमार पड़ने के बाद 15 दिन तक अब भक्तों को दर्शन नहीं देंगे. जैसे क्वारंटाइन हुए व्यक्ति को किसी से भी मिलने की अनुमति नहीं होती है, उसी तरह आने वाले 15 दिनों तक भगवान जगन्नाथ के मंदिर (Jagannath Temple) के पट बंद रहेंगे.

औषधीय काढ़े से स्वस्थ होते हैं भगवान
भगवान भक्तों को दर्शन नहीं देंगे और स्वास्थ्य लाभ लेंगे. सदियों पुरानी इस परंपरा के तहत ज्येष्ठ पूर्णिमा के अवसर पर भगवान जगन्नाथ, बलराम और सुभद्रा के साथ सुदर्शन चक्र का 108 घड़ों से स्नान कराया जाता है. स्नान के बाद आमरस और खीर का भोग लगता हैं और फिर परंपरानुसार भगवान जगन्नाथ के मंदिर के द्वार बंद कर दिये जाते हैं. भगवान जगन्नाथ, बलराम, सुभद्रा और सुदर्शन चक्र के 15 दिन के लिए क्वारंटाइन होने पर अब भक्तों को उनके दर्शन नहीं होंगे. मान्यता के अनुसार भगवान जगन्नाथ के पुजारी उनके स्वस्थ होने के लिए पूजा करते हैं और 15 दिन तक औषधीय गुणों से युक्त काढ़े का भोग लगाते हैं. पौराणिक कथाओं के अनुसार इसी काढ़े से भगवान 15 दिन में पुन: स्वस्थ होकर आषाढ़ शुक्ल एकम पर भक्तों को दर्शन देते हैं. अत्यधिक स्नान से बीमार हुए भगवान के दर्शन के लिए भक्त भी 15 दिनों तक इंतजार करते हैं. जगन्नाथ पुरी की तर्ज पर उदयपुर में भी इसी परंपरा का निर्वहन शहर के सेक्टर-7 में स्थित जगन्नाथ मंदिर में किया जाता हैं. परंपरा के अनुसार अभिषेक के दौरान रत्न जड़ित सिंहासन पर विराजित भगवान जगन्नाथ को 35 घड़ों से, बलराम जी को 33 घड़ों से, सुभद्रा जी को 22 घड़ों से और सुदर्शन चक्र को 18 घड़ों से स्नान कराया जाता है.

पुरानी मान्यता हैं कि पूर्णिमा के इस विशेष स्नान के बाद भगवान जगन्नाथ बीमार होने के बाद गणेश का रूप धारण कर लेते हैं. भगवान के पट बंद होने के बाद भक्तों को उनके स्थान पर भगवान मदनमोहन जी के अलौकिक स्वरूप के दर्शन होते हैं. 15 दिनों के बाद भगवान जगन्नाथ पुन: स्वस्थ होकर भक्तों को अपने मनमोहक स्वरूप के दर्शन देते हैं. मान्यता के अनुसार आषाढ़ शुक्ल एकम को भगवान के पुन: दर्शन होंगे और उन्हें 36 तहत के व्यंजनों का भोग लगाया जाएगा. उसके बाद भगवान जगन्नाथ आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को भव्य रथ में सवार होकर नगर भ्रमण पर निकलते हैं. भगवान जगन्नाथ की इस विशाल रथ यात्रा का इंतजार जगन्नाथ पुरी से लेकर उदयपुर तक के भक्तों को बेसब्री से रहता है कि कब भगवान पुन: अपनी बीमारी से स्वस्थ हों और अपने रजत रथ में विराजित होकर नगर भ्रमण करते हुए उन्हें दर्शन दें.ये भी पढ़ें :- जयपुर: हाथी गांव के महावतों ने अपने हाथियों के साथ केरल की सौम्या को दी श्रद्धांजलि

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उदयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: June 5, 2020, 4:03 PM IST

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

HPBOSE 10th Result 2020 Live Updates: बोर्ड ने दी जानकारी, 4.15 बजे होगी प्रेस कॉन्फ्रेंस

; if (d.getElementById(id)) return; js = d.createElement(s); js.id = id; js.async=true; is_fb_sdk=true; js.src="https://connect.facebook.net/en_GB/sdk.js#xfbml=1&version=v3.2&appId=1652954484952398&autoLogAppEvents=1"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk')); } //comment...

Kangana Vs Shiv Sena: हिमाचल लौटकर बोलीं कंगना- जिन्हें किया एक्सपोज, उनके साथ घूमता है आदित्य ठाकरे

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source...

Home Quarantine Guidelines: बाहरी राज्यों से दिल्ली आ रहे लोगों के लिए बदला होम क्वारंटाइन का नियम

[ Publish Date:Thu, 04 Jun 2020 10:47 AM (IST) नई दिल्ली, जागरण संवाददाता।  Home Quarantine Guidelines :  दिल्ली में बाहर से आने वाले ऐसे लोग जिनमें...

लेटर बम: इंदिरा का सहारा ले बोले गुलाम नबी आजाद- यह कोई स्टेट सीक्रेट नहीं

[हाइलाइट्स:जो भी कांग्रेस का हित चाहता है वह उनके 'असहमति पत्र' का स्वागत करेगा: आजादआजाद का जोर, कांग्रेस में हर राज्य और जिले...

भारतीय सेना के साथ झड़प में मारे गए सैनिकों के परिवारों को शांत कराने की कोशिश में ड्रैगन

[चीन ने लद्दाख की गलवान घाटी (Galwan valley) में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास भारतीय सैनिकों के साथ संघर्ष में मारे गए...

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अमित शाह ने संभाली कमान, कोविड वार्ड में CCTV लगवाने के निर्देश

[नई दिल्ली: देश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. भारत में कोरोनावायरस (COVID-19) से 3 लाख 32 हजार से ज्यादा...