Home मुख्य समाचार Atlas Cycle: कभी सालाना बनाती थी 40 लाख साइकिल, बंद हुई देश...

Atlas Cycle: कभी सालाना बनाती थी 40 लाख साइकिल, बंद हुई देश की सबसे बड़ी निर्माता कंपनी

[

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Thu, 04 Jun 2020 12:07 PM IST

एटलस कंपनी ने कर्मचारियों को ले ऑफ किया
– फोटो : सुमित सिसोदिया

ख़बर सुनें

विश्व साइकिल दिवस के मौके पर बुधवार को खबर आई कि देश की 69 साल पुरानी साइकिल कंपनी एटलस ने आर्थिक तंगी के कारण फैक्टरी में काम रोक दिया है। इससे कंपनी में काम करने वाले 450 कर्मचारियों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। पिछले कई सालों से कंपनी आर्थिक संकट से जूझ रही है।
हालांकि एक समय ऐसा भी था जब कंपनी ने सालाना 40 लाख साइकिल बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया था। अब ले-ऑफ नोटिस में कंपनी के प्रबंधक ने कहा कि संचालकों के पास फैक्टरी चलाने के लिए रकम नहीं है। कच्चा माल खरीदने तक के पैसे नहीं हैं। इसलिए कर्मचारियों को तीन जून से ले-ऑफ करने के लिए कहा गया है। ऐसे में आज हम आपको बताते हैं कपंनी की शुरुआत कैसे हुई और कैसे इसने अपनी पहचान बनाई।

 

  • जानकी दास कपूर ने इस कंपनी की स्थापना की थी। 1951 में पहले ही साल कंपनी ने 12 हजार साइकिल बनाने का रिकॉर्ड बनाया था।
  • 1965 तक यह देश की सबसे बड़ी साइकिल निर्माता कंपनी बन गई।
  • 1978 में भारत में पहली रेसिंग साइकिल पेश करके कंपनी ने दुनिया में शीर्ष साइकिल उत्पादक कंपनियों में से एक होने का गौरव हासिल किया था।
  • कंपनी को ब्रिटिश स्टैंडर्ड इंस्टीट्यूशन से आइएसओ 9001-2015 सर्टिफिकेशन के साथ मान्यता मिली।
  • कंपनी ने सभी आयु समूहों के लिए साइकिल की एक विस्तृत श्रृंखला पेश की।

यह भी पढ़ें- विश्व साइकिल दिवस के दिन एटलस हुई बंद: कंपनी ने फैक्टरी के कर्मचारियों को भेजा घर, अब रोजी-रोटी की दिक्कत

ये है एटलस की साइकिल यात्रा (कंपनी की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार)

  • 1951 में स्थापना के बाद पहले साल में ही 12 हजार साइकिल बनाई।
  • 1958 में पहली खेप निर्यात की गई।
  • 1965 में सबसे बड़ी साइकिल निर्माता कंपनी बनी। निर्यात का भी रिकॉर्ड बनाया।
  • 1978 में पहली रेसिंग साइकिल के साथ सभी उम्र के लोगों की श्रृंखला पेश की।
  • कंपनी को इटली का गोल्ड मर्करी इंटरनेशनल अवॉर्ड मिला है।
  • 2003 में एटलस ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज का पुनर्गठन हुआ, जिसके अध्यक्ष जयदेव कपूर बने।
  • 2005 में विदेशों में कई कंपनियों के साथ रणनीतिक गठजोड़ किया।

क्या होता है ले-ऑफ?
कंपनी के पास जब उत्पादन के लिए पैसे नहीं होते हैं, तो उस परिस्थिति में कंपनी कर्मचारियों की छंटनी न करके और किसी प्रकार का अतिरिक्त काम न कराकर सिर्फ उनकी हाजिरी लगवाती है। कंपनी का कर्मचारी रोजाना गेट पर आकर अपनी हाजिरी नोट कराएगा और उसी हाजिरी के आधार पर कर्मचारी को आधे वेतन का भुगतान किया जाएगा।

विश्व साइकिल दिवस के मौके पर बुधवार को खबर आई कि देश की 69 साल पुरानी साइकिल कंपनी एटलस ने आर्थिक तंगी के कारण फैक्टरी में काम रोक दिया है। इससे कंपनी में काम करने वाले 450 कर्मचारियों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। पिछले कई सालों से कंपनी आर्थिक संकट से जूझ रही है।

हालांकि एक समय ऐसा भी था जब कंपनी ने सालाना 40 लाख साइकिल बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया था। अब ले-ऑफ नोटिस में कंपनी के प्रबंधक ने कहा कि संचालकों के पास फैक्टरी चलाने के लिए रकम नहीं है। कच्चा माल खरीदने तक के पैसे नहीं हैं। इसलिए कर्मचारियों को तीन जून से ले-ऑफ करने के लिए कहा गया है। ऐसे में आज हम आपको बताते हैं कपंनी की शुरुआत कैसे हुई और कैसे इसने अपनी पहचान बनाई।

 

  • जानकी दास कपूर ने इस कंपनी की स्थापना की थी। 1951 में पहले ही साल कंपनी ने 12 हजार साइकिल बनाने का रिकॉर्ड बनाया था।
  • 1965 तक यह देश की सबसे बड़ी साइकिल निर्माता कंपनी बन गई।
  • 1978 में भारत में पहली रेसिंग साइकिल पेश करके कंपनी ने दुनिया में शीर्ष साइकिल उत्पादक कंपनियों में से एक होने का गौरव हासिल किया था।
  • कंपनी को ब्रिटिश स्टैंडर्ड इंस्टीट्यूशन से आइएसओ 9001-2015 सर्टिफिकेशन के साथ मान्यता मिली।
  • कंपनी ने सभी आयु समूहों के लिए साइकिल की एक विस्तृत श्रृंखला पेश की।

यह भी पढ़ें- विश्व साइकिल दिवस के दिन एटलस हुई बंद: कंपनी ने फैक्टरी के कर्मचारियों को भेजा घर, अब रोजी-रोटी की दिक्कत

ये है एटलस की साइकिल यात्रा (कंपनी की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार)

  • 1951 में स्थापना के बाद पहले साल में ही 12 हजार साइकिल बनाई।
  • 1958 में पहली खेप निर्यात की गई।
  • 1965 में सबसे बड़ी साइकिल निर्माता कंपनी बनी। निर्यात का भी रिकॉर्ड बनाया।
  • 1978 में पहली रेसिंग साइकिल के साथ सभी उम्र के लोगों की श्रृंखला पेश की।
  • कंपनी को इटली का गोल्ड मर्करी इंटरनेशनल अवॉर्ड मिला है।
  • 2003 में एटलस ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज का पुनर्गठन हुआ, जिसके अध्यक्ष जयदेव कपूर बने।
  • 2005 में विदेशों में कई कंपनियों के साथ रणनीतिक गठजोड़ किया।

क्या होता है ले-ऑफ?
कंपनी के पास जब उत्पादन के लिए पैसे नहीं होते हैं, तो उस परिस्थिति में कंपनी कर्मचारियों की छंटनी न करके और किसी प्रकार का अतिरिक्त काम न कराकर सिर्फ उनकी हाजिरी लगवाती है। कंपनी का कर्मचारी रोजाना गेट पर आकर अपनी हाजिरी नोट कराएगा और उसी हाजिरी के आधार पर कर्मचारी को आधे वेतन का भुगतान किया जाएगा।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

S Jaishankar on India-China Dispute: लद्दाख में सैन्य स्तर की मीटिंग से पहले बोले एस जयशंकर, चीन से मुकाबला करना होगा

[Edited By Vishnu Rawal | टाइम्स ऑफ इंडिया | Updated: 02 Aug 2020, 09:31:00 AM IST अड़ियल चीन के खिलाफ भारत...

दिल्ली में काबू हुआ कोरोना? केजरीवाल सरकार का दावा- अस्पतालों में कोविड-19 के 78 फीसदी बेड पड़े हैं खाली

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

चीन ने सीमा पर इकट्ठा किया गोला-बारूद, हमारी सेना भी तैयार: लद्दाख गतिरोध पर संसद में बोले राजनाथ सिंह

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

Bihar Assembly Election: शूटर श्रेयसी सिंह मां संग थाम लेंगी लालू की लालटेन! जल्‍द उठेगा पर्दा

[ Publish Date:Wed, 09 Sep 2020 07:13 AM (IST) बांका, जेएनएन। Bihar Assembly Election: इंटरनेशनल शूटर तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह व पूर्व...

कोरोना प्रभावित देशों में स्पेन को पीछे छोड़ भारत 5वें नंबर पर, 2 लाख 43 हजार से अधिक मरीज; 6600 से ज्यादा मौत

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

भारतीय सेना ने उखाड़ फेंके चीन के जासूसी उपकरण, चुशूल के ब्लैक टॉप की कहानी, निशाने पर भारत और चीन के सैनिक

[हाइलाइट्स:भारत और चीन के बीच तनाव फिर से पहुंचा चरम पर पूर्वी लद्दाख के कई ऊंचाई वाले इलाकों में भारतीय सेना ने बनाई...