Home मुख्य समाचार आ गया ऐतिहासिक कानून, अब हर किसान अपनी फसल से बनेगा मालामाल

आ गया ऐतिहासिक कानून, अब हर किसान अपनी फसल से बनेगा मालामाल

[

नई दिल्ली: आखिरकार किसानों के लिए वो खबर आ ही कई जिसका वे बरसों से इंतजार कर रहे थे. केंद्र सरकार ने किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें मजबूती प्रदान करने वाले प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. केंद्र सरकार ने मंडियों और इंस्पेक्टर राज को हटाने वाले कानून को लागू कर दिया है. अब देश का किसान भी अमीर बनेगा. उसे अपने अनाज को कहीं भी बेचने की आजादी होगी.

‘वन नेशन, वन एग्री मार्केट’ कानून को मिली मंजूरी
किसानों के लिए ‘वन नेशन, वन एग्री मार्केट’ (One Nation – One Agri Market) का मार्ग प्रशस्त करते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को अधिसूचित एपीएमसी मंडियों के बाहर बाधा मुक्त व्यापार की अनुमति देने वाले अध्यादेश को मंजूरी दे दी.  बताते चलें कि कृषि उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अध्यादेश, 2020 (The Farming Produce Trade and Commerce (Promotion and Facilitation) Ordinance), राज्य सरकारों को मंडियों के बाहर किए गए कृषि उपज की बिक्री और खरीद पर कर लगाने से रोकता है और किसानों को लाभकारी मूल्य पर अपनी उपज बेचने की स्वतंत्रता देता है.

मंत्रिमंडल के फैसले की घोषणा करते हुए, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, ‘मौजूदा एपीएमसी मंडियां काम करना जारी रखेंगी. राज्य एपीएमसी कानून बना रहेगा. लेकिन मंडियों के बाहर, अध्यादेश लागू होगा.’ उन्होंने कहा कि अध्यादेश मूल रूप से एपीएमसी मार्केट यार्ड के बाहर अतिरिक्त व्यापारिक अवसर पैदा करने के लिए है ताकि अतिरिक्त प्रतिस्पर्धा के कारण किसानों को लाभकारी मूल्य मिल सके.

उन्होंने कहा कि पैन कार्ड वाले किसी भी किसान से लेकर कंपनियां, प्रोसेसर और एफपीओ अधिसूचित मंडियों के परिसर के बाहर बेच सकते हैं. खरीदारों को तुरंत या तीन दिनों के भीतर किसानों को भुगतान करना होगा और माल की डिलीवरी के बाद एक रसीद प्रदान करनी होगी. उन्होंने कहा कि मंडियों के बाहर व्यापार करने के लिए कोई ‘इंस्पेक्टर राज’ नहीं होगा. मंत्री ने कहा कि मंडियों के बाहर बाधा रहित व्यापार करने में कोई कानूनी बाधा नहीं आएगी.

ये भी पढ़ें: विजय माल्‍या को जल्‍द ही लाया जाएगा भारत, बैंकों का 9000 करोड़ रुपया बकाया

बताते चलें कि मौजूदा समय में, किसानों को पूरे देश में फैली 6,900 एपीएमसी (कृषि उपज विपणन समितियों) मंडियों में अपनी कृषि उपज बेचने की अनुमति है. मंडियों के बाहर कृषि उपज बेचने में किसानों के लिए प्रतिबंध हैं.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

भास्कर एक्सप्लेनर: भारत और चीन की सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में पैंगॉन्ग झील के पास हुए संघर्ष के बारे मे… – Dainik Bhaskar

[3 घंटे पहलेकॉपी लिंकभारतीय सेना ने चीन के दावे वाले इलाकों में पहाड़ों पर कब्जा किया ताकि उसकी सेना पर नजर रख सकेंचीनी...

कोरोना प्रबंधन में मदद के लिए चार आईएएस अधिकारियों का तत्काल दिल्ली तबादला

https://www.youtube.com/watch?v=8BC7IHmli3A गृह मंत्री ने केंद्र से दो अन्य वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों, एससीएल दास और एसएस यादव को भी दिल्ली सरकार के साथ काम कोरोना...

देश के 83 जिलों में 0.73% आबादी ही कोरोना से संक्रमित, कोविड-19 मरीजों की मृत्यु दर भारत में सबसे कम

[Edited By Naveen Kumar Pandey | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 11 Jun 2020, 05:04:00 PM IST हाइलाइट्सICMR ने देशभर के 83 जिलों...

सावधान इंडिया और क्राइम पेट्रोल का शौकीन मास्टरमाइंड, 5वीं पास साथी ने निकाली थी सर्विलांस की काट

[ Publish Date:Sat, 25 Jul 2020 10:32 AM (IST) कानपुर, जेएनएन। संजीत के अपहरण की वारदात को अंजाम देने के लिए 20 से 25...

India China dispute : राजनाथ सिंह के बयान पर कांग्रेस हमलावर, राहुल गांधी बोले- देश सेना के साथ लेकिन चीन के खिलाफ कब खड़े होंगे PM मोदी

[हाइलाइट्स:रक्षामंत्री के बयान से हुआ साफ़, PM मोदी ने देश को गुमराह किया: राहुल गांधीराहुल गांधी बोले- मोदी जी, आप कब चीन के...

चीन के साथ तनातनी के बीच बिना किसी रुकावट तीसरे रास्ते ऐसे लद्दाख पहुंचेगी भारतीय सेना

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link