Home मुख्य समाचार भारत के खिलाफ टिप्‍पणी कर अपने ही देश में घ‍िरे नेपाली प्रधानमंत्री...

भारत के खिलाफ टिप्‍पणी कर अपने ही देश में घ‍िरे नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली

[

नेपाल ने भारत के इन क्षेत्रों में घुसपैठ को बताया सही
हाइलाइट्स

  • नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली का अब अपने ही देश में विरोध तेज होता जा रहा है
  • चीन को खुश करने के लिए एक के बाद एक भारत विरोधी बयान दे रहे हैं पीएम ओली
  • प्रधानमंत्री ओली पर सत्‍ता छोड़ने के लिए कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के अंदर दबाव बढ़ता जा रहा है
  • सत्‍ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने भारत को लेकर ओली पर हमला बोला है

काठमांडू

चीन को खुश करने के लिए एक के बाद एक भारत विरोधी बयान देने वाले नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली का अब अपने ही देश में विरोध तेज होता जा रहा है। एक तरफ सत्‍ता छोड़ने के लिए पीएम ओली पर दबाव बढ़ता जा रहा है, वहीं भारत को लेकर वह अपनी ही पार्टी में घ‍िरते जा रहे हैं। सत्‍ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा है कि ओली ने हाल में ‘कूटनीति के स्थापित मानकों के विपरीत’ ‘चिढ़ाने वाले’ भारत विरोधी बयान देकर तीन गलतियां की हैं।

पिछले महीने, प्रधानमंत्री ओली ने आरोप लगाया था कि भारत उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के साथ मिलकर उन्हें सत्ता से बाहर करने की साजिश कर रहा है। उनका यह बयान नेपाल द्वारा एक नया नक्शा मंजूर करने के लिए एक विधेयक पारित करने के बाद आया जिसमें नेपाल और भारत के बीच विवाद के केंद्र रहे इलाके – लिपुलेख दर्रा, कालापानी और लिंपियाधुरा को नेपाल के क्षेत्र के तौर पर दिखाया गया था। ओली ने उसके बाद इस महीने यह दावा करके एक नया विवाद उत्पन्न कर दिया कि ‘असली’ अयोध्या भारत में नहीं बल्कि नेपाल में है और भगवान राम का जन्म दक्षिण नेपाल के थोरी में हुआ था।

‘ओली के बयान कूटनीति के स्थापित मानकों के विपरीत’

ओली की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कम्युनिस्ट पार्टी आफ नेपाल (सीपीएन) के प्रवक्ता और सेंट्रल सेक्रेटैरिएट के सदस्य नारायणकाजी श्रेष्ठ ने प्रधानमंत्री ओली के बयानों को ‘कूटनीति के स्थापित मानकों के विपरीत’ करार दिया। उन्होंने कहा,‘प्रधानमंत्री ओली ने भारत के खिलाफ चिढ़ाने वाले बयान देकर एक बहुत बड़ी गलती की, ऐसे समय में जब सीमा मुद्दे को (दक्षिणी पड़ोसी के साथ) बातचीत के जरिये सुलझाने की जरूरत है।’

प्रवक्ता ने ‘हिमालयन टीवी’ के साथ एक साक्षात्कार में कहा, ‘प्रधानमंत्री ओली द्वारा भारत के राष्ट्रीय चिह्न का उल्लेख करते हुए चिढ़ाने वाले बयान देकर कालापानी और लिपुलेख की विवादित भूमि पर दावा करना एक गलती थी।’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ओली ने भारत के संबंध में तीन गलतियां की, हालांकि सरकार द्वारा एक नया नक्शा जारी करके कालापानी और अन्य क्षेत्रों पर किया गया दावा सराहनीय था।

‘ओली ने भगवान राम की जन्‍मभूमि को नेपाल में बताया’

नारायणकाजी ने कहा कि पहली ग़लती भारत के चिह्न ‘सत्यमेव जयते’ के बारे में चिढ़ाने वाले तरीके से बोलकर की गई, दूसरी ग़लती भारत पर अपनी सरकार को गिराने की साजिश रचने के लिए दोष मढ़ना था जो कि निराधार है, और तीसरी गलती उन्होंने यह दावा करके की कि भगवान राम की जन्मभूमि अयोध्या नेपाल के बीरगंज के पास स्थित है।

नेपाल में दिखा चीनी राजदूत के दबाव का असरनेपाल में दिखा चीनी राजदूत के दबाव का असर

ओली को बचाने के लिए चीनी राजदूत ने झोकी पूरी ताकत

बता दें कि नेपाल में चीन की राजदूत हाओ यांकी ने ओली को बचाने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी है। हाओ लगातार ओली के विरोधी प्रचंड और कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के अन्‍य नेताओं पर समझौते के ल‍िए दबाव डाल रही हैं। खुफिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि नेपाली पीएम देश में चीन की राजदूत हाओ यांकी के इशारे पर भारत विरोधी सभी कदम उठा रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि नेपाल के नक्शे को नए सिरे से परिभाषित करने के लिए चीनी राजदूत ने प्रधानमंत्री ओली को प्रेरित करने का काम किया है।

खुफिया सूत्रों ने कहा कि हिमालयी गणराज्य नेपाल में युवा चीनी राजदूत होउ यानकी नेपाल की सीमा को फिर से परिभाषित किए जाने के लिए कॉमरेड ओली के कदम के पीछे एक प्रेरणादायक कारक रही हैं। यानी नेपाल जो भारत के कालापानी और लिपुलेख को अपने नक्शे में दर्शा रहा है, उसके पीछे चीनी राजदूत की ही कूटनीति और दिमाग काम कर रहा है। पाकिस्तान में 3 साल तक काम कर चुकीं चीनी राजदूत का ओली के कार्यालय और निवास में अक्‍सर आना-जाना लगा रहता है। चीनी राजदूत को नेपाल में सबसे शक्तिशाली विदेशी राजनयिकों में से एक माना जाता है।

भारत के ख‍िलाफ ट‍िप्‍पणी कर अपने ही देश में घ‍िरे नेपाली प्रधानमंत्री

भारत के ख‍िलाफ ट‍िप्‍पणी कर अपने ही देश में घ‍िरे नेपाली प्रधानमंत्री

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

पिछले 24 घंटे में 6.6 लाख से ज्यादा टेस्ट, पहले लॉकडाउन के बाद से मृत्यु दर घटी- स्वास्थ्य मंत्रालय

[ Coronavirus Covid-19 Tracker India News Live Updates: कोरोना वायरस मामले को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से प्रेस कॉफ्रेंस में सचिव राजेश भूषण ने...

New Coronavirus Symptoms: सूंघने, स्वाद लेने की शक्ति अचानक खत्म होना भी हो सकते हैं कोरोनावायरस के लक्षण

[भारत में कोरोनावायरस के मामले 3 लाख के पार पहुंच चुके हैंNew Coronavirus Symptoms: केंद्र सरकार ने सूंघने (Loss Of Smell), स्वाद लेने (Loss...

चीन के हरेक हवाई ठिकाने पर इंडियन एयरफोर्स की नजर, जवाबी कार्रवाई के लिए तैयार

[Indian Air Force vs China Air Force: भारतीय वायुसेना चीन की हर हरकत पर नजर बनाए हुए है। यही नहीं एयरफोर्स ने चीनी...

महिला से बनी कोरोना की चेन; सैंपल देने के 4 दिन बाद आई रिपोर्ट, तब तक घर में रही और किराएदारों से मिलती रही

[ सुभाषचौक क्षेत्र में पानों का दरीबा स्थित एक मकान में 9 जून को हुआ था कोरोना विस्फोटसबसे पहले 5 जून को एक बंगाली...

UP में ताबड़तोड़ एनकाउंटर जारी, पांच शातिर बदमाश चढ़े पुलिस के हत्थे

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source...

Unlock-1 गाइडलाइन : अगर जाना है मंदिर-मस्जिद, रेस्तरां-मॉल या दफ्तर, इन 15 बड़ी बातों का रखना होगा विशेष ध्यान

[नई दिल्ली: कोरोनावायरस (Coronavirus) के संक्रमण की वजह से लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन में ढील देने की प्रक्रिया शुरू...