Home मुख्य समाचार नई शिक्षा नीति की घोषणा, सरकार ने स्कूल और उच्च शिक्षा में...

नई शिक्षा नीति की घोषणा, सरकार ने स्कूल और उच्च शिक्षा में किए बड़े बदलाव

[

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

नई शिक्षा नीति को मंजूरी मिल गई है. केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Union minister Prakash Javadekar) ने बताया कि कैबिनेट बैठक में आज नई शिक्षा नीति को मंजूरी दी गई है. उन्होंने बताया कि 34 साल से शिक्षा नीति में परिवर्तन नहीं हुआ था, इसलिए ये बेहद महत्वपूर्ण है. इसके बाद बाकायदा प्रेजेंटेशन देकर नई शिक्षा नीति के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है. इस दौरान केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक भी मौजूद रहे.

यह भी पढ़ें

शिक्षा नीति में जो बदलाव किए गए हैं उनकी जानकारी दी गई है. नई शिक्षा नीति में स्कूल एजुकेशन से लेकर हायर एजुकेशन तक कई बड़े बदलाव किए गए हैं. हायर एजुकेशन के लिए सिंगल रेगुलेटर रहेगा (लॉ और मेडिकल एजुकेशन को छोड़कर). उच्च शिक्षा में 2035 तक 50 फीसदी GER पहुंचने का लक्ष्य है.

मल्टीपल एंट्री और एग्जिट सिस्टम लागू किया गया है. आज की व्यवस्था में अगर चार साल इंजीनियरंग पढ़ने या 6 सेमेस्टर पढ़ने के बाद किसी कारणवश आगे नहीं पढ़ पाते हैं तो कोई उपाय नहीं होता, लेकिन मल्टीपल एंट्री और एग्जिट सिस्टम में 1 साल के बाद सर्टिफिकेट, 2 साल के बाद डिप्लोमा और 3-4 साल के बाद डिग्री मिल जाएगी. स्टूडेंट्स के हित में यह एक बड़ा फैसला है. 

स्कूली शिक्षा में बदलाव

स्कूल शिक्षा की सचिव ने स्कूलों को लेकर किए गए बदलाव की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि 6-9 वर्ष के जो बच्चे आमतौर पर 1-3 क्लास में होते हैं उनके लिए नेशनल मिशन शुरू किया जाएगा ताकि बच्चे बुनियादी साक्षरता और न्यूमरेसी को समझ सकें. स्कूली शिक्षा के लिए खास करिकुलर 5+3+3+4 लागू किया गया है. इसके तहत 3-6 साल का बच्चा एक ही तरीके से पढ़ाई करेगा ताकि उसकी फाउंडेशन लिटरेसी और न्यमरेसी को बढ़ाया जा सके. इसके बाद मिडिल स्कूल याना 6-8 कक्षा में सब्जेक्ट का इंट्रोडक्शन कराया जाएगा. फिजिक्स के साथ फैशन की पढ़ाई करने की भी इजाजत होगी. कक्षा 6 से ही बच्चों को कोडिंग सिखाई जाएगी.

रिसर्च में किया गया बदलाव

प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि जो रिसर्च में जाना चाहते हैं उनके लिए 4 साल का डिग्री प्रोग्राम होगा. जबकि जो लोग नौकरी में जाना चाहते हैं वो तीन साल का ही डिग्री प्रोग्राम करेंगे. लेकिन जो रिसर्च में जाना चाहते हैं वो एक साल के एमए (MA) के साथ चार साल के डिग्री प्रोग्राम के बाद पीएचडी (PhD) कर सकते हैं. इसके लिए एमफिल (M.Phil) की जरूरत नहीं होगी.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

पेट में गैस बनाने से परेशान है तो करे एक छोटा सा काम, बस आधा चम्मच खा ले

जिन लोगो को पेट में गैस की समस्या रहती है उन को गैस के कारण डकारें आना, ब्लड प्रेशर बढ़ना ,बॉडी और...

यूपी: अब गाड़ी चलाते वक्त मोबाइल पर बात करना पड़ेगा भारी, लगेगा 10 हजार का जुर्माना, पढ़ें पूरी अधिसूचना

[ पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200 ख़बर सुनें ख़बर सुनें राज्य सरकार ने...

‘देश के जवान मारते-मारते मरे हैं, हमारे सैनिकों का बलिदान व्यर्थ नहीं होगा’

[ India-China Border Face-Off Today Latest News Live Updates: भारत और चीन की सेनाओं के बीच लद्दाख के गलवान रिवर फ्रंट पर सोमवार रात हुई...

जंग में छूटेंगे दुश्मनों के पसीने, इस मिसाइल से और घातक बना राफेल

,(a=t.createElement(n)).async=!0,a.src="https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js",(f=t.getElementsByTagName(n)).parentNode.insertBefore(a,f))}(window,document,"script"),fbq("init","465285137611514"),fbq("track","PageView"),fbq('track', 'ViewContent'); Source link

भारत ने ‘ग्लोबल टाइम्स’ की रिपोर्ट को किया खारिज, मॉस्को में चीनी रक्षा मंत्री से नहीं मिलेंगे राजनाथ सिंह

[नई दिल्ली: भारत ने चीन के मुखपत्र 'ग्लोबल टाइम्स' के उस रिपोर्ट को खारिज कर दिया है, जिसमें यह कहा गया था कि...

कंगना ने अब उद्धव के बेटे का नाम लिया, चीन के पास चॉकलेट सोल्जर और संसद सत्र से पहले 17 सांसदों को कोरोना

[Hindi NewsNationalKangana Now Names Uddhav's Son, Chocolate Soldier Near China And Corona To 17 MPs Before Parliament Sessionनई दिल्ली2 घंटे पहलेकंगना रनोत हिमाचल...