Home मुख्य समाचार First batch of Rafale : वायुसेना प्रमुख अंबाला में करेंगे पांच राफेल...

First batch of Rafale : वायुसेना प्रमुख अंबाला में करेंगे पांच राफेल लड़ाकू विमानों की अगवानी

[

Welcome Rafale : वायुसेना के सूत्रों बताया कि एयरफोर्स चीफ आर के एस भदौरिया बुधवार को राफेल युद्धक विमानों को रिसीव करने अंबाला में होंगे। शेड्यूल के मुताबिक पांचो राफेल यूएई के एयरबेस से सुबह 11 बजे भारत के लिए उड़ान भरेंगे।

Edited By Naveen Kumar Pandey | एजेंसियां | Updated:

Birds Eye View : जब रक्षा मंत्री राजनाथ ने भरी थी राफेल में उड़ान
हाइलाइट्स

  • राफेल विमानों की पहली खेप बुधवार दोपहर 2 बजे भारत पहुंच जाएगी
  • इस खेप में पांच फाइटर जेट्स हैं जो 11 बजे संयुक्त अरब अमीरात से उड़ान भरेंगे
  • सोमवार को फ्रांस से सात घंटे की उड़ान के बाद ये विमान अल दफ्रा एयरबेस पहुंचे थे
  • अंबाला में राफेल की अगवानी एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया करेंगे

नई दिल्ली

भारतीय वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया बुधवार को अंबाला हवाई अड्डे पर पांच राफेल लड़ाकू विमान की अगवानी और स्वागत करेंगे। जेट विमानों ने सोमवार को फ्रांसीसी शहर बोर्डो में मेरिनैक एयर बेस से उड़ान भरी थी। बेड़े में तीन सिंगल सीटर और दो जुड़वा सीट वाले विमान शामिल हैं। इन्हें भारतीय वायुसेना में इसके 17वें स्क्वैड्रन के हिस्से के रूप में शामिल किया जाएगा, जिसे अंबाला एयर बेस पर ‘गोल्डन एरो’ के रूप में भी जाना जाता है। ये विमान लगभग सात हजार किलोमीटर का सफर तय करके अंबाला वायुसेना अड्डे पर उतरेंगे।



सुबह 11 बजे UAE से भरेंगे उड़ान


वायुसेना के सूत्रों ने कहा, ‘एयरफोर्स चीफ कल (बुधवार को) युद्धक विमानों को रिसीव करने अंबाला में होंगे जिन्हें 2016 में 60 हजार करोड़ रुपये के देश के सबसे बड़े रक्षा सौदे के हिस्से के रूप में शामिल किया जा रहा है।’ उन्होंने बताया कि अभी पांचों राफेल विमान संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के अल दफ्रा एयरबेस पर खड़े हैं। वो बुधवार को सुबह 11 बजे भारत के लिए उड़ान भरेंगे और दोपहर 2 बजे अंबाला एयरबेस पहुंच जाएंगे। राफेल को उड़ाकर लाने वाले पायलट्स अपने ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह की अगुवाई में अंबाला में ही एयर चीफ को बताएंगे कि उन्हें फ्रांस में किस प्रकार की ट्रेनिंग मिली है।

बाद में आयोजित होगा समारोह


शेड्यूल के मुताबिक, राफेल जल्द ही अंबाला से दूसरे एयरबेस रवाना होंगे। 17 स्क्वैड्रन के कमांडिंग ऑफिसर हरकीरत सिंह ग्रुप कमांडर की भूमिका में हैं जबकि उनके साथ विंग कमांडर एमके सिंह और विंग कमांडर आर कटारिया भी पायलट दल में शामिल हैं। अगर अंबाला में मौसम खराब हो गया तो फिर सभी राफेल को राजस्थान के जोधपुर एयरबेस पर उतारा जाएगा। वायुसेना में राफेल को शामिल किए जाने का समारोह बाद में आयोजित किया जाएगा।

चीन से टक्कर, भारत को जल्द ‘शिकारी’ देगा US

राफेल को उड़ाने वाले 'गोल्डन एरो' स्क्वॉड्रन की शौर्य गाथाराफेल को उड़ाने वाले ‘गोल्डन एरो’ स्क्वॉड्रन की शौर्य गाथा

अंबाला वायु सेना केंद्र के आसपास धारा 144

फ्रांस से पांच राफेल लड़ाकू विमानों के आने के पहले मंगलवार को अंबाला वायु सेना केंद्र के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई और निषेधाज्ञा लागू की गई है। वहां वीडयोग्राफी और फोटो खिंचने पर रोक लगा दी गई। एक अधिकारी ने बताया कि अंबाला जिला प्रशासन ने वायुसेना केंद्र के तीन किलोमीटर के दायरे में लोगों के ड्रोन उड़ाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। उपायुक्त अशोक शर्मा ने एक आदेश में कहा कि धुलकोट, बलदेव नगर, गरनाला और पंजखोड़ा समेत वायु सेना के आसपास के गांवों में धारा 144 लगा दी गयी है जिसके तहत चार या अधिक लोगों के जमा होने पर प्रतिबंध है।

कल पहुंचेंगे 5 राफेल, अंबाला में धारा 144 लगीकल पहुंचेंगे 5 राफेल, अंबाला में धारा 144 लगी

फ्रांसीसी टैंकर ने बीच हवा में भरा ईंधन

राफेल लड़ाकू विमानों में एक फ्रांसीसी टैंकर ने 30 हजार फुट की ऊंचाई पर बीच हवा में ही ईंधन भरा। भारतीय वायुसेना ने इसकी तस्वीरों के साथ ट्वीट किया, ‘भारतीय वायुसेना हमारे राफेल विमानों की घर वापसी की यात्रा में फ्रांसीसी वायुसेना द्वारा उपलब्ध कराए गए सहयोग के लिए उनकी सराहना करती है।’ अधिकारियों ने कहा कि पांच राफेल विमान सोमवार की शाम को करीब सात घंटों की उड़ान के बाद संयुक्त अरब अमीरात के अल दाफरा हवाईअड्डे पर पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि फ्रांस से भारत आ रहे इन लड़ाकू विमानों के लिए यही एक ठहराव था।



तबाही का नाम राफेल


वायुसेना के बेड़े में राफेल के शामिल होने से उसकी युद्ध क्षमता में महत्वपूर्ण वृद्धि होने की उम्मीद है। यह विमान विभिन्न प्रकार के शक्तिशाली हथियारों को ले जाने में सक्षम है। यूरोपीय मिसाइल निर्माता एमबीडीएस की मिटोर, स्कैल्प क्रूज मिसाइल, मीका हथियार प्रणाली राफेल लड़ाकू विमानों के हथियार पैकेज में शामिल है।

UAE से सीधे अंबाला एयरबेस पर उतरेंगे राफेल

  • UAE से सीधे अंबाला एयरबेस पर उतरेंगे राफेल

    राफेल लड़ाकू विमानों को हवा में रीफ्यूलिंग के लिए भारतीय वायुसेना ने फ्रांसीसी एयरफोर्स को उसके सहयोग के लिए शुक्रिया अदा किया। ये राफेल करीब 10 घंटे का सफर तय करके भारत आने वाले हैं। इन्हें सात घंटे की उड़ान के बाद अबूधाबी में रोका गया। वहां राफेल अल दफ्रा एयरबेस पर उतरे। वहां पायलट और जेट्स को आराम देने के लिए रोका गया था। करीब 10 घंटे के सफर में राफेल में एक बार और हवा में तेल भरा जाएगा, इसके लिए अलग से दो विमान उड़ान भर रहे हैं।

  • राफेल की रफ्तार

    राफेल का हिंदी में मतलब है ‘आग का गोला’। राफेल फाइटर जेट अपने नाम के अनुसार ही हवा के तेज झोंके की तरह से आते हैं और आग के गोले की तरह से दुश्‍मन को बर्बाद कर देते हैं। राफेल फाइटर जेट को तबाही का हथियार बनाते हैं, उसके चार बेजोड़ हथियार जिनका नाम सुनते ही दुश्‍मनों के होश उड़ जाते हैं। ध्यान रहे कि चीन और पाकिस्‍तान के साथ जारी तनाव के बीच इंडियन एयरफोर्स के हथियारों के जखीरे में राफेल नाम के ‘ब्रह्मास्‍त्र’ शामिल होने जा रहे हैं। राफेल फाइटर जेट 1,389 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भर सकता है।

  • अंबाला में इंतजार

    रविवार को जब राफेल ने फ्रांस में दसॉ एविएशन फसिलिटी से उड़ान भरी तो इंडियन फोर्स ने बताया था कि फ्रेंच एयर फोर्स के टैंकर से इन फाइटर जेट्स में हवा में ही ईंधन भरा जाएगा। उसके बाद 29 जुलाई को अंबाला एयरबेस पर सारे राफेल उतरेंगे। इस कारण अंबाला एयरफोर्स के आसपास इलाकों में धारा 144 लागू कर दी गई है। एक हफ्ते के अंदर ही इन विमानों को किसी भी मिशन के लिए तैयार कर लिया जाएगा।

  • 12 पायलटों को ट्रेनिंग

    भारत आ रहे पांच राफेल में तीन सिंगल सीटर जेट्स हैं जबकि दो ट्विन सीटर हैं। इन्हें भारतीय वायुसेना के ही पायलट्स उड़ाकर ला रहे हैं। अत्‍याधुनिक मिसाइलों और घातक बमों से लैस भारतीय वायुसेना के सबसे घातक फाइटर जेट राफेल को उड़ाने के लिए कुल 12 पायलटों को ट्रेनिंग दी गई है। राफेल विमानों के रवाना होने से पहले फ्रांस में भारतीय दूतावास ने इन राफेल विमानों और इंडियन एयरफोर्स के जाबांज पायलटों की तस्‍वीर भी जारी की।

  • ट्विटर पर छाई यह तस्वीर

    राफेल के पहले बैच ने रविवार को फ्रांस से भारत के लिए उड़ान भरा तो उस मौके पर पैरिस में एयर कोमोडोर हिलाल अहमद राठेर (Air Commodore Hilal Ahmad Rather) भी मौजूद थे। वो फ्रांस में भारत के एयर अताशे हैं। हिलाल के साथ फ्रांस में भारत के राजदूत जावेद अशरफ (Jawed Ashraf) और राफेल बनाने वाली कंपनी दसॉ एविएशन के चेयरमैन एरिक ट्रैपियर (Eric Trappier) भी समारोह का हिस्सा थे। एयर कोमोडोर हिलाल अहमद जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिला के हैं जिन्होंने जिले के बख्शियाबाद स्थित सैनिक स्कूल से शिक्षा प्राप्त की है। इस बात को लेकर कश्मीरियों में बेहद उत्साह देखा जा रहा है। ट्विटर पर #Anantnag टॉप ट्रेंड में है। कश्मीर के लोग इस बात पर फक्र कर रहे हैं कि राफेल में बैठने वाला पहला व्यक्ति उनके अनंतनाग का निवासी है।



जरूरत के वक्त राफेल की डिलिवरी


भारत को यह लड़ाकू विमान ऐसे समय में मिल रहे हैं, जब उसका पूर्वी लद्दाख में सीमा के मुद्दे पर चीन के साथ गतिरोध चल रहा है। भारतीय वायुसेना पहले ही वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) से लगे अपने अहम हवाई ठिकानों पर अग्रिम पंक्ति के लड़ाकू विमानों को तैनात कर चुकी है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि राफेल विमानों को लद्दाख सेक्टर में तैनात किए जाने की संभावना है जहां वायुसेना चीन के साथ लगने वाली एलएसी पर अपनी संचालन क्षमताओं को और मजबूत करना चाहती है। भारत ने वायुसेना के लिए 36 राफेल विमान खरीदने के लिए 23 सितंबर, 2016 को फ्रांस की विमानन क्षेत्र की दिग्गज कंपनी दसॉ एविएशन के साथ 59 हजार करोड़ रुपये का करार किया था। वायुसेना को पहला राफेल विमान पिछले साल रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की फ्रांस यात्रा के दौरान सौंपा गया था।

राफेल लड़ाकू विमानों को हवा में रीफ्यूलिंग के लिए भारतीय वायुसेना ने फ्रांसीसी एयरफोर्स को उसके सहयोग के लिए शुक्रिया अदा किया। ये राफेल करीब 10 घंटे का सफर तय करके भारत आने वाले हैं। इन्हें सात घंटे की उड़ान के बाद अबूधाबी में रोका गया। वहां राफेल अल दफ्रा एयरबेस पर उतरे। वहां पायलट और जेट्स को आराम देने के लिए रोका गया था। करीब 10 घंटे के सफर में राफेल में एक बार और हवा में तेल भरा जाएगा, इसके लिए अलग से दो विमान उड़ान भर रहे हैं।

राफेल लड़ाकू विमानों को हवा में रीफ्यूलिंग के लिए भारतीय वायुसेना ने फ्रांसीसी एयरफोर्स को उसके सहयोग के लिए शुक्रिया अदा किया। ये राफेल करीब 10 घंटे का सफर तय करके भारत आने वाले हैं। इन्हें सात घंटे की उड़ान के बाद अबूधाबी में रोका गया। वहां राफेल अल दफ्रा एयरबेस पर उतरे। वहां पायलट और जेट्स को आराम देने के लिए रोका गया था। करीब 10 घंटे के सफर में राफेल में एक बार और हवा में तेल भरा जाएगा, इसके लिए अलग से दो विमान उड़ान भर रहे हैं।

Web Title air force chief to receive five rafale fighter jets in ambala(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

दिल्ली में कोरोना के एक दिन में सबसे अधिक केस; अब तक 56000 से अधिक मरीज, 2112 की मौत

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

Corona [email protected]: झारखंड में फिर मिले 34 कोरोना पॉजिटिव, अबतक 1845; जानें ताजा हाल

[ Publish Date:Wed, 17 Jun 2020 05:19 AM (IST) रांची, जेएनएन। Jharkhand Coronavirus Update झारखंड में मंगलवार को कुल 34 कोरोना संक्रमितों की पहचान...

दाऊद इब्राहिम के पाकिस्‍तानी अड्डे का खुलासा, ISI और पाक सेना की शरण में पहुंचा माफिया डॉन!

[हाइलाइट्स:पाकिस्‍तान में रह रहा माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम अपने ठिकाने के खुलासे से हिल गया है दाऊद इब्राहिम अब अपनी सुरक्षा के लिए...

Kashmir News : सेना ने बनाया नया ऐक्शन प्लान, जिससे आतंक के रास्ते ना जाएं मारे गए आतंकियों के रिश्तेदार

[हाइलाइट्स:कश्मीर में युवाओं को आतंकी बनने से रोकने के लिए सेना ने बड़ी रणनीति बनाईमुठभेड़ में मारे गए आतंकियों के रिश्तेदारों का पता...

राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने कोझिकोड विमान हादसे में लोगों की मौत पर जताया दुख

[हाइलाइट्सतमाम नेताओं ने कोझिकोड में एअर इंडिया एक्सप्रेस के एक विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने पर दु:ख प्रकट कियादुबई से लौट रहा विमान रनवे...