Home मुख्य समाचार Rajasthan politics : 40 साल की राजनीति में गहलोत ने दिखाई जादूगरी,...

Rajasthan politics : 40 साल की राजनीति में गहलोत ने दिखाई जादूगरी, दावेदारों को टिकने ही नहीं दिया

[

राजस्थान की राजनीति में सीएम अशोक गहलोत का कद सबसे ऊंचें पद पर दिखाई देने लगा है। जहां विरोधी हर बार अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री पद और कांग्रेस में कई शीर्ष पदों पर बने रहने को लेकर कटाक्ष करते रहते हैं। वहीं ऐसा कई बार हुआ है कि जब गहलोत के राजनैतिक कुशाग्र के चलते उनके विरोधियों को मुंह की खानी पड़ी है।

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

जयपुर।

राजस्थान की राजनीति में जादूगर की उपाधि पाने वाले सीएम अशोक गहलोत का जलवा राजस्थान में हर कोई जानता है। या यूं कहें कि प्रदेश में गहलोत को राजनैतिक विश्लेषक ऐसे ही जादूगर नहीं कहते। वर्तमान में सियासी संकट के बीच भी सरकार को ऊभार कर लाने वाले सीएम गहलोत तीसरा मौका है कि जब उन्होंने प्रदेश की कमान संभाली हो और यही वजह है कि सचिन पायलट के साथ जाने वाले विधायकों को अपने पक्ष में लाकर आज गहलोत फ्लोर टेस्ट की मांग कर रहे हैं। लेकिन राजस्थान की राजनीति में इतना बड़ा कद पाने वाले अशोक गहलोत आखिर किन वजहों से प्रदेश कांग्रेस में एक छत्र राज करते हैं, इसे समझना बेहद जरूरी है। ऐसा नहीं कि राजस्थान कांग्रेस में पिछले इतने सालों में किसी भी नेता ने मुख्यमंत्री पद के लिए दावेदारी पेश नहीं की हो, लेकिन गहलोत के राजनैतिक कौशल के आगे टिक पाना कई दिग्गज नेताओं के लिए संभव नहीं हो पाया। आईये जानते हैं राजस्थान में सीएम अशोक गहलोत ने कैसे कई दिग्गज व मुख्यमंत्री पद के दावेदारों को घर जाने पर मजबूर कर दिया। हालांकि सचिन पायलट के मामले में अभी सियासी जंग जारी है, जिसमें ऊंट किस करवट बैठेगा, फिलहाल यह तय करना मुश्किल है।

​परसराम की अगुवाई में हुआ चुनाव, लेकिन गहलोत बनें मुख्यमंत्री

NBT

राजस्थान की राजनीति के जानकारों का कहना है कि प्रदेश में परसराम मदेरणा एक समय में काफी बड़े नाम के रूप में जाने जाते थे। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मदेरणा की अगुवाई में राजस्थान में कांग्रेस की ओर से चुनाव लड़ा गया था, लेकिन जब मुख्यमंत्री बनाने की बात आई, तो कांग्रेस आलाकमान ने अशोक गहलोत का चुनाव किया। वहीं से राजस्थान की राजनीति में अशोक गहलोत ने अपने पैर मजबूती से जमा लिये थे।

​नवल किशोर भी थे बड़े उम्मीदवार, लेकिन सपना रहा अधूरा

NBT

2004 में गुजरात के गवर्नर बने नवल किशोर शर्मा ने भी राजस्थान की राजनीति में लंबा कार्यकाल निभाया। प्रदेश में उन्हें भी दिग्गज नेताओं में शुमार किया जाता था। बताया जाता है कि 1998 में जयपुर से ताल्लुक रखने वाले नवल किशोर शर्मा भी सीएम पद के बड़े उम्मीदवार माने जाते थे। उन्होंने कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव, स्पीकर और कई मंत्री पदों पर अपनी भूमिका निभाई, लेकिन उनका भी सीएम बनने का सपना गहलोत के राजनैतिक कौशल के चलते अधूरा ही रह गया।

सीपी जोशी को भी आखिर मोह छोड़ना पड़ा

NBT

राजसमंद जिले के नाथद्वारा सीट से कांग्रेस के मजबूत दावेदार सीपी जोशी भी गहलोत के प्रमुख प्रतिद्वंदी के रूप में जाने जाते हैं। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) में महासचिव का चार बार प्रभार संभालने वाले सीपी जोशी की ओर से कई बार मुख्यमंत्री बनने की कोशिश की गई। जानकारों का कहना है कि 2018 में हुए चुनाव में भी सचिन पायलट और अशोक गहलोत की तनातनी के बीच सीपी जोशी ने इस बात का फायदा उठाने का प्रयास किया, लेकिन वो सफल नहीं हो सकें और आखिरकार जनवरी 2019 में स्पीकर के पद पर काबिज होकर उन्होंने मुख्यमंत्री पद के मोह का त्याग कर दिया। कहा जाता है कि वैभव गहलोत को आरसीए अध्यक्ष बनाने में सीपी जोशी का बड़ा हाथ है।

​केन्द्रीय मंत्री रहे ओला पर भी भारी पड़े गहलोत

NBT

राजस्थान के राजनैतिक समीकरण में शीशराम ओला भी दिग्गजों में अपनी पहचान रखते हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मनमोहन सरकार में केन्द्रीय मंत्री रहे शीशराम ओला भी गहलोत के सामने टिक नहीं पाए। सीएम गहलोत की ओर से राजस्थान में उनका दबदबा ऐसा रहा कि हर बार शीर्ष नेतृत्व ने उन्हें ही मुख्यमंत्री पद के लिए तरजीह दी। इसके अलावा रामनिवास मिर्धा, कर्नल सोनाराम जैसे कई दिग्गज भी राजस्थान में गहलोत के सामने फीके ही रहे।

अशोक गहलोत का राजनैतिक जीवन

NBT
Web Title rajasthan ashok gehlot 40 years politics like magician, no other in rajasthan congress (Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

प्राइवेट पार्ट से तेज बदबू आती है, क्या कोई इंफेक्शन है?

सवालः फोरप्ले के बाद जब मैं पत्नी के साथ सेक्स करने की कोशिश करता हूं, तो उसके प्राइवेट पार्ट से तेज बदबू आती...

18 सीटों पर कल राज्यसभा चुनाव, कौन मारेगा बाजी? 10 खास अपडेट्स

https://www.youtube.com/watch?v=CSDHehg1voA ! function(f, b, e, v, n, t, s) { if (f.fbq) return; n = f.fbq = function() { n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) :...

17 Loksabha Monsoon Session: कोरोना महामारी के बीच पहली बार चलेगा सदन, इस सत्र में नहीं होगा प्रश्नकाल

[नई दिल्लीकोरोना वायरस संक्रमण के बाद पहली बार सदन (Monsoon Seccion) की कार्यवाही होनी है लेकिन उससे पहले ही विपक्ष हमलावर हो गया...

TikTok और UC Browser समेत चीन से संबंध‍ित 59 ऐप्स भारत में बैन

[सरकार 2254154नई दिल्ली: चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच सरकार ने TikTok और UC Browser समेत चीन से संबंध‍ित 59 ऐप्स...

राजस्थान में राजनीतिक संकट के बीच सक्रिय हुईं वसुंधरा, नड्डा के बाद राजनाथ सिंह से मिलीं

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source...