Home मुख्य समाचार कोरोना की वैक्सीन जल्द मिल भी गई तब भी भारत में टीकाकरण...

कोरोना की वैक्सीन जल्द मिल भी गई तब भी भारत में टीकाकरण में कम से कम 2 साल लगेंगे: विशेषज्ञ

[

Corona Vaccine News: कोरोना के वैक्सीन पर दुनियाभर में तेजी से काम चल रहा है। हालांकि, अगर इस साल वैक्सीन बन भी गई तो भारत को टीकाकरण में कम से कम डेढ़ से दो साल का वक्त लगेगा। यह कहना है मेडिकल एक्सपर्ट्स का।

Edited By Chandra Pandey | इकनॉमिक टाइम्स | Updated:

हवा में भी कोरोना… सरकार ने बताया बचने का तरीका
हाइलाइट्स

  • मेडिकल एक्सपर्ट्स के मुताबिक अगर जल्द ही कोरोना की वैक्सीन मिल भी गई तो संक्रमण का खतरा नहीं टलेगा
  • एक्सपर्ट्स के मुताबिक हर्ड इम्यूनिटी के लिए 60-70 प्रतिशत आबादी के टीकाकरण की जरूरत, इसमें लगेंगे 2 साल
  • अलग-अलग देशों में कोरोना वायरस का व्यवहार अलग-अलग रहा, इससे भी विशेषज्ञों की बढ़ रही है चिंता
  • कोरोना वायरस के अभी तक 6 स्ट्रेन, कोई एक वैक्सीन एक ही वक्त में सिर्फ किसी एक स्ट्रेन के लिए ही होगी कारगर

निधि शर्मा, नई दिल्ली

भारत ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी के कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल की तैयारी में है। देश में जिस तेजी से कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) फैल रही है, उसे देखते हुए दुनिया के तमाम देशों की तरह भारत में भी वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) पर तेजी से काम चल रहा है। हालांकि देश के चिकित्सा विशेषज्ञों की मानें तो अगर वैक्सीन जल्द ही बन भी गई तब भी भारत की 60-70 प्रतिशत आबादी के टीकाकरण में कम से कम 2 साल का वक्त लगेगा। ‘हर्ड इम्यूनिटी’ सुनिश्चित करने के लिए कम से कम 60 से 70 प्रतिशत आबादी में रोग प्रतिरोधकता जरूरी है।

दिसंबर तक वैक्सीन मिल भी जाए तो…

कोविड-19 को लेकर बनाई गई दिल्ली सरकार के पैनल के सदस्य मैक्स हेल्थकेयर के डॉक्टर संदीप बुद्धिराजा ने हमारे सहयोगी इकनॉमिक टाइम्स को बताया, ‘अगर मानक प्रोटोकॉल्स के हिसाब से चलें तो हर्ड इम्यूनिटी के लिए हमें 60-70 प्रतिशत आबादी के टीकाकरण की जरूरत होगी। अगर हमें दिसंबर तक कोरोना की वैक्सीन मिल भी जाए तो भारत की 60 प्रतिशत आबादी के टीकाकरण में डेढ़ से दो साल का वक्त लगेगा।’

थम नहीं रहा कोरोना, कहां कितने मरीज जानें

…तो अन्य बीमारियों के जैसे ही कोरोना के साथ जीना होगा

बुद्धिराजा के मुताबिक देश को वायरस के साथ ठीक वैसे ही जीना पड़ेगा जैसे हमें टीबी जैसी बीमारियों के साथ जीना पड़ता है। मेडिकल एक्सपर्ट्स के मुताबिक भारत में सार्वभौमिक टीकाकरण (Universal Vaccination) यानी तकरीबन सभी को वैक्सीन देना पहले से ही एक बड़ी चुनौती है। दिल्ली-एनसीआर में कोविड अस्पताल चलाने वाले आकाश हेल्थकेयर के डॉक्टर आशीष चौधरी कहते हैं, ‘सरकारी रिपोर्ट्स के मुताबिक, सभी प्रयासों के बावजूद 2 साल से कम उम्र के बच्चों में अनिवार्य इम्यूनिटी के लिए उस ग्रुप में 60 प्रतिशत से ज्यादा को वैक्सीन देना होगा।’

कोरोना टेस्टिंग में महाराष्ट्र, दिल्ली से आगे यूपीकोरोना टेस्टिंग में महाराष्ट्र, दिल्ली से आगे यूपी

तेजी से बदल रहा वायरस, एक ही वैक्सीन सब पर नहीं होगी कारगर

एक ही वैक्सीन सब पर कारगर होगी, उसे लेकर भी संदेह है। भारत में टेलिमेडिसिन को नई पहचान देने वाले अपोलो टेलिहेल्थ के डॉक्टर गणपति कहते हैं, ‘दिसंबर 2019 से जून 2020 तक वायरस के व्यवहार में तब्दीली आ गई है। अब तो इसमें भी अंतर आ गया है कि स्पेन में इसने कैसे व्यवहार किया और इटली में कैसे और भारत में कैसे व्यवहार किया…हमारी इम्यूनिटी अलग है।’

अभी कोविड के 6 स्ट्रेन, एक वक्त में कोई वैक्सीन एक ही स्ट्रेन पर कारगर

वैक्सीन सभी के लिए उपलब्ध होगी, इसे लेकर विशेषज्ञों को संदेह है। डॉक्टर चौधरी कहते हैं, ‘कोरोना वायरस के 6 स्ट्रेन हैं और वैक्सीन एक वक्त में सिर्फ किसी एक स्ट्रेन के खिलाफ कारगर होगी। अन्य स्ट्रेन में इस्तेमाल के लिए वैक्सीन में कुछ बदलाव की जरूरत पड़ेगी।’

सिंगापुर ने वैक्‍सीन के क्लिनिकल ट्रायल को दी मंजूरी

  • सिंगापुर ने वैक्‍सीन के क्लिनिकल ट्रायल को दी मंजूरी

    सिंगापुर की हेल्‍थ साइंसेज अथॉरिटी ने Arcturus Therapeutics और Duke-NUS Medical school की बनाई कोविड वैक्‍सीन के क्लिनिकल ट्रायल की परमिशन दे दी है। Arcturus कैलिफोर्निया (अमेरिका) की कंपनी है जबकि Duke-NUS सिंगापुर का मेडिकल स्‍कूल है। ट्रायल में 108 लोगों को वैक्‍सीन की डोज दी जाएगी। प्रीक्लिनिकल डेटा के मुताबिक, वैक्‍सीन की 0.2, 2 या 10mg की डोज 50 दिन में ऐंटीबॉडीज की ग्रोथ बढ़ाने में सफल हुई।

  • साउथ अफ्रीका से आएगी वैक्‍सीन पर खुशखबरी

    ऑक्‍सफर्ड यूनिवर्सिटी वैक्‍सीन के शुरुआती नतीजे तो बेहद उम्‍मीद जगाने वाले रहे हैं। लेकिन रिसर्चर्स का कहना है कि वैक्‍सीन का असली टेस्‍ट साउथ अफ्रीका में होना है। जोहान्‍सबर्ग में साइंटिस्‍ट्स 2,000 पार्टिसिपेंट्स को तीसरे दौर के ट्रायल के लिए एनरोल कर रहे हैं। दुनिया की सबसे ऐडवांस्‍ड वैक्‍सीन पर सबसे बड़ी खुशखबरी साउथ अफ्रीका से ही आएगी।

  • चीनी वैक्‍सीन का फेज 2 ट्रायल पूरा

    चीन में एक कोविड वैक्‍सीन का फेज 2 ट्रायल पूरा हो गया है। ‘द लैंसेट’ में छपे एक रिसर्च के मुताबिक, कोई भी प्रतिभागी टीकाकरण के बाद कोरोना वायरस, SARS-CoV-2 की चपेट में नहीं आया। वैज्ञानिकों के मुताबिक 508 लोगों को नये टीके के ट्रायल में शामिल किया गया। टीके की अधिक खुराक वाले 95 प्रतिशत प्रतिभागियों और कम खुराक वाले 91 प्रतिशत प्रतिभागियों में टीकाकरण के 28 वें दिन टी-सेल या ऐंटीबॉडी इम्‍यून रेस्‍पांस दिखा।

  • Pfizer-BioNtech ने भी जारी किया डेटा

    Pfizer-BioNtech ने भी सोमवार को अपनी वैक्‍सीन के फेज 1-2 ट्रायल्‍स का डेटा जारी किया। ऑक्‍सफर्ड की तरह यह वैक्‍सीन भी डबल प्रोटेक्‍शन देने में कामयाब होती दिख रही है। इससे शरीर में ऐंटीबॉडीज तो बनी हीं, टी-सेल्‍स यानी वाइट ब्‍लड सेल्‍स भी डेवलप हुई हैं।

  • जनवरी तक वैक्‍सीन लाने की तैयारी में मॉडर्ना

    अमेरिकन कंपनी मॉडर्ना 27 जुलाई से फेज 3 ट्रायल शुरू कर रही है। 14 जुलाई को जारी फेज 1 और 2 ट्रायल्‍स के डेटा में वैक्‍सीन इम्‍यूनिटी डेवलप करने में कारगर पाई गई थी। मॉडर्ना को उम्‍मीद है कि वह मैसेंजर आरएनए (mRNA) पर आधारित यह वैक्‍सीन जनवरी 2021 तक बाजार में उतार देगी।

  • रूस का दावा, वैक्‍सीन इस्‍तेमाल के लिए तैयार

    रूस की डिफेंस मिनिस्‍ट्री ने दावा किया है उनकी बनाई कोरोना वैक्‍सीन इस्‍तेमाल के लिए तैयार है। वैक्‍सीन का वॉलंटिअर्स पर फेज 2 ट्रायल सोमवार को ही शुरु हुआ है। रूस के फर्स्‍ट डेप्‍युटी रक्षा मंत्री ने एक टीवी इंटरव्‍यू में यह नहीं बताया कि वैक्‍सीन का प्रॉडक्‍शन कब से शुरू होगा।

  • जल्‍द बाजार में होगी चीनी वैक्‍सीन!

    पश्चिमी देशों को आगे निकलता देख चीन ने वैक्‍सीन ट्रायल में तेजी ला दी है। चीन 8 अलग-अलग वैक्‍सीन के डेवलपमेंट में शामिल है। वहां की कंपनी Sinovac की वैक्‍सीन का ट्रायल ब्राजील और बांग्‍लादेश जैसे देशों में हो रहा है। Sinopharm की वैक्‍सीन का ह्यूमन ट्रायल भी यूएई में चल रहा है। चीन की दो वैक्‍सीन आखिरी दौर के ट्रायल में हैं।

  • अब चीन पर लगा वैक्‍सीन डेटा हैकिंग का आरोप

    अमेरिका में दो चीनी नागरिकों के खिलाफ कोविड-19 वैक्‍सीन रिसर्च का डेटा चुराने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। ये दोनों चीन में हैं, ऐसा माना जा रहा है। सरकारी वकील ने कहा कि ‘चीन ने रूस, ईरान और नॉर्थ कोरिया के साथ अपनी जगह ले ली है। यह उन देशों का क्‍लब है जो साइबर क्रिमिनल्‍स को सुरक्षा देते हैं।’ चीनी राजदूत ने अमेरिका के इस आरोप से इनकार किया है।

  • अगस्‍त से भारत में होंगे कोविशील्‍ड के ट्रायल

    ऑक्‍सफर्ड यूनिवर्सिटी और अस्‍त्राजेनेका ने कोविशील्‍ड नाम से जो वैक्‍सीन तैयार की है, उसका भारत में भी ट्रायल होगा। सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया के मुताबिक, कंपनी ने रेगुलेटरी ट्रायल के लिए आवेदन किया और अगस्‍त से इसका ट्रायल शुरू होने की उम्‍मीद है। कंपनी को उम्‍मीद है कि अक्‍टूबर-नवंबर तक ट्रायल पूरा हो जाएगा।

  • आधी वैक्‍सीन भारत, बाकी दुनिया के लिए

    कोविशील्‍ड का थर्ड फेज ट्रायल जल्‍द शुरू होगा। अबतक सेफ और असरदार पाई गई वैक्‍सीन को जल्‍द से जल्‍द लोगों तक पहुंचाने की कोशिश होगी। कोविशील्‍ड का भारत में जितना भी प्रॉडक्‍शन होगा, उसका आधा भारत में ही रहेगा। यानी भारतीयों को वैक्‍सीन मिलना तय है। सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला के मुताबिक, कंपनी 50% वैक्सीन सिर्फ भारत के लिए रखेगी, बाकी दुनिया के अन्य देशों को दी जाएगी। उनके मुताबिक, शुरुआत में इसकी कीमत 1,000 रुपये के आसपास हो सकती है। सरकार इस टीके को मुफ्त में भी लगवा सकती है।

20 साल पहले आए SARS का अभी तक वैक्सीन नहीं

कोरोना की वैक्सीन जल्द बन जाएगी, इसे भी लेकर विशेषज्ञ निश्चिंत नहीं हैं। डॉक्टर गनपति कहते हैं, ‘हमारे पास अभी SARS वायरस की वैक्सीन नहीं है जो 20 साल पहले पहली बार फैला था।’

NBT
Web Title if corona vaccine get today india need at least 2 years to vaccinate(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Ranchi Coronavirus News Update: रांची में आज मिले 40 कोरोना पॉजिटिव, झारखंड में 189; जानें ताजा हाल

[ Publish Date:Mon, 13 Jul 2020 11:45 PM (IST) रांची, जेएनएन। Ranchi Corona News झारखंड में सोमवार को 189 कोरोना संक्रमितों की पहचान की...

Rajasthan Crisis Live Updates: हाईकोर्ट ने स्वीकारा पायलट गुट का संशोधन, आज रात खंडपीठ कर सकती है सुनवाई

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source...

सेक्स के दौरान कंडोम लगाने के लिए खड़ा होता हूं, तब तक इरेक्शन खत्म हो जाता है, क्या करूं?

समस्या- मैं एक 35 वर्षीय अविवाहित व्यक्ति हूं। मेरा सुबह अच्छा इरेक्शन होता है लेकिन अगर सेक्स के दौरान मैं कंडोम...

Delhi: शाहीन बाग के सामाजिक कार्यकर्ता शहजाद अली की BJP में एंट्री, कही ये बड़ी बात

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source...

योगी ने यूं ही नहीं बदला मुगल म्यूजियम का नाम, आगरा का छत्रपति शिवाजी से यह है रिश्ता

[हाइलाइट्स:सीएम योगी ने की घोषणा, छत्रपति शिवाजी के नाम से बनेगा आगरा का मुगल म्यूजियमम्यूजियम में मुगलों के अलावा मराठा शासक छत्रपति शिवाजी...

UP teachers recruitment: यूपी में 69,000 शिक्षक भर्ती में नया फर्जीवाड़ा, उठे सवाल

[सांकेतिक तस्वीरहाइलाइट्सयूपी में बेसिक शिक्षा विभाग की 69,000 शिक्षक भर्ती में अनियमितता के रोज नए आरोप सामने आ रहे हैंऊंची मेरिट वाले अभ्यर्थियों...