Home मुख्य समाचार प्रियंका गांधी ने सचिन पायलट को राहुल और सोनिया गांधी से मिलवाने...

प्रियंका गांधी ने सचिन पायलट को राहुल और सोनिया गांधी से मिलवाने का दिया था ऑफर: सूत्र

[

नई दिल्ली:

सचिन पायलट लगातार खुद को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाने की मांग करते रहे और जब तक उनकी यह मांग मान नहीं ली जाती, उन्होंने पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मिलने तक से इनकार कर दिया. प्रियंका गांधी वाड्रा के करीबी सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.यह बयान उस बात का खंडन है जिसमें सचिन पायलट के खेमे द्वारा यह कहा गया कि प्रियंका गांधी से फोन पर बात करने के तीन घंटे बाद ही सचिन को उप मुख्यमंत्री के पद से बर्खास्त कर दिया गया.प्रियंका गांधी वाड्रा के करीबी सूत्रों के अनुसार सचिन पायलट चाहते थे कि उन्हें मुख्यमंत्री बनाए जाने की सार्वजनिक रूप से घोषणा की जाए और उन्होंने कहा कि अगर ये वादा नहीं किया जा सकता तो गांधी परिवार से मिलने का कोई मतलब नहीं है.

यह भी पढ़ें

सूत्रों ने बताया कि इस “डीलब्रेकर” मांग को कांग्रेस नेतृत्व को सूचित किए जाने के बाद ही सचिन पायलट को राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष और राज्य के डिप्टी सीएम पद से मुक्त कर दिया गया था. रविवार को अशोक गहलोत के खिलाफ उनके विद्रोह के बाद पायलट ग्रुप के सदस्यों ने उस दिन पहले ही NDTV को बता दिया था कि प्रियंका गांधी वाड्रा द्वारा भेजे गए कई लोगों औऱ उनके साथ फोन कॉल के बाद उन्हें हटा दिया जाएगा.

सूत्रों ने कहा कि पायलट ने दो दिन पहले प्रियंका गांधी से बात की थी और उनकी बात तसल्ली के साथ सुनी गई थी. इस दौरान जब उन्होंने अपनी शिकायतों पर चर्चा की, तो प्रियंका गांधी ने कहा “वह राहुल गांधी और सोनिया गांधी से बात करेंगी”.

“जब मेरे खिलाफ कार्रवाई हो रही है तो कांग्रेस कैसे तालमेल की बात कर सकती है?” पायलट ने कथित तौर पर कहा. सूत्रों ने कहा कि उन्हें यकीन नहीं है कि वह कांग्रेस के आश्वासन पर भरोसा कर सकते हैं.सूत्रों ने सचिन पायलट के हवाले से कहा, “एक तरफ, कांग्रेस ‘दरवाजे खुले’ की बात करती है और दूसरी तरफ मुझे बर्खास्त कर दिया जाता है और अयोग्यता नोटिस भेजा जाता है। मुझपर अशोक गहलोत द्वारा लगातार हमला किया जा रहा है.” ऐसा बताया जा रहा है कि प्रियंका गांधी ने बुधवार को भी पायलट को फोन किया. 

कांग्रेस के एक वर्ग का मानना ​​है कि श्री पायलट 18 बागी विधायकों के साथ गुरुवार को पार्टी को अदालत में ले जाकर “बहुत दूर” चले गए. टीम पायलट ने अयोग्यता नोटिस को चुनौती दी है जो उन्हें यह बताने के लिए कहता है कि उन्होंने बैठकों में भाग लेने के लिए पार्टी के आदेशों को क्यों टाल दिया. पायलट के करीबी सूत्रों ने सवाल किया कि मुख्यमंत्री के घर पर विधायकों की बैठक में वे कैसे शामिल हो सकते हैं जब वह दुखी थे? 

गहलोत, जिन्होंने बार-बार पायलट पर अपनी सरकार को गिराने के लिए भाजपा के साथ साजिश रचने का आरोप लगाया है, अगर कुछ और विधायक 20-मजबूत विद्रोही खेमे में शामिल हो जाते हैं, तो वे भारी मुसीबत में पड़ सकते हैं. बता दें कि भाजपा के पास 73 विधायक हैं और उसे सत्ता का दावा करने के लिए लगभग 30 और की जरूरत है. शुक्रवार की सुबह, कांग्रेस ने आरोप लगाया कि एक केंद्रीय मंत्री और दो बागी विधायक फोन टेप में सौदेबाजी के जरिए अशोक गहलोत सरकार को गिराने की साजिश रच रहे हैं. कांग्रेस द्वारा ऑडियो के टेप में की गई बातचीत के पढ़े जाने के तुरंत बाद दो प्राथमिकी दर्ज की गईं. पायलट कैंप ने कहा कि उन्होंने “स्टिंग टेप नहीं सुना है” और ये टेप बागी विधायकों को अयोग्य घोषित करने के कदमों को सही ठहराने के लिए मुख्यमंत्री की रणनीति का हिस्सा है. यदि विद्रोहियों को अयोग्य घोषित किया जाता है, तो 200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा में बहुमत का निशान नीचे चला जाएगा, जिससे गहलोत को फायदा होगा.

टीम पायलट ने आज एक बार फिर कहा कि पायलट के भाजपा में शामिल होने का “कोई सवाल नहीं”, पायलट ने कहा, “राजस्थान मेरी कर्मभूमि है, मेरा काम यहां है,” सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि दिल्ली में कांग्रेस नेताओं ने उनके लिए एक राष्ट्रीय भूमिका का सुझाव दिया. पायलट के करीबी सूत्रों ने बताया कि यह स्पष्ट नहीं है कि कांग्रेस राजस्थान के बाहर क्या भूमिका दे सकती है.

क्या सचिन पायलट की अब भी हो सकती है कांग्रेस में घर वापसी ?

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

‘पतंजलि ने कोरोना नहीं कफ और बुखार की दवा के लिए किया था आवेदन, इसलिए दिया लाइसेंस’

[ Coronavirus Covid-19 Tracker India News Live Updates: उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में रेलवे स्टेशन पर मजदूरों की भीड़ एकत्रित हुई और सोशल डिस्टेंसिंग की...

भारत-चीन मामले में तोड़ मरोड़कर पेश किया गया पीएम मोदी का बयान : पीएमओ

[ न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sat, 20 Jun 2020 04:28 PM IST पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों...

UP Board District Wise Topper List 2020: जानें 10वीं, 12वीं में आपके जिले में कौन है टॉपर

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

पति बिना कंडोम के पीरियड्स के दौरान सम्भोग करते हैं और इसके फायदे भी गिनाते हैं, क्या यह सही है?

मैं 32 साल की महिला हूं। मेरे पति कंडोम के बिना पीरियड्स के दौरान यौन संबंध बनाने पर जोर देते हैं। वह...

Cabinet Decision: सरकार ने सिविल सर्विस अधिकारियों के लिए मिशन ‘कर्मयोगी’ को दी मंजूरी

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source...

India China Firing: लद्दाख में भारत और चीन में 45 साल बाद LAC पर चली गोलियां? समझें आखिर क्‍यों बौखलाया है ड्रैगन

[हाइलाइट्स:भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग सो झील के दक्षिणी किनारे पर हालात बेहद गंभीर होते जा रहे हैंचीन ने...