Home मुख्य समाचार राहुल गांधी की दखलंदाजी के बाद सचिन पायलट को एक और मौका...

राहुल गांधी की दखलंदाजी के बाद सचिन पायलट को एक और मौका देने के लिए कांग्रेस तैयार, अहमद पटेल कर रहे लगातार बात

[

सचिन पायलट पर बीजेपी के साथ मिलीभगत का आरोप लगाने के बावजूद कांग्रेस ने अब भी उनके और अन्य बागी विधायकों के लिए अपने दरवाजे खुले रखे हैं और उन्हें वापसी का एक और मौका दिया जा सकता है। कांग्रेस के सूत्रों ने एएनआई को बताया है कि इसकी वजह है राहुल गांधी है और उन्होंने बागियों के प्रति नरम रुख अपनाने को कहा है। राहुल ने पार्टी के नेताओं को निर्देश दिया है कि वह पायलट को पार्टी में लौटने का एक मौका और दें। 

जयपुर में कांग्रेस के एक राष्ट्रीय नेता के अनुसार, सचिन पायलट के लिए पार्टी के दरवाजे अभी भी खुले हैं क्योंकि राहुल गांधी ने निर्देश दिया है कि सभी उकसावे के बावजूद उन्हें एक और मौका दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा है कि पायलट को परिवार में शामिल होने का एक और मौका दिया जाना चाहिए।

सूत्रों ने एएनआई को बताया कि कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के बेहद करीबी अहमद पटेल राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री के संपर्क में हैं और उनसे बात कर रहे हैं। पहले यह माना जाता था कि पायलट के विद्रोह पर राहुल ने सख्त रुख अपनाया था। हालांकि नए अपडेट्स के अनुसार, राहुल गांधी सचिन की सम्मानजनक वापसी का माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

अशोक गहलोत के सचिन पायलट पर हमले से कांग्रेस नेतृत्व नाराज

सूत्रों के अनुसार, राहुल गांधी का निर्देश बुधवार दोपहर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के उस बयान के बाद आया है, जिसमें गहलोत ने सीधे तौर पर पायलट पर बीजेपी के साथ सरकार को गिराने की साजिश में शामिल होने का आरोप लगाया था और कहा था कि उनके पास इसके पुख्ता सबूत मौजूद हैं। इस बयान के तुरंत बाद राहुल गांधी ने जयपुर में मौजूद राष्ट्रीय नेताओं को निर्देश दिया कि पायलट को वापस लौटने का मौका दिया जाए। जिसके बाद, राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने मीडिया के माध्यम से अपील की कि सचिन पायलट को अपने सभी विधायकों के साथ जयपुर लौटना चाहिए। राजस्थान एनएसयूआई के अध्यक्ष जो पायलट के करीबी थे और उन्हें भी हटा दिया गया था, लेकिन राहुल गांधी के निर्देश पर उन्हें भी एक और मौका दिया गया है।

कांग्रेस ने पहले जयपुर में दो बार विधायक दल की बैठक बुलाई थी, जिसका सचिन पायलट खेमे के विधायकों ने बहिष्कार किया था। इसके कारण पायलट को उप मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष का पद से हटा दिया गया था। इसके बाद उनके समर्थकों के साथ-साथ राज्य युवा कांग्रेस के प्रमुख, सेवा दल के प्रमुख और बागी विधायक के खिलाफ भी कार्रवाई की गई। पायलट के साथ 18 कांग्रेस विधायकों को सीएलपी की बैठक में शामिल नहीं होने पर कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। पायलट अभी नई दिल्ली से जयपुर नहीं लौटे हैं, लेकिन पार्टी सूत्रों का मानना ​​है कि वह नरम हो गए हैं ।

राजस्थान में वसुंधरा राजे को भरोसे में लेकर चलेगी भाजपा

प्रियंका गांधी वाड्रा भी पायलट के संपर्क में हैं। वह कई बार उनसे बात कर चुकी है और उनके जयपुर लौटने के लिए जोर दे रही है। पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद, प्रिया दत्त, शशि थरूर सहित कई वरिष्ठ पार्टी नेताओं ने ट्वीट किया और कहा कि पायलट के साथ बातचीत शुरू की जानी चाहिए। वहीं दिग्गज कांग्रेसी नेता मार्गरेट अल्वा ने भी समर्थन दिया, जिन्होंने ट्वीट कर कहा है कि मतभेद पार्टी विरोधी नहीं हैं। उन्हें सुलझाना होगा और समझौता करना होगा।  उनके इस ट्वीट के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने समर्थन किया है।

पार्टी सूत्रों ने कहा कि अगर पायलट बिना शर्त घर लौटते हैं और गहलोत सरकार को अपना समर्थन देते हैं, तो कुछ महीनों के बाद उन्हें पार्टी में कुछ बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है। वहीं अगर पायलट अड़े रहे तो कांग्रेस उनको सहानुभूति बटोरने का अवसर नहीं देगी क्योंकि उन्होंने उन्हें पार्टी में लौटने के कई अवसर दिए। सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस दोहरी रणनीति अपना रही है।

खरीद फरोख्त के आरोपों पर टीम पालयट का गहलोत पर पलटवार, पूछे ये सवाल

कांग्रेस नेताओं ने कहा है कि विद्रोही खेमे के पास आखिरी तारीख तक घर लौटने का पूरा मौका है जब तक अध्यक्ष द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस का जवाब देना है। कांग्रेस नेतृत्व जहां अशोक गहलोत का समर्थन कर रहा है, वहीं वह पायलट को भी नहीं खोना चाहते हैं। पायलट के विद्रोह के कारण, अशोक तंवर, प्रद्युत माणिक्य, हिमंत बिस्वा सरमा और ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस के बाद शीर्ष नेतृत्व को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है, जो युवा नेताओं को खो रहे हैं जो  राहुल गांधी की टीम के सदस्य बनने वाले थे। 
 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

यूपी में नहीं होंगी विश्वविद्यालय की परीक्षाएं, प्रोन्नत होंगे 48 लाख विद्यार्थी

[ पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद ख़बर सुनें ख़बर सुनें कोरोना संक्रमण के चलते प्रदेश...

देश में कोरोना वैक्सीन की रेस में कौन सबसे आगे? ICMR के महानिदेशक ने दी जानकारी

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

Rajiv Tyagi Death News: राजीव त्यागी मौत मामले में लखनऊ में संबित पात्रा और चैनल के खिलाफ शिकायत दर्ज

[यूपी कांग्रेस (UP Congress) के प्रवक्ता अंशू अवस्थी ने लखनऊ स्थित हजरतगंज कोतवाली में बीजेपी नेता संबित पात्रा (Sambit Patra), टीवी न्यूज चैनल...

दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के हालिया झटकों से घबराने की जरूरत नहीं: राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र

[Edited By Naveen Kumar Pandey | पीटीआई | Updated: 12 Jun 2020, 12:01:00 AM IST इंडिया गेट (फाइल फोटो)हाइलाइट्सदिल्ली और आसपास...

Paytm को Google ने किस बात की दी ‘सजा’, फिर कैसे Play Store पर वापस लौटी ऐप

https://www.youtube.com/watch?v=C84uznYvDFMगूगल ने अपने ब्लॉग पोस्ट में बताया कि अगर कोई ऐप यूज़र को बाहरी (external) वेबसाइट की ओर ले जाता है जो उन्हें...

‘नोनी फल’ के चमत्कारी फायदे

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि 'नोनी फल' में 150 से अधिक पोषक तत्व मौजूद हैं और यह फल आपकी हर बीमारी को...