Home मुख्य समाचार गहलोत ने पायलट नाम के कांटे को ऐसे अपने राजनीतिक जीवन से...

गहलोत ने पायलट नाम के कांटे को ऐसे अपने राजनीतिक जीवन से निकाल फेंका

[

सचिन पायलट की बगावत ने राजनीति के चुतर खिलाड़ी और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को वह मौका दे दिया, जिसका इंतजार उन्हें पिछले विधानसभा चुनाव के वक्त से था। सचिन पायलट अब न तो राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष हैं और न ही उपमुख्यमंत्री। कांग्रेस अपने वकील नेताओं की राय को तवज्जो देते हुए फिलहाल सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों को पार्टी से निकाल नहीं रही है बल्कि सबकी विधायकी खत्म करने की भूमिका तैयार कर रही है। अगर गहलोत यह करने में सफल हो गए तो उनके सियासी जीवन से पायलट नाम का कांटा लंबे समय तक के लिए निकल जाएगा।

राजस्थान विधानसभा के स्पीकर पीसी जोशी की ओर से बागी नेताओं को नोटिस भेजा जाना उनकी सदस्यता रद्द करने की दिशा में ही काफी सोच-समझकर बढ़ाया गया कदम माना जा रहा है। सीएम आवास और होटल में कांग्रेस विधायक दल की बैठक, पायलट के लिए दरवाजे खुले रखना, पद छीनने के बावजूद पार्टी में बनाए रखना जैसे सभी कदम पार्टी के वरिष्ठ नेता और वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी के सलाह के बाद उठाए गए थे। 

यह भी पढ़ें: जानिए पायलट के साथ दिल्ली जा चुके 4 विधायकों की कैसे गहलोत ने कराई वापसी और बचा लिया किला

पांच कांग्रेस नेताओं गहलोत, रणदीप सुरजेवाला, अजय माकन और अविनाश पांडे संघवी से लगातार सलाह लेते रहे, जिनकी मदद मोहम्मद खान कर रहे थे। खान ही वह यंग लीगल एक्सपर्ट हैं जिन्होंने 2013 में भूमि अधिग्रहण बिल को तैयार करने में जयराम रमेश की मदद की थी। सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों की अयोग्यता का केस बनाने के लिए उन्होंने राजस्थान के दलबदल विरोधी कानून, भारतीय संविधान की 10वीं अनुसूची का इस्तेमाल किया। 

रणनीति तैयार करने में शामिल एक नेता ने कहा, ”बीजेपी का साया बड़ा होने के साथ, हमें अहसास हुआ कि हमें कांग्रेस सरकार बचाने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रयास करना है। हमने पायलट और उनके समर्थकों को अयोग्य घोषित करने का फैसला किया, क्योंकि इससे सदन में संख्या घट जाएगी और कांग्रेस के लिए संभावना चमकदार रहेगी।”

उन्होंने पायलट को कांग्रेस से नहीं निकालने का फैसला किया, क्योंकि इससे उन्हें फायदा मिलता। कानून के मुताबिक यदि किसी जनप्रतिनिधि को पार्टी से निकाल दिया जाता है तो वह निर्दलीय के रूप में सदन का सदस्य बना रहता है। ऐसे कदम से पायलट को फायदा मिलता और कांग्रेस का उद्देश्य पूरा नहीं हो पाता। 

एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि गहलोत को सलाहकारों ने बताया कि यह एक तीर से तीन निशाना साधने का मौका है। इससे वह उनकी सरकार गिराने की बीजेपी की कोशिश की संभावना को कम कर सकते हैं, पायलट को बाहर का रास्ता दिखा सकते हैं पार्टी में उनकी साख बढ़ेगी, क्योंकि वह दिखाएंगे कि एक साथ कई मोर्चें पर वह किस तरह लड़ रहे हैं।

यह तय है कि सिंघवी, खान और कई दूसरे केंद्रीय नेताओं के पायलट के साथ अच्छे संबंध हैं। कुछ वरिष्ठ नेता उन्हें भविष्य में पार्टी का चेहरा मानते हैं। पायलट के कई प्रशंसक नेताओं ने कहा कि उन्होंने संगठन में अपनी और गहलोत की ताकत का अनुमान गलत लगाया।  

चर्चा में शामिल एक अन्य नेता ने कहा, ”हमने भी महसूस किया कि पायलट अपनी बगावत को बहुत दूर लेकर चले गए। उन्होंने मनाने वाले नेताओं से मिलने से इनकार कर दिया और पार्टी को बीच का रास्ता निकालने का मौका नहीं दिया। जब गहलोत को लगा कि पायलट अपनी पूरी ताकत लगा चुके हैं, उसके बाद उन्होंने आसानी से कैबिनेट से निकाल दिया।” पार्टी प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने का फैसला नई दिल्ली में लिया गया था। लीगल टीम ने राजीव नायर और बीएस येदियुरप्पा सहित सुप्रीम कोर्ट के कई फैसलों को ध्यान में रखा। 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

राहुल गांधी का आरोप, व्हाट्सएप चाहता है भारत में पेमेंट प्लेटफॉर्म, बीजेपी के साथ सांठगांठ

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

पीएम मोदी ने बिना नाम लिए दुनिया को चीन से किया आगाह, कहा- ग्लोबल सप्लाई चेन सिर्फ लागत पर नहीं, भरोसे पर आधारित हो

[नई दिल्लीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को यूएस-इंडिया स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप फोरम (USISPF) की तीसरी सालाना समिट को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया।...

जानिए कृषि सुधार विधेयकों पर वोटिंग के दौरान राज्यसभा में क्यों हुआ हंगामा, बिल की कॉपी फाड़ी, रूल बुक उछाला, माइक तोड़ा

[ लोकसभा में पारित होने के बाद रविवार को राज्यसभा में पेश किए गए कृषि सुधार विधेयकों पर जमकर हंगामा हुआ। कृषि मंत्री...

चीन में राजनीतिक तख्तापलट का डर, शी जिनपिंग पर भारी पड़ सकता है सैन्य शक्तिप्रदर्शन: एक्सपर्ट्स

[हाइलाइट्स:चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को तख्तापलट का डरअपनी ही पार्टी में विरोधी खेमे को लेकर हैं परेशानघरेलू-विदेशी मुद्दों पर सैन्य शक्तिप्रदर्शन का...

2019 के मुकाबले 5.38% अच्छा रिजल्ट; कुल 1059080 स्टूडेंट्स पास हुए, इस बार भी लड़कियां लड़कों से 5.96% से आगे रहीं

[ पिछले साल रिजल्ट 2 मई को आए थे, लेकिन इस वर्ष कोरोना लॉकडाउन के कारण जुलाई में आयासबसे ज्यादा तिरुवनंतपुरम रीजन में 97.67%...

आर्थिक, सामरिक के बाद अब भारत ने चीन को कूटनीति मोर्चे पर घेरा, हॉन्ग कॉन्ग पर कह दी दो टूक

[Edited By Satyakam Abhishek | टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Updated: 02 Jul 2020, 09:17:00 AM IST भारत सरकार चीन को देगी...