Home मुख्य समाचार चीन के 'पत्थरबाज' जवानों से निपटने का प्लान तैयार, ITBP के जवानों...

चीन के ‘पत्थरबाज’ जवानों से निपटने का प्लान तैयार, ITBP के जवानों को मिलेगा खास कवच

[

लद्दाख की गलवान घाटी (galwan clash) में चीनी सेना ने 15 जून को भारतीय जवानों पर पत्थरों और नुकीले तारों वाले डंडों से हमला किया था। ऐसे हमलों से बचने के लिए अब ITBP के जवानों को फुल बॉडी प्रटेक्टर दिए जाएंगे। सेना के साथ ITBP ही LAC पर पट्रोलिंग करती है।

Edited By Vishnu Rawal | इकनॉमिक टाइम्स | Updated:

लेह में अपाचे, T-90 टैंक की तैनाती से भड़का चीन

नई दिल्ली

कश्मीर घाटी की तरह अब जब चीनी बॉर्डर पर भी पत्थरबाजी की घटना हुई है तो सरकार ने उससे निपटने के लिए तरीका भी कश्मीर वाला ही निकाल लिया है। लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर तैनात जवानों को अब सुरक्षात्मक शरीर कवच दिए जाएंगे, ये ठीक वैसे होंगे जैसे जवान कश्मीर घाटी में पत्थरबाजी से बचने के लिए पहनते हैं। यह फैसला लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के धोखे से हुए हमले के बाद लिया गया है।

चीनी बॉर्डर पर दोनों सेनाएं संधि की वजह से हथियारों का इस्तेमाल नहीं करतीं। ऐसे में चीन ने 15 जून की रात भारतीय जवानों पर पत्थरों और नुकीले तारों वाले डंडों से हमला किया था। इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। चीन के 40 जवानों की जान जाने की बात थी, लेकिन उसने इसे अबतक छिपाए रखा है।

चिनूक हेलिकॉप्टर

  • चिनूक हेलिकॉप्टर

    दुनियाभर में 20 देशों की सेनाएं चिनूक हेलिकॉप्टर की सेवाएँ लेती है। यह विश्व का सबसे अधिक विश्वसनीय और क्षमतापूर्ण हैवी लिफ्ट हेलिकॉप्टर है। 50साल सेइसका इस्तेमाल किया जा रहा है। ज्यादा ऊंचाई या फिर गर्म जगहों पर भी यह सफलतापूर्व उड़ान भर सकता है और अपने काम को अंजाम दे सकता है। इसमें मॉडर्न एयरफ्रेम, कॉमन एवियोनिक्स आर्किटेक्चर सिस्टम कॉकपिट और डिजिटल ऑटोमैटिक कंट्रोल सिस्टम होता है। यह सेना की ताकत बढ़ाने के लिए एक कारगर हेलिकॉप्टर है।

  • पानी में भी तैर सकता है चिनूक हेलिकॉप्टर
  • मारक क्षमता के लिए जाना जाता है अपाचे

    350 किमी/ प्रति घंटे से ज्यादा रफ्तार से उड़ान भरने वाला अपाचे लड़ाकू हेलिकॉप्टर है। पिछले साल ही इसे वायुसेना के बेड़े में शामिल किया गया। पूरी दुनिया में अपनी मारक क्षमता के लिए मशहूर है अपाचे हेलिकॉप्टर। इसमें आधुनिक टारगेट एक्विजिशन डेसिग्नेशन सिस्टम है जो मौसम की जानकारी भी देता रहता है। इसमें अंधेर में देखने की क्षमता भी है जो कि सेना के लिए बहुत मददगार है। समुद्र के ऊपर उड़ान भरने और ऑपरेशन करने में भी यह सक्षम है।

  • बोइंग ने वायुसेना को दिया धन्यवाद
  • सेना के अभियानों में मददगार

    चिनूक हेलिकॉप्टर की क्षमता और तकनीक के मदद से भारतीय वायुसेना अपने अभियानों को आसानी से पूरा कर सकती है। यह हर मौसम में अभियान को सफल बनाने की क्षमता रखता है।

सहयोगी अखबार इकनॉमिक टाइम्स को जानकारी मिली है कि केंद्र सरकार इसका प्लान तैयार कर रही है। इसमें इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस (ITBP) की हर कंपनी के 10 प्रतिशत जवानों को फुल बॉडी प्रटेक्टर दिए जाएंगे। इनका इस्तेमाल बदल-बदलकर वे जवान करेंगे जो आगे पट्रोल पर होंगे। सेना के साथ ITBP के जवान ही 3,488 किलोमीटर लंबी LAC पर पट्रोलिंग करते हैं।

फुल बॉडी प्रटेक्टर क्यों है खास

फुल बॉडी प्रटेक्टर सबसे पहले जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ के जवानों को मिले थे। ऐसा पत्थरबाजी से बचने के लिए किया गया था। फुल बॉडी प्रटेक्टर मिट्टी तेल, पेट्रोल, डीजल आदि की आग को भी सह सकते हैं। इसका कुल वजन 6 किलो होता है। इसमें छाती की रक्षा करने का प्रटेक्टर, कंधों के पैड, ऊपरी बाजू के गार्ड, कोहनी, कलाई के साथ-साथ निचली बॉडी को बचाने का भी सामान होता है।

ITBP ने हाल में 5 हजार के करीब प्रटेक्टर खरीदे थे। लेकिन ताजा हालातों को देखते हुए ये काफी नहीं हैं। इस वक्त लद्दाख, उत्तराखंड, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के चीन से सटे बॉर्डर पर ITBP की 60 कंपनियों की तैनाती होनी है।

LAC पर हाल में हुई कई झड़पें

LAC पर हाल में हुई कई झड़पें

Web Title galwan dispute body armour for security personnel on china border after stone pelting like jammu kashmir(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

पीएम मोदी ने वैक्सीन वितरण की कार्ययोजना तैयार करने का दिया निर्देश, जानिए किसको दी जाएगी प्राथमिकता

[ Publish Date:Wed, 01 Jul 2020 02:28 AM (IST) नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। कोरोना के वैक्सीन के जल्द ही उपलब्ध होने की संभावना को...

लेह में PM नरेंद्र मोदी की इन तस्वीरों पर उठ रहे सवालों में नहीं लगता दम, जानें कारण

https://www.youtube.com/watch?v=NEExig06jXYhttps://www.youtube.com/watch?v=NEExig06jXY यह वही वॉर्ड है, जहां हाल में मोदी होकर आए हैं। इसकी पुष्टि वहां लगे पर्दों, फोटो फ्रेम, दीवार पर लगे हुक, दरवाजों,...

GDP में 40 सालों की सबसे बड़ी गिरावट, इस साल किसान भरोसे देश की इकॉनमी

[नई दिल्लीकोरोना महामारी के बीच देश और दुनिया की इकॉनमी का हाल काफी बुरा है। पहली तिमाही (अप्रैल-जून) की जो रिपोर्ट आई है,...

कोरोना के कारण स्वतंत्रता दिवस पर रहेगी खास सुरक्षा व्यवस्था, लोगों को मास्क पहनकर आने की सलाह

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

कोर्ट में ढाई घंटे चली बहस, शौविक-सैमुअल 9 सितंबर तक NCB की रिमांड पर

[सुशांत सिंह राजपूत के केस में ड्रग्स के ऐंगल से जांच कर रहे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक...