Home मुख्य समाचार WHO ने दुनिया के सामने मुंबई के धारावी मॉडल का किया जिक्र

WHO ने दुनिया के सामने मुंबई के धारावी मॉडल का किया जिक्र

[

Edited By Vineet Tripathi | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

कोरोना: सरकार बोली, बढ़ते आंकड़ों की परवाह नहीं
हाइलाइट्स

  • रावी में तय किया गया एक ही लक्ष्य-‘चेस द टारगेट’, अब यहां कंट्रोल में है कोरोना
  • यहां की भौगोलिक स्थिति और लोगों की जीवनशैली से बेहद चुनौतीपूर्ण थे हालात
  • धारावी की आबादी करीब 10 लाख, ऐसे में यहां नामुमकिन थी सोशल डिस्टेंसिंग
  • यहां BMC और मेडिकल टीम के कुल 3700 सदस्यों ने मिलकर काबू किए हालात

नई दिल्ली

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मुंबई के सबसे बड़े स्लम एरिया धारावी में कोरोनो वायरस ब्रेक के लिए तारीफ की है। WHO की तरफ से कहा गया है कि धारावी में कोरोना वायरस को रोकने के लिए किए गए प्रयासों की बदौलत आज ये इलाका कोरोना से फ्री होने की कगार पर है। उन्होंने कहा कि इस राष्ट्रीय एकता और वैश्विक एकजुटता के साथ मिलकर ही इस महामारी को रोका जा सकता है।

क्या बोला who

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस एडहानम गेब्रेयेसेसने कहा, ‘दुनिया भर में कई उदाहरण हैं जिन्होंने दिखाया है कि भले ही प्रकोप कितना भी ज्यादा हो, फिर भी इसे नियंत्रण में लाया जा सकता है और इन उदाहरणों में से कुछ इटली, स्पेन और दक्षिण कोरिया, और यहां तक कि धारावी में भी हैं।’

धारावी मॉडल की सराहना

संयुक्त राष्ट्र के स्वास्थ्य प्रमुख ने कहा कि मुंबई के इस स्लम एरिया में टेस्टिंग, ट्रेसिंग, सोशल डिस्टेंसिंग और संक्रमित मरीजों का तुरंत इलाज के कारण यहां के लोग कोरोना की लड़ाई में जीत की ओर हैं। डब्ल्यूएचओ महानिदेशक ने नेतृत्व, सामुदायिक भागीदारी और सामूहिक एकजुटता की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा, ” ऐसे देशों से जहां तेजी से विकास हो रहा है, जहां प्रतिबंधों को ढीला कर रहे हैं और अब मामले बढ़ने लगे हैं। हमें नेतृत्व, सामुदायिक भागीदारी और सामूहिक एकजुटता की जरूरत है। ”

12 नए मामले सामने आए

मुंबई की सबसे बड़ी मलिन बस्ती धारावी में शुक्रवार को कोविड-19 के 12 नए मामले आने के साथ ही कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 2,359 हो गई है। यह जानकारी बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के एक अधिकारी ने दी। नगर निकाय ने हालांकि पिछले कुछ दिनों से इस क्षेत्र में कोविड-19 संबंधी मौतों की जानकारी देनी बंद कर दी है। अधिकारी ने कहा कि धारावी में इस समय 166 मरीजों का उपचार चल रहा है और 1,952 मरीजों को अब तक अस्पतालों से छुट्टी मिल चुकी है। एशिया की सबसे बड़ी मलिन बस्ती धारावी 2.5 वर्ग किलोमीटर में फैली है जहां छोटे-छोटे घरों में लगभग 6.5 लाख लोग रहते हैं।

कोरोना से मुक्ती की ओर धारावी, चेस द वायरस है सही मॉडलः दिघावकर

धारावी मॉडल क्या है, जिसके जरिए कोरोना पर काफी हद तक काबू पाया गया?

1 अप्रैल को धारावी में कोरोना का पहला केस सामने आने के पहले ही हमें आशंका थी कि यहां स्थिति बिगड़ सकती है। क्योंकि 80 प्रतिशत लोग सार्वजनिक शौचालय का इस्तेमाल करते हैं। 8 से 10 लाख आबादी वाले उस इलाके में एक छोटे से घर में 10 से 15 लोग रहते हैं। इसलिए सबको न तो होम आइसोलेशन किया जा सकता है और न ही लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर सकते हैं।

इसीलिए जब मामले सामने आने लगे तब हमने चेस द वायरस के तहत काम करना शुरू किया। इसके तहत कॉन्ट्रेक्ट ट्रेसिंग, फीवर कैंप, लोगों को आइसोलेट करना और टेस्ट करना शुरू किया। स्कूल, कॉलेज को क्वारंटीन सेंटर बनाया गया। वहां अच्छे डॉक्टर, नर्स और 3 टाइम अच्छा खाना दिया गया। रमजान के समय मुस्लिम लोगों को डर था, लेकिन क्वारंटीन सेंटर में बेहतर सुविधाओं को देखते हुए वे खुद सामने आए।

इससे हमारा काम आसान हो गया। 11 हजार लोगों को इंस्टिट्यूशनल क्वारंटीन किया गया। साईं हॉस्पिटल, फैमिली केयर और प्रभात नर्सिंग होम से हमें काफी मदद मिली। इन्हीं सब प्रयासों का नतीजा है कि यहां सिर्फ 23 प्रतिशत ऐक्टिव केस हैं। 77 प्रतिशत लोग ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं।

कितने क्वारंटीन सेंटर अब तक बंद किए गए?

राजीव गांधी स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, धारावी म्युनिसिपल स्कूल ट्रांजिट कैंप और स्काउड बेड हॉल दादर को बंद कर दिया गया है। क्योंकि यहां अब मरीजों को रखने की जरूरत नहीं थी। कुल 12 क्वारंटीन सेंटर बनाए गए थे, उनमें से 3 बंद हो गए।

धारावी में कोरोना को रोकने बीएमसी और मेडिकल की कितनी टीमें लगी थीं?

धारावी में कोरोना संक्रमण पर लगाम लगाना बड़ी चुनौती थी। इसलिए हमने पूरा होमवर्क कर टीम तैयार की। बीएमसी के कुल 2450 लोग यहां काम कर रहे थे। उसमें सफाई वाला से लेकर पानी खोलनेवाला तक शामिल था। इसी तरह 1250 लोगों की मेडिकल टीम कॉन्ट्रेक्ट पर थी। इसमें 12 से 13 डॉक्टर शामिल थे। सभी ने दिन-रात काम कर यहां कोरोना को हराने में अहम भूमिका निभाई।

धारावी में सार्वजनिक शौचालय बड़ी चुनौती है। इस समस्या से कैसे निपटा गया?

हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती सार्वजनिक शौचालय ही थे, जिनकी संख्या 450 से अधिक है। शुरू में दिन में दो से तीन बार सार्वजनिक शौचालयों को सैनिटाइज किया जाता था। जब तेजी से केस बढ़े तक दिन में 5 से 6 बार सैनिटाइजेशन किया जाने लगा। शौचालय के बाहर हैंडवाश रखा जाता था। शुरू में चोरी हो गए। लेकिन, बाद में उसकी व्यवस्था की गई। डेटॉल और हिंदुस्तान यूनिलीवर कंपनी ने यहां बड़े पैमाने पर हैंडवाश उपलब्ध कराए। लोगों में साबुन बांटा गया। एनजीओ व अन्य संस्थाओं ने काफी मदद की।

NBT

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

विदेश मंत्री एस. जयशंकर बोले- कोरोना के कहर के बाद दुनिया में राष्ट्रवाद का वर्चस्व होगा

[नई दिल्ली पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सीमा संकट के समाधान के प्रयासों के मद्देनजर सोमवार को विदेश मंत्री एस जयशंकर ने...

ताइवान पर कब्ज़े का पूर्वाभ्यास चल रहा है: ग्लोबल टाइम्स – BBC News हिंदी

[2 घंटे पहलेइमेज स्रोत, Getty Imagesताइवान के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि चीन के 19 विमान शनिवार को उनके एयर डिफ़ेंस आइडेंटिफ़िकेशन...

दिल्ली में रातभर हुई जबरदस्त बारिश, दरिया बनीं सड़कें, ये है आज दिनभर का अलर्ट

,(a=t.createElement(n)).async=!0,a.src="https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js",(f=t.getElementsByTagName(n)).parentNode.insertBefore(a,f))}(window,document,"script"),fbq("init","465285137611514"),fbq("track","PageView"),fbq('track', 'ViewContent'); Source link

Delhi Violence: आरोपी सफूरा जरगर को HC से बेल, गर्भवती JMI स्टूडेंट को मानवीय आधार पर राहत

https://www.youtube.com/watch?v=2n6YT5ZN1J0https://www.youtube.com/watch?v=2n6YT5ZN1J0 कोर्ट में बेल की मांग करते हुए जरगर की वकील नित्या रामकृष्णन ने कहा था कि वह नाजुक हालत में हैं और गर्भवती...

देश के 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को मिलेगा नवंबर तक मुफ्त राशन : प्रधानमंत्री मोदी

; if (d.getElementById(id)) return; js = d.createElement(s); js.id = id; js.async=true; is_fb_sdk=true; js.src="https://connect.facebook.net/en_GB/sdk.js#xfbml=1&version=v3.2&appId=1652954484952398&autoLogAppEvents=1"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk')); } //comment...

कानपुर की दो बड़ी वारदातें, एसएसपी दिनेश कुमार पी का हुआ तबादला

[Edited By Himanshu Tiwari | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 25 Jul 2020, 09:43:00 PM IST कानपुर एसएसपी दिनेश कुमार पी का तबादलाहाइलाइट्सकानपुर...