Home मुख्य समाचार Kanpur News: 8 पुलिसवालों की हत्या के बाद भी यूपी पुलिस को...

Kanpur News: 8 पुलिसवालों की हत्या के बाद भी यूपी पुलिस को नचाता रहा विकास, ऐसे चला शह-मात का खेल

[

Publish Date:Fri, 10 Jul 2020 09:05 AM (IST)

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। उत्तर प्रदेश का 5 लाख रुपये का ईनामी मोस्ट वांटेड बदमाश विकास दुबे शुक्रवार की सुबह पुलिस मुठभेड़ में मारा गया। गुरुवार सुबह वह नाटकीय ढंग से उज्जैन के महाकाल मंदिर के बाहर टहलते और फोटो खिंचाते पकड़ा गया। उसकी गिरफ्तारी के बाद मध्य प्रदेश पुलिस अपनी पीठ थपथपा रही थी, तो यूपी पुलिस भी बेहद सतर्क थी, लेकिन सवालों के घेरे में दोनों हैं। 60 मुकदमों में वांछित हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे, 8 पुलिसकर्मियों की हत्या से पहले जैसे यूपी पुलिस नचाता रहा, ठीक वैसे ही उसने इस सनसनीखेज मुठभेड़ के बाद भी यूपी पुलिस को नचाया। आइये जानते हैं, कैसे चला शह-मात का पूरा खेल।

कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत बिकरू गांव में 2-3 जुलाई की रात पुलिस वांटेंड हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए दबिश डालने पहुंची थी। टीम की कमान बिठूर के डीएसपी देवेंद्र मिश्रा संभाल रहे थे। उनके साथ तीन थानों की फोर्स मौजूद थी। इससे पहले कि पुलिस विकास को दबोचती, उसके गैंग ने पुलिस पर धावा बोल दिया। काफी देर तक चली मुठभेड़ में डीएसपी देवेंद्र मिश्रा, एसओ शिवराजपुर महेंद्र सिंह यादव, चौकी प्रभारी मंधना अनूप कुमार सिंह समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। सभी की गोलियों से छलनी कर और निर्ममता से पीट-पीटकर तथा धारदार हथियारों से हमला कर हत्या की गई थी। मुठभेड़ के बाद विकास दुबे और उसका पूरा गैंग गांव से फरार हो गया।

5 दिन में 25 हजार से 5 लाख का हुआ इनाम

इस हत्याकांड के बाद स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) समेत यूपी पुलिस की 60 से टीमें उसकी तलाश में जुट गईं। पांच दिन में यूपी सरकार ने 25 हजार के इनामी अपराधी पर 5 लाख रुपये का इनाम बढ़ाया तो देश भर की पुलिस विकास दुबे की तलाश में जुट गई। इस एक सप्ताह में यूपी पुलिस ने विकास के 5 साथियों को ढेर किया, जबकि दो मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार हुए। गुरुवार को विकास भी नाटकीय ढंग से उज्जैन स्थिति हाई सिक्योरिटी एरिया महाकाल मंदिर के बाहर पुलिस को मिल गया।

दो दिन से यूपी पुलिस को दे रहा था चकमा

विकास की तलाश में जुटी यूपी पुलिस का पूरा ध्यान पिछले दो दिन से दिल्ली-एनसीआर और नेपाल सीमा पर था। पिछले दो दिन में विकास दुबे के नेपाल भागने, दिल्ली में सरेंडर करने, फरीदाबाद के होटल में छिपे होने, ग्रेटर नोएडा कोर्ट में समर्पण करने की चर्चाएं चलती रहीं। बुधवार (8 जुलाई) रात तक ऐसी खबरें सामने आती रहीं कि विकास दुबे नोएडा के कई इलाकों में देखा गया है और पुलिस के पहुंचने से ठीक पहले वहां से भाग निकला। एक चर्चा ये भी चली कि विकास दुबे नोएडा के फिल्म सिटी स्थिति किसी न्यूज चैनल में समर्पण कर सकता है। दो दिन से चल रही इन चर्चाओं ने यूपी पुलिस को खूब छकाया। इन चर्चाओं पर भरोसा कर पुलिस कभी दिल्ली की खाक छानती तो कभी फरीदाबाद से विकास के प्यादों को पकड़ने तो कभी नोएडा-ग्रेटर नोएडा की सड़कों पर चेकिंग में उलझकर रह गई। उधर विकास दुबे पुलिस को चकमा दे मध्य प्रदेश भाग निकला। ऐसा माना जा रहा है कि पिछले दो दिनों से जो चर्चाएं चल रही थीं, वो विकास दुबे के इशारे पर ही जानबूझकर पुलिस को गुमराह करने के लिए फैलाई गईं। मतलब इस हत्याकांड के बाद भी विकास दुबे ने जैसे चाहा यूपी पुलिस को नचाता रहा।

रातों रात उज्जैन पहुंचना आसान नहीं

नोएडा या फरीदाबाद से महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन के बीच की दूरी तकरीबन 800 किलोमीटर है, जिसे सड़क मार्ग से तय करने में लगभग 15 घंटे का वक्त लगेगा। इससे ये तो साफ है कि बुधवार रात विकास दुबे दिल्ली एनसीआर में नहीं था। विकास दुबे कम से कम मंगलवार रात या बुधवार सुबह ही उज्जैन के लिए निकल चुका था। रात 10 बजे से सुबह 5 बजे के बीच कोरोना वायरस की वजह से देशभर में कर्फ्यू लागू है। ऐसे में देर रात सड़कों पर ट्रैफिक काफी कम होता है। लिहाजा रात में सड़क मार्ग से उज्जैन जाना विकास दुबे के लिए बहुत खतरनाक होता था। ऐसे में इस बात की संभावना ज्यादा है कि वह दिन ही दिन उज्जैन पहुंचा हो।

मध्य प्रदेश पुलिस भी सवालों के घेरे में

मध्य प्रदेश पुलिस द्वारा नाटकीय तरीके से विकास दुबे की गिरफ्तारी ही नहीं, बल्कि मुस्तैदी भी सवालों के घेरे में है। राज्य के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के अनुसार उन्होंने विकास की गिरफ्तारी के लिए राज्य पुलिस को अलर्ट पर रखा था। बावजूद विकास दुबे राज्य की सीमा में न केवल अंदर घुसा, बल्कि उज्जैन में दाखिल हो गया। इसके बाद हाई सिक्योरिटी वाले एरिया महाकाल मंदिर के आसपास घूमता रहा। बावजूद पुलिस उसे मंदिर प्रशासन की सूचना के बाद गिरफ्तार कर सकी।

Posted By: Amit Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

21 सितंबर से खुल रहे स्कूल, इस राज्य ने तो बोल दिया ना, जानिए आपके यहां क्या है मूड

[कोविड-19 के चलते मार्च से ही देशभर के स्‍कूल बंद हैं। केंद्र सरकार ने अनलॉक-4 में नौवीं से 12वीं तक के स्‍कूल खोलने...

अमेरिका राष्‍ट्रपति चुनाव: कमला हैरिस की उपराष्‍ट्रपति पद की उम्‍मीदवारी से भड़के डोनाल्‍ड ट्रंप

[Edited By Shailesh Shukla | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 12 Aug 2020, 08:16:00 AM IST कमला हैर‍िस पर भड़के अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड...

चीन ने अपने ही पैरों पर मारी कुल्‍हाड़ी? शी जिनपिंग को बहुत महंगा पड़ सकता है पड़ोसियों से पंगा

[कोरोना वायरस को लेकर जानकारियां छिपाने का आरोप चीन पर लगता रहा है। अब शी जिनपिंग (Xi Jinping) ने कई देशों के साथ...

देसी कोरोना वैक्सीन Covaxin पर गुड न्‍यूज, शुरुआती ट्रायल में नहीं दिखा कोई रिएक्‍शन

[Covid Coronavirus Vaccine India news: दिल्‍ली एम्‍स में 30 साल के शख्‍स को Covaxin की पहली डोज दी गई। दो घंटे बाद उन्‍हें...

दिल्ली में कोरोना के हालात पर अब केंद्र सरकार ने संभाला मोर्चा, तीन एक्सपर्ट टीमें बनाई गईं

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

हिंसक झड़प में भारतीय सैनिकों के साथ हुई थी बर्बरता, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा

https://www.youtube.com/watch?v=ubCYYcdGQyMhttps://www.youtube.com/watch?v=ubCYYcdGQyM सेना के अधिकारियों का कहना है कि शहीद सैनिकों के शरीर पर नाखून के निशान हैं, चाइनीज सैनिकों के पास चाकू भी थे।...