Home मुख्य समाचार एक्‍सपर्ट की जुबानी जानें- भारत से विवाद खत्‍म करने को किस कीमत...

एक्‍सपर्ट की जुबानी जानें- भारत से विवाद खत्‍म करने को किस कीमत पर समझौता चाहता है चीन

[

Publish Date:Mon, 06 Jul 2020 06:51 PM (IST)

नई दिल्‍ली (जेएनएन)। गलवन वैली में मई से शुरू हुआ तनाव चीन की सेना के एलएसी से पीछे चले जाने के बाद थमता दिखाई दे रहा है। यहां पर भारत की रणनीति फिर कारगर साबित हुई है और लद्दाख में चीन को मुंह की खानी पड़ी है। ये सब कुछ 30 जून को दोनों देशों की सेना के कमांडर स्तर की तीसरे दौर की बातचीत के बाद हुआ है। इसकी पुष्टि खुद चीन की ही तरफ से की गई है। एएनआई के मुताबिक चीन के मुखपत्र ग्‍लोबल टाइम्‍स ने चीन के विदेश मंत्री के हवाले से लिखा है कि दोनों देशों के बीच हुई दो दौर की वार्ता में बनी सहमित पर दोनों पक्ष अमल कर रहे हैं। आपको बता दें कि भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल ने इस मुद्दे पर चीन के विदेश मंत्री वांग यी से बातचीत की थी जिसके बाद चीन की सेना पीछे हटी है। चीन से सीमा पर उपजे तनाव के बीच रिटायर्ड मेजर जनरल पीके सहगल ने कहा कि ड्रेगन ने जिस मकसद से गलवन का विवाद खड़ा किया है उसमें वो सफल होने वाला नहीं है। 

आपको बता दें मई 15-16 की रात को गश्‍त के दौरान जब भारतीय जवानों ने चीन के सैनिकों को भारतीय सीमा से पीछे हटने को कहा था तब उन्‍होंने भारतीय सैनिकों पर लोहे की कटीली तार से उनके ऊपर हमला कर दिया था जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद से ही सीमा पर जबरदस्‍त तनाव है। भारत सीमा पर जवानों की चौकसी बढ़ाने के साथ-साथ एहतियात के तौर पर दूसरे उपाय भी कर रहा है, जिससे चीन के किसी भी दुस्‍साहस का कड़ाई से जवाब दिया जा सके।

चीन को भारत की ताकत है अहसास

आपको ये भी बता दें कि पिछले दिनों पीएम नरेंद्र मोदी ने लद्दाख स्थित सेना के डिविजनल हैडक्‍वार्टर का भी दौरा किया था। उन्‍होंने यहां पर जवानों की बहादुरी की सराहना की थी और उन्‍हें विश्‍वास दिलाया था कि पूरा देश उनके साथ खड़ा है। भारत सरकार ने सीमा पर चीन से निपटने के लिए जवानों को खुली छूट भी दी है, जिससे चीन को उसीसमय सबक सिखाया जा सके। इस पूरे मुद्दे पर सहगल ने दैनिक जागरण से हुई बातचीत के दौरान बताया कि अब 1965 का दौर नहीं है। भारतीय फौज किसी भी स्थिति में दुश्‍मन को करारा जवाब देने में सक्षम है। उनके मुताबिक चीन इस बात को बखूबी जानता है कि युद्ध कोई विकल्‍प नहीं है। उसे भारत की ताकत का पूरा अहसास है। वे मानते हैं कि चीन चाहता है कि भारत जो विश्‍व की उभरती हुई ताकत बन रहा है वो अपने आपको सीमित कर ले। इसके पीछे उसका मकसद इस पूरे क्षेत्र में अपने कम महत्‍व को बचाना है।

भारत से ये चाहता है चीन

मेजर जनरल सहगल का ये भी कहना है कि चीन चाहता है कि भारत अमेरिका के साथ खुद को रणनीतिक साझेदारी से दूर कर ले। वे ये भी मानते हैं कि चीन जानता है कि एलएसी में बदलाव से उसको कुछ हासिल होने वाला नहीं है। चीन ये भी चाहता है कि भारत हांगकांग और ताइवान के मुद्दे पर उसके खिलाफ कोई बयानबाजी न करे। ऐसे में चीन केवल अपने फायदे के लिए भारत से एक पॉलिटिकल कंसेशन चाहता है जो भारत उसको किसी भी सूरत से नहीं दे सकता है। भारत की तरफ से ये भी साफ कर दिया गया है कि वो लद्दाख से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक चीन को एक इंच जमीन पर कब्‍जा नहीं करने देगा। इस पर चीन शांति के साथ रजामंद हो जाता है तो ठीक नहीं तो इसके गंभीर परिणाम उसको भुगतने होंगे। उनके मुताबिक भारत की तरफ से कोई कंसेशन न मिलने पर चीन खुद को पीछे नहीं हटाएगा।

चौतरफा घिर चुका है चीन  

उन्‍होंने दैनिक जागरण को बताया कि चीन ने इतना बड़ा विवाद पैदा किया है, इसलिए वो आसानी से पीछे नहीं हटने वाला है। चीन का मुखपत्र ग्‍लोबल टाइम्‍स लगातार भारत को धमका रहा है। उनके मुताबिक वर्तमान में चीन बुरी तरह से घिर चुका है, लिहाजा उसको अपनी सेना को पीछे हटाना ही होगा। लेकिन इसमें लंबा वक्‍त लगेगा। मौजूदा समय में चीन पूरी तरह से अलग-थलग है जबकि भारत का साथ पूरी दुनिया दे रही है। सीमा पर भारतीय तैयारियों के मद्देनजर सहगल का कहना है कि भारत इसके प्रति पूरी तरह से सजग है। इजरायल और रूस से भारत ने बम, मिसाइलों के सौदे को अंतिम रूप दिया है। सरकार सेना के लिए मिसाइल (स्‍पाइक मिसाइल, स्‍पाइस 2000 बम, बराक 8 मिसाइल अस्‍त्र, मिटियोर मिसाइल) समेत दूसरी चीजें खरीद रही है। कुछ समय बाद हमें और राफेल विमान मिल जाएंगे। इसके अलावा सरकार हर वो चीज करने को तैयार है जिससे सीमा की सुरक्षा को अभेद्य बनाई जा सके। वर्तमान में भारतीय सेना हर तरह से तैयार है।

ये भी पढ़ें:- 

जानें चीन से बढ़ते संकट के बीच आखिर लद्दाख के नीमू क्‍यों गए पीएम मोदी, क्‍या होगा फायदा

Posted By: Kamal Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

सहवास करते वक्त जल्दी थक जाता हूं, क्या करूं?

सवाल: उम्र 45 साल है। वजन बहुत बढ़ा हुआ है। सहवास करते वक्त मैं जल्दी थक जाता हूं। सांस फूलने लगती है।...

सेना को अपने जवानों के खिलाफ सबूत मिले, कार्रवाई शुरू की; जुलाई में आतंकी बताकर 3 युवकों को मार दिया गया था

[श्रीनगरएक घंटा पहलेकॉपी लिंकशोपियां में 18 जुलाई को मारे गए युवकों की तस्वीर सोशल मीडिया पर आने के बाद परिजन ने इन्हें पहचाना...

LG अनिल बैजल ने पलटा केजरीवाल सरकार का फैसला, अब दिल्ली में होगा सबका इलाज

[नई दिल्ली: दिल्ली में अब सबका इलाज हो सकेगा. दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल (LG Anil Baijal) ने केजरीवाल सरकार (Arvind Kejriwal) के...

गृहमंत्री अमित शाह की राहुल गांधी को चुनौती- हो जाएंगे 1962 से आज तक दो-दो हाथ

[अमित शाह ने कोरोना पर मनीष सिसोदिया के बयान से भय फैल गया.नई दिल्ली : गृहमंत्री अमित शाह ने लद्दाख में हुई घटना...

बिकरू कांडः विकास का खजांची जय बाजपेई गिरफ्तार, साथी डब्बू भी धरा गया

[ अमर उजाला नेटवर्क, कानपुर Updated Mon, 20 Jul 2020 02:59 AM IST पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription for just ₹249 +...

LAC पर तनाव के बीच रूस में मिले भारत और चीन के रक्षा मंत्री, तस्वीरें बयां कर रहीं बातचीत में क्या हुआ

[हाइलाइट्स:पूर्वी लद्दाख में जारी जबरदस्त तनाव के बीच रूस की राजधानी मॉस्को में मिले भारत और चीन के रक्षा मंत्रीराजनाथ सिंह-वेई फेंघे के...