Home मुख्य समाचार नया टाइम टेबल बना रहा है रेलवे, अब कम स्टेशनों पर रुकेंगी...

नया टाइम टेबल बना रहा है रेलवे, अब कम स्टेशनों पर रुकेंगी ट्रेनें

[

Edited By Arun Kumar | टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Updated:

हाइलाइट्स

  • सभी पैसेंजर ट्रेनों के लिए नए सिरे से समयसारणी तैयार कर रहा है रेलवे
  • रेलवे का प्लान हॉल्ट स्टेशनों की संख्या की जाए सीमित, ताकि कम हो ट्रेवल टाइम
  • हॉल्ट कम होने से लंबी दूरी के लिए अच्छी रफ्तार से नॉन स्टॉप दौड़ पाएंगी ट्रेनें

दीपक के. दास, नई दिल्ली

कोविड- 19 महामारी के बाद से भारतीय रेल का संचालन अब वैसे नहीं हो रहा है, जिसके लिए इसे इस महामारी से पहले जाना जाता था। ऐसे में रेलवे अपने संचालन के लिए कुछ नया प्लान तैयार कर रहा है। वह ‘जीरो बेस्ड’ पर आधारित सभी ट्रेनों के लिए एक नया टाइमटेबल बना रहा है। इसका अर्थ है कि सभी यात्री ट्रेनों का शेड्यूल (समयसारणी) और उनकी फीक्वेंसी एक बार फिर से तैयार होगी।

सूत्रों ने बताया कि रेलवे की योजना है कि वह अपनी सभी मेल, एक्सप्रेस और कुछ अन्य ट्रेनों के हॉल्ट (गंतव्य पर पहुंचने से पहले बीच में रुकने वाले स्टेशन) को कम करना चाहता है, ताकि इससे गंतव्य तक पहुंचने में ट्रेनों के यात्रा समय को कम किया जा सके। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने हाल ही में कहा था कि कोरोना वायरस के कारण इस फैसले को अमल में लाने में देरी हुई, लेकिन इसे लागू किया जाएगा।

सूत्रों ने बताया कि कुछ मामलों में एक्सप्रेस और मेल ट्रेनों के स्टॉपेज बाद में तय किए जाएंगे। इससे पहले अधिकारी इस बात का आकलन करेंगे कि जिन स्टेशनों को हॉल्ट से हटाने की योजना है, उनसे कितने यात्री चढ़ते हैं और कितने उतरते हैं। एक अधिकारी ने बताया, ‘जो ट्रेन सप्ताह में एक या दो बार चलती हैं उनमें से कुछ ट्रेनों को यहां रोका जाए तो यह समझना आसान होगा। कई हॉल्ट्स को तो अतीत में राजनीतिक विचार-विमर्श के बाद ही मंजूरी मिली है।’

रेलवे का मानना है कि ट्रेनों को अपने गंतव्य पर पहुंचे से पहले अगर इन हॉल्ट्स को कम कर दिया जाता है तो इससे ट्रेन का यात्रा समय कम हो जाएगा और तब वे लंबी दूरी तक नॉन स्टॉप दौड़ पाएंगी। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ने बताया कि 151 ट्रेनों का संचालन निजी कंपनियां करेंगी, जो इस जीरो बेस्ड टाइमटेबल का हिस्सा होंगी।

बहरहाल, रेलवे के कुछ अधिकारियों ने हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि रेलवे मंत्रालय को निजी ऑपरेटरों के लिए टाइम टेबल तय करते हुए ध्यान रखना होगा। यह एयर इंडिया की तरह नहीं होना चाहिए कि हम निजी कंपनियों को उनके सबसे पसंदीदा समय पर ट्रेन चलाने की इजाजत दे दें।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

48 घंटे के भीतर पायलट गुट के 3 विधायकों के गहलोत खेमे में लौटने का दावा, BSP विधायकों के विलय की याचिका खारिज, पढ़ें 3 बड़े अपडेट्स

[राजस्थान में जारी राजनीतिक संग्राम में 3 बड़े अपडेट आए हैं। बीएसपी विधायकों के कांग्रेस में विलय को लेकर दायर याचिका हाईकोर्ट में...

डब्ल्यूएचओ ने माना- कोरोनावायरस के हवा से फैलने के सबूत हैं; दो दिन पहले 32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने ऐसा ही दावा किया था

[ डब्ल्यूएचओ ने कहा- हम हवा में फैलने के सबूतों को इकट्ठा कर समझ रहे हैं, हमारा काम जारी है32 देशों के 239 वैज्ञानिकों...

मॉस्को से अचानक तेहरान पहुंचे राजनाथ सिंह, जानिए क्यों अहम है यह दौरा

[तेहरानमास्को में शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में भाग लेने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अचानक ईरान की राजधानी तेहरान पहुंचे हैं।...

कश्‍मीर पर OIC, सऊदी अरब ने नहीं दिया साथ, भड़के पाकिस्‍तानी व‍िदेश मंत्री ने दी धमकी

[Edited By Shailesh Shukla | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 06 Aug 2020, 01:42:00 PM IST पाकिस्‍तानी व‍िदेश मंत्री ने सऊदी अरब को...

उत्तराखंड: हाईकोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्रियों को दिया झटका, अब बाजार मूल्य से चुकाना होगा किराया

[ ख़बर सुनें ख़बर सुनें उत्तराखंड हाईकोर्ट ने मंगलवार को अपने निर्णय में पूर्व मुख्यमंत्रियों को बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने पूर्व मुख्यमंत्रियों...