Home मुख्य समाचार कानपुर : यूपी पुलिस के आठ लोगों को मारने वाला विकास दुबे...

कानपुर : यूपी पुलिस के आठ लोगों को मारने वाला विकास दुबे कैसे बना अगड़ों की राजनीति का ‘हथियार’, जानें History-Sheet

[

यूपी पुलिस के 8 लोगों को मारने वाले विकास दुबे को राजनीतिक संरक्षण भी खूब मिला था

खास बातें

  • विकास दुबे को मिला था सत्ता का संरक्षण
  • स्थानीय विधायक और नेता करते थे मदद
  • एक बार चुना जा चुका है जिला पंचायत सदस्य

लखनऊ:

उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के गांव में  बिकरू में बीती रात 8 पुलिसकर्मियों पर घात लगाकर हुई हत्या के मामले में जानकारी मिल रही है कि हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के 2 गुर्गों को भी मार गिराया गया है. हालांकि अभी तक इस मामले की पूरी तरह से पुष्टि नहीं हो पाई है. पास से एक हथियार बरामद हुआ है.  वहीं इस पूरे मामले के सरगना विकास दुबे की तलाश में एक सघन तलाशी अभियान शुरू कर दिया है  घटना स्थल पर एक यूपी पुलिस के आलाधिकारी और फॉरेंसिंक टीम भी मौजूद है और साथ ही वहां पर एसटीएफ भी तैनात कर दी गई है. बात करें हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की तो उसका एक लंबा आपराधिक इतिहास है. साल 2001 में उसके खिलाफ बीजेपी नेता की हत्या का भी मामला दर्ज हुआ था लेकिन इस मामले में उसको सजा नहीं हो पाई थी. वहीं हाल में उसके खिलाफ एक और मामला दर्ज हुआ था और इसी मामले में उसे गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की भारी-भरकम टीम गांव गई थी. 

यह भी पढ़ें

राजनेताओं का मिला है संरक्षण

भारतीय राजनीति में अपराधियों और नेताओं का गठजोड़ कोई नई बात नहीं है. विकास  दुबे 90 के दशक में जब इलाके में एक छोटा-मोटा बदमाश हुआ करता था तो पुलिस उसे अक्सर मारपीट के मामले में पकड़कर ले जाती थी. लेकिन उसे छुड़वाने के लिए स्थानीय रसूखदार नेता विधायक और सांसदों तक के फोन आने लगते थे. विकास दुबे को सत्ता का संरक्षण भी मिला और वह एक बार जिला पंचायत सदस्य भी चुना जा चुका था. उसके घर के लोग तीन गांव में प्रधान भी बन चुके हैं. अगर कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो विकास दुबे ऊपर कैबिनेट मंत्रियों तक का हाथ था. 

जातिवादी राजनीति में हथियार बना विकास दुबे

कानपुर के जिस इलाकों से  विकास दुबे का रिश्ता था. दरअसल वह ब्राह्मण बहुल इलाका है लेकिन यहां की राजनीति में पिछड़ी जातियों को नेता भी हावी थे. इस हनक को कम करने के लिए नेताओं ने विकास दुबे का इस्तेमाल किया. उधर विकास की नजर इलाके में बढ़ती जमीन की कीमतों और वसूली पर था. फिर क्या था यहीं से शुरू सत्ता के संरक्षण में विकास दुबे के आतंक की शुरुआत हुई.  हालांकि बाद में उसका नाम कई ऐसे मामलों में सामने आया जिसमें निशाने पर अगड़ी जाति के भी नेता थे. दरअसल तब तक विकास दुबे का आतंक बढ़ गया था और कई नेता जिनसे विकास दुबे की पटरी नहीं खाती थी वो उसके निशाने पर आ गए थे क्योंकि उस समय इलाके में जमीनों की कीमत बढ़ने लगी थी. 

विकास दुबे की हिस्ट्रीशीट


 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

सुशांत केस में चैट से बड़ा खुलासा, रिया को भेजा गया मेसेज- चाय, कॉफी या पानी में 4 बूंदें डालो और उसे पीने दो

[सुशांत सिंह राजपूत के केस में बड़ा मोड़ आ गया है। मामले में अब ऐसा सबूत सामने आया है जो जांच की कड़ी...

मानसून सत्र से पहले 5 सांसद कोरोना पॉजिटिव मिले, संसद भवन परिसर को COVID फ्री बनाने की कवायद तेज

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

बलिदानी कर्नल संतोष बाबू की पत्नी को सीएम चंद्रशेखर राव ने सौंपा 5 करोड़ का चेक , मिलेगी ग्रुप-1 की सरकारी नौकरी

[ Publish Date:Mon, 22 Jun 2020 10:34 PM (IST) हैदराबाद, एएनआई। गलवन वैली में चीन के सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में बलिदान हुए...

महाराष्‍ट्र बीजेपी अध्‍यक्ष चंद्रकांत पाटिल बोले, शिवसेना के साथ बना सकते हैं सरकार

[फडणवीस संग पाटिल (फाइल फोटो)हाइलाइट्समहाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल के एक बयान ने सियासी सरगर्मियां बढ़ा दी हैंचंद्रकांत पाटिल ने कहा कि शिवसेना...

अब देश के ग्रामीण इलाकों में कहर बना कोरोना, सामुदायिक प्रसार के संकेतों ने बढ़ाई चिंता

[नई दिल्लीदेश के ग्रामीण इलाकों में कोरोना वायरस के बढ़ते कहर से चिंताएं बढ़ गई हैं। इन इलाकों में पहले से ही चिकित्सा...

यूपी में चार आईपीएस अधिकारियों का तबादला, अनंत देव पर गिरी गाज, एसटीएफ से हटाए गए

[ पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200 ख़बर सुनें ख़बर सुनें उत्तर प्रदेश की...