Home मुख्य समाचार गलवान झड़प के 18 दिन बाद मोदी 11 हजार फीट ऊंची फॉरवर्ड...

गलवान झड़प के 18 दिन बाद मोदी 11 हजार फीट ऊंची फॉरवर्ड लोकेशन पर पहुंचे; जवानों से बात की, घायल सैनिकों से भी मिलेंगे

[

  • 15 जून को गलवान में भारत के 20 सैनिक शहीद हुए थे
  • मोदी ने कहा था कि जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी

दैनिक भास्कर

Jul 03, 2020, 11:44 AM IST

लद्दाख. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह 8.30 बजे अचानक लद्दाख पहुंच गए। गलवान की झड़प के 18 दिन बाद मोदी लद्दाख का दौरा कर रहे हैं। पहले से इसकी जानकारी नहीं थी, लेकिन मोदी के लद्दाख पहुंचने की खबर अचानक आई।

मोदी ने नीमू में 11 हजार फीट ऊंची फॉरवर्ड लोकेशन पर आर्मी, एयरफोर्स और आईटीबीपी के जवानों से बात की। नीमू से चीन की दूरी सिर्फ 250 किलोमीटर है। मोदी ने जवानों से बातचीत का फोटो इंस्टाग्राम पर शेयर किया है। वे गलवान झड़प में घायल हुए सैनिकों से भी मुलाकात करेंगे। उनके साथ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और आर्मी चीफ एमएम नरवणे भी हैं।

राजनाथ के जाने का कार्यक्रम था, मोदी पहुंच गए
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का गुरुवार को लद्दाख जाने का कार्यक्रम था, लेकिन टाल दिया गया। आज फिर उम्मीद की जा रही थी कि राजनाथ लद्दाख पहुंचेंगे, लेकिन अचानक मोदी पहुंच गए। मोदी के लद्दाख दौरे को विपक्ष को जवाब के तौर पर देखा जा रहा है। चीन के मुद्दे पर राहुल लगातार मोदी पर निशाना साध रहे थे। उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री चीन का समर्थन क्यों कर रहे हैं? उन्हें सब कुछ साफ-साफ बताना चाहिए।

मोदी ने कहा था- हमें जवाब देना आता है
मोदी ने 28 जून को मन की बात कार्यक्रम में कहा था कि लद्दाख में भारत की भूमि पर आंख उठाकर देखने वालों को करारा जवाब मिला। हमें दोस्ती निभाना और आंखों में आंखें डालकर जवाब देना आता है। अपने वीर सपूतों के परिवारों के मन में जो जज्बा है, उन पर देश को गर्व है। लद्दाख में हमारे जो वीर जवान शहीद हुए हैं, उनके शौर्य को पूरा देश नमन कर रहा है।

सर्वदलीय बैठक में कहा था- सेना को फ्री हैंड दिया
गलवान की घटना के बाद मोदी ने 19 जून को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। मीटिंग में उन्होंने कहा कि सेना को फ्री हैंड दे दिया है। इससे पहले कहा था कि हमारे जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी। हम शांति चाहते हैं, लेकिन कोई उकसाएगा तो जवाब देने में भी सक्षम हैं।

तनाव कम करने के लिए भारत-चीन की आर्मी के अफसरों की बातचीत भी हो रही है। 30 जून को लेफ्टिनेंट जनरल लेवल की तीसरी मीटिंग हुई थी। उसमें इस बात पर जोर रहा है कि विवादित इलाकों से सैनिक हटाए जाएं।

गलवान से भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट्स यहां पढ़ें…

उन परिवारों की कहानियां, जिनके अपने इस वक्त गलवान में तैनात हैं

एयरफोर्स ने लेह में मौजूद मीडियावालों को फाइटर प्लेन के वीडियो बनाने से रोका

आसमान में उड़ते फाइटर प्लेन लेह के लोगों को कैसे करगिल युद्ध की याद दिला रहे हैं?

रसूल गलवान की चौथी पीढ़ी को अपने दादा के अब्बा की पूरी कहानी पिछले हफ्ते ही पता चली है

लद्दाख के टूरिज्म को 400 करोड़ का नुकसान, इतना तो करगिल युद्ध के वक्त भी नहीं हुआ था

पुरानी बात: चीनी सैनिक लाउडस्पीकर पर ‘तन डोले मेरा मन डोले’ गाना बजाते थे और फिर कहते थे- सर्दी आने वाली है, पोस्ट छोड़ दो

गलवान में 15 जून की रात की कहानी: जब भारतीय कर्नल को चीन के जवान ने मारा तो 16 बिहार रेजिमेंट के 40 जवान उस पर टूट पड़े थे

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

LG अनिल बैजल ने पलटा केजरीवाल सरकार का फैसला, अब दिल्ली में होगा सबका इलाज

[नई दिल्ली: दिल्ली में अब सबका इलाज हो सकेगा. दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल (LG Anil Baijal) ने केजरीवाल सरकार (Arvind Kejriwal) के...

दिल्ली मेट्रो 169 दिन बाद आज से फिर शुरू होगी, शुरुआत सिर्फ एक रूट से

[दिल्ली मेट्रो की सेवाएं सात सितंबर से शुरू होंगी. इसके लिए तैयारियां जारी हैं.नई दिल्ली: दिल्ली की लाइफलाइन मानी जाने वाली दिल्ली मेट्रो...

India China Faceoff: सैन्य वार्ता में भारत ने कहा- डेपसांग सेक्टर से अपने सैनिकों को बुलाए चीन, निर्माण कार्य भी रोके

[India China Border Dispute: भारतीय पक्ष की ओर से तीसरी इन्फेंट्री डिविजन के जनरल अफसर कमांडिंग मेजर जनरल अभिजीत बापट ने बातचीत का...

Coronavirus: पिछले 24 घंटे में 47704 नए मामले सामने आए, 654 लोगों की मौत

; if (d.getElementById(id)) return; js = d.createElement(s); js.id = id; js.async=true; is_fb_sdk=true; js.src="https://connect.facebook.net/en_GB/sdk.js#xfbml=1&version=v3.2&appId=1652954484952398&autoLogAppEvents=1"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk')); } //comment...

चीन से लड़ने को तैयार की गई एक खुफिया रेजीमेंट, जो सेना के बजाए रॉ के जरिए सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करती है

[ टूटू रेजिमेंट को शुरुआती दौर में ट्रेनिंग सीआईए ने दी थी, इस रेजीमेंट के जवानों को अमेरिकी आर्मी की ‘ग्रीन बेरेट’ की तर्ज़...

कोरोना प्रभावित देशों में भारत छठे नंबर पर पहुंचा, इटली से भी ज्यादा हुए कोविड-19 मरीज; 6500 से अधिक की मौत

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link