Home मुख्य समाचार EXCLUSIVE: प्लाज्मा थेरेपी को लेकर हैं कई सवाल, डॉक्टर से सुनिए जवाब

EXCLUSIVE: प्लाज्मा थेरेपी को लेकर हैं कई सवाल, डॉक्टर से सुनिए जवाब

[

  • देश में लगातार बढ़ रहा कोरोना वायरस का कहर
  • प्लाज्मा थेरेपी लेने वालों में कई भ्रांतियां और सवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल दिल्ली के आईएलबीएस अस्पताल में देश के पहले प्लाज्मा बैंक की शुरुआत करने जा रहे हैं. वहीं दिल्ली सरकार जल्द ही प्लाज्मा डोनेशन के लिए बाकायदा स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर जारी करने वाली है. लेकिन प्लाज्मा डोनेट करने और प्लाज्मा थेरेपी लेने वालों में कई भ्रांतियां और सवाल हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

जैसे, किस हालात में कोरोना मरीज को प्लाज्मा थेरेपी दी जा सकती है और कोरोना मरीज ठीक होने के कितने दिनों के बाद प्लाज्मा डोनेट कर सकता है. तमाम सवालों के जवाब जानने के लिए दिल्ली में प्लाज्मा का सबसे पहला ट्रायल करने वाले लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर सुरेश कुमार से आजतक ने EXCLUSIVE बातचीत की है.

सवाल- किस हालात में कोरोना मरीज को प्लाज्मा थेरेपी दी जाती है?

डॉक्टर सुरेश कुमार ने बताया कि प्लाज्मा थेरेपी के लिए एक प्रोटोकॉल बनाया गया है और प्लाज्मा थेरेपी उसे ही दी जाती है जो प्रोटोकॉल के तहत फिट है. सबसे पहले कोरोना मरीज में देखा जाता है कि उसकी सांस की गति 25 से ज्यादा हो, निमोनिया हो, बुखार भी हो, ऑक्सीजन 93% से कम हो और सांस लेने में तकलीफ हो रही हो. ऐसे मरीजों को प्लाज्मा देने पर फायदा होता है. लेकिन ऐसे मरीज जिन्हें कोरोना है और हल्का बुखार है या सांस लेने में दिक्कत नहीं है तो ऐसे मरीज को प्लाज्मा नहीं दिया जाता है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

सवाल- क्या वेंटिलेटर पर इलाज करा रहे मरीज को प्लाज्मा थेरेपी दी जा सकती है?

डॉक्टर सुरेश कुमार के मुताबिक वेंटिलेटर पर इलाज करा रहे कोरोना मरीज को प्लाज्मा थेरेपी दे सकते हैं लेकिन मरीज के कई अंग काम करना बंद कर दें, जैसे कोरोना मरीज के गुर्दे खराब हैं, या दिल की बीमारी है या मरीज को डायलिसिस की जरूरत है तो ऐसे मरीज पर प्लाज्मा थेरेपी का सफलता का रेट कम होता है.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

सवाल- कोरोना मरीज ठीक होने के कितने दिन के बाद प्लाज्मा डोनेट कर सकता है?

डॉक्टर सुरेश कुमार के मुताबिक कोरोना मरीज की अंतिम रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद 15 दिन से 21 दिन तक के बीच प्लाज्मा डोनेट किया जा सकता है. इस दौरान देखा जाता है कि क्या ठीक होने वाले मरीज में एंटीबॉडी बन गई हैं. प्लाज्मा में मौजूद एंटीबॉडी कोरोना वायरस को खत्म करती हैं. इसका फायदा तभी होता है जब ठीक होने के 2 से 3 हफ्ते के बाद प्लाज्मा डोनेट किया जाए. साथ ही एक बार प्लाज्मा डोनेट करने के हर 2 हफ्ते बाद भी दोबारा प्लाज्मा डोनेट किया जा सकता है.

सवाल- अफवाह या भ्रांति है कि जो प्लाज्मा डोनेट करेगा उसे दोबारा कोरोना हो जाएगा, या जिन्हें प्लाज्मा थेरेपी दी जाए उनकी तबीयत खराब हो जाएगी? कितनी सच्चाई है?

डॉक्टर सुरेश कुमार ने बताया कि अबतक प्लाज्मा डोनेट करने वाले डोनर में कोई कमजोरी नहीं आई है या उनके दोबारा संक्रमित होने की जानकारी नहीं है. ये सिर्फ अफवाह है और इनसे दूर रहना चाहिए. प्लाज्मा डोनेट करने वाले को कोई खतरा नहीं है और कई देश में प्लाज्मा थेरेपी पर स्टडी हुई है, जिसमें कभी नहीं पाया गया कि प्लाज्मा डोनेट करने वाले शख्स की मृत्यु हुई हो या उसे दोबारा कोरोना हो गया हो.

सवाल – क्या प्लाज्मा थेरेपी के लिए डॉक्टर की सिफारिश जरूरी होगी?

डॉक्टर सुरेश कुमार ने स्पष्ट करते हुए कहा कि बिना डॉक्टर की सलाह के प्लाज्मा थेरेपी नहीं दी जा सकती है. ये ICMR की गाइडलाइन्स हैं. क्योंकि प्लाज्मा एक हद तक काम करता है. मान लीजिए कोरोना मरीज को कैंसर है, पीलिया है, या अंग खराब है तो प्लाज्मा फायदा नहीं करेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android IOS

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

चीन को तालिबान से क्यों लगने लगा डर? दोस्त पाकिस्तान से मांगेगा मदद!

[पेइचिंगअफगानिस्तान सरकार के साथ तालिबान की शांति वार्ता से शुरू होने से चीन टेंशन में आ गया है। चीन को अपने सीपीईसी प्रोजक्ट...

भारत में COVID-19 वैक्सीन की क्या कीमत होगी? कंपनियों ने दी एक्सपर्ट पैनल को सभी जानकारी, आप भी पढ़ें

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source...

कमलनाथ ने किया राम मंदिर निर्माण का स्वागत, ओवैसी बोले- दिल की बात जुबां पर आ ही गई

,(a=t.createElement(n)).async=!0,a.src="https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js",(f=t.getElementsByTagName(n)).parentNode.insertBefore(a,f))}(window,document,"script"),fbq("init","465285137611514"),fbq("track","PageView"),fbq('track', 'ViewContent'); Source link