Home मुख्य समाचार चीनी कंपनियों को लगा बड़ा झटका! अब भारत में नहीं ले पाएंगी...

चीनी कंपनियों को लगा बड़ा झटका! अब भारत में नहीं ले पाएंगी हाइवे प्रोजेक्ट, सरकार का फैसला

[

नितिन गडकरी

भारत के हाइवे प्रोजेक्ट में अब चीनी कंपनियां शामिल नहीं हो पाएगी. केंद्रीय सड़क परिवहन एंव राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने इसकी जानकारी दी.

नई दिल्ली. भारत और चीन के जारी तनाव के बीच केंद्रीय सड़क परिवहन एंव राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Minister of Road Transport & Highways, Micro, Small & Medium Enterprises) ने कहा है कि भारत के हाइवे प्रोजेक्ट में चीन की कंपनियां शामिल नहीं हो पाएंगी. अगर वो किसी भारतीय या फिर अन्य कंपनी के साथ ज्वाइंट वेंचर बनाकर भी बोली लगाती है तो भी उन्हें शामिल नहीं किया जाएगा. गडकरी ने यह भी कहा कि सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि चीनी निवेशकों का सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSMEs) जैसे विभिन्न क्षेत्रों में भी निवेश से रोका जाए.

चीन की कंपनियों पर लगी रोक- नितिन गडकरी ने पीटीआई को बताया है कि हम सड़क निर्माण के लिए चीनी भागीदारों वाले संयुक्त उद्यमों को अनुमति नहीं देंगे. हमने कड़ा रुख अपनाया है कि अगर वे (चीनी कंपनियां) संयुक्त उद्यम के जरिए आते हैं, तो हम इसकी अनुमति नहीं देंगे. गडकरी ने बताया कि जल्द इससे जुड़ी नई नीति आएगी. जिसमें चीनी कंपनियों पर प्रतिबंध लगाने और भारतीय कंपनियों को राजमार्ग परियोजनाओं में ढील देने के नियम तय किए जाएंगे.

अभी चल रहे प्रोजक्ट का क्या होगा- मौजूदा समय में  कुछ ही परियोजनाएं जो बहुत पहले की गई थीं उनमें कुछ चीनी कंपनियां शामिल  है.  गडकरी ने कहा कि ये फैसला नई प्रोजेक्ट पर लागू होगा.

ये भी पढ़ें-भारत की छोटी-मझौली कंपनियों की मदद के लिए आगे आया World Bank, देगा 5,625 करोड़ रुपये का लोन

BSNL ने रद्द किया चीनी कंपनी का टेंडर- टेलीकॉम डिपार्टमेंट ने सरकारी टेलीकॉम कंपनी BSNL (Bharat Sanchar Nigam Limited) के 4G अपग्रेडेशन के लिए जारी किया गया टेंडर रद्द कर दिया है. केंद्र सरकार ने सरकारी कंपनी से अपग्रेडेशन के लिए चीनी उपकरणों का इस्तेमाल करने से मना किया था, जिसके बाद अब टेलीकॉम डिपार्टमेंट ने अपग्रेडेशन के लिए जारी टेंडर को रद्द कर दिया है. अब नया टेंडर जारी किया जाएगा.

नए टेंडर में इस क्षेत्र में भारतीय क्षमता को बढ़ाने और स्वदेशी तकनीक के इस्तेमाल को बढ़ावा देने पर जोर होगा. इसी हिसाब से नया टेंडर जारी किया जाएगा. इसमें मेक इन इंडिया के मिशन को बढ़ावा देने की योजना है. ऐसे में यह भी माना जा रहा है कि इस नए टेंडर में अपग्रेडेशन के लिए उपकरण उपलब्ध कराने वाली चीनी कंपनियों को लिस्ट से बाहर कर दिया जाएगा.

First published: July 1, 2020, 3:28 PM IST

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

पूर्व आर्मी ऑफिसरों ने कहा, राष्ट्रीय हितों के खिलाफ है भारत-चीन तनाव पर राहुल गांधी का बयान

[Rahul Gandhi on Ladakh issue : कांग्रेस सांसद राहुल गांधी चीन के साथ जारी तनाव पर अपने बयानों और ट्वीट् को लेकर बुरी...

भारत में अगले साल तक कोरोना वैक्सीन संभव, लेकिन टीकाकरण बड़ी चुनौती, जानें कारण

[ कोरोना वैक्सीन अगले साल तक भारत में आ जाने की उम्मीद है, लेकिन सबसे बड़ी चुनौती टीकाकरण को लेकर है। वैक्सीन सुरक्षा...

सीबीएसई की दसवीं और बारहवीं की बची परीक्षाओं पर से आज छंट जाएंगे संशय के बादल

[ Publish Date:Mon, 22 Jun 2020 07:12 AM (IST) जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। सीबीएसई की दसवीं और बारहवीं की बची परीक्षाओं सहित जेईई मेंस और...

Kanpur Shootout: शहीद सीओ देवेंद्र मिश्र से 22 साल पुरानी थी विकास की रंजिश, पहले भी चलाई थी गोली

[विकास दुबे ने 22 साल पहले 1998 में भी देवेंद्र मिश्रा पर गोली चलाई थी। उस दौरान देवेंद्र कल्याणपुर थाने में हेड कॉन्स्टेबल...

एक ही परिवार के पांच लोगों के शव घर में फांसी पर लटके मिले, एक चार साल का मासूम

[ अमर उजाला नेटवर्क, झांसी Updated Sun, 23 Aug 2020 10:24 PM IST पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी। *Yearly subscription for just ₹249 +...

Ayodhya ram mandir: राम मंदिर ट्रस्‍ट की श्रद्धालुओं से अपील- सोने, चांदी की ईंटें न करें दान

[Edited By Alok Bhadouria | नवभारत टाइम्स | Updated: 27 Jul 2020, 08:54:00 PM IST राम मंदिर का प्रस्‍तावित मॉडलहाइलाइट्सराम जन्मभूमि...