Home मुख्य समाचार भारत vs चीन: अपनी तरफ आती मिसाइल उड़ाने में कौन ज्‍यादा काबिल,...

भारत vs चीन: अपनी तरफ आती मिसाइल उड़ाने में कौन ज्‍यादा काबिल, जानिए

[

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) के पास चीन की ऐक्टिविटीज तेज हो गई हैं। न सिर्फ उसके सैनिक बॉर्डर से सटे इलाकों में बड़ी संख्‍या में मौजूद हैं, बल्कि चीनी एयरफोर्स भी LAC के बेहद करीब है। बॉर्डर के उसपार अपने इलाके में चीन ने कई बेस तैयार किए हैं जहां से उसके लड़ाकू विमान रोज उड़ान भर रहे हैं। चीन की ओर से खतरे को देखते हुए भारत का एयर डिफेंस सिस्‍टम अलर्ट कर दिया गया है। दुश्‍मन ने अगर भारतीय एयरस्‍पेस में घुसने की कोशिश की या फिर मिसाइल से हमला किया तो उसे माकूल जवाब मिलेगा। भारत का एयर डिफेंस सिस्‍टम दुनिया में बेस्‍ट न सही, मगर इतना मजबूत तो है कि अपनी सरहद की ओर आने वाली हर मिसाइल को उड़ा सके। आइए जानते हैं दोनों देशों के एयर डिफेंस सिस्‍टम के बारे में।

आसमान की सुरक्षा ‘आकाश’ के जिम्‍मे

NBT

आसमान में ऊंचाई पर उड़ता एयरक्राफ्ट हो या निचले इलाकों में मंडराता ड्रोन, भारत का ऐडवांस्‍ड एयर डिफेंस (AAD) मिसाइल किसी भी एलियन ऑब्‍जेक्‍ट को उड़ाने में सक्षम है। इसी का हिस्‍सा है Akash मिसाइल। जमीन से हवा में मार करने वाली यह मिसाइल 30 किलोमीटर तक के दायरे में बैलिस्टिक मिसाइल्‍स को इंटरसेप्‍ट कर सकती है। 720 किलो वजनी आकाश मिसाइल सुपरसोनिक स्‍पीड से चलती है। इतना काफी न हो तो 18 किलोमीटर ऊंचाई तक मौजूद दुश्‍मन की मिसाइल को निशाना बनाने में सक्षम है। इसे ट्रैक या व्‍हील, दोनों सिस्‍टम से फायर किया जा सकता है।

लेटेस्‍ट गैजेट्स से लैस है आकाश मिसाइल

NBT

आकाश मिसाइल सिस्‍टम में ऐडवांस्‍ड कम्‍प्‍यूटर और एक इलेक्‍ट्रो-मेकेनिकल ऐक्टिवेटर लगा है। यह ‘राजेंद्र’ नाम के रडार से सिग्‍नल लेकर निशाना साधती है। ‘राजेंद्र’ में कई ऐडवांस्‍ड फीचर्स हैं जैसे वह अपनी रेंज में 64 टारगेट्स को ट्रैक कर सकता है। यह एक साथ चार निशानों की तरफ 8 मिसाइलें छोड़ने में सक्षम है।

प्रद्युम्‍न से बचकर जा पाना बहुत मुश्किल

NBT

आकाश के बाद, अब बारी पृथ्‍वी की। पृथ्‍वी एयर डिफेंस यानी PAD सिस्‍टम 80 से 120 किलोमीटर तक की रेंज में इनकमिंग मिसाइल्‍स को संभाल सकता है। पृथ्‍वी मिसाइल पर ‘प्रद्युम्‍न’ असल में टूज मिसाइल है। यह सुपरसोनिक मिसाइल आसानी से 300 किलोमीटर से 2000 किलोमीटर रेंज वाली बैलिस्टिक मिसाइल्‍स को हवा में ही ढेर कर सकती है। यह मिसाइल सिस्‍टम वातावरण के बाहर से आने वाली मिसाइल्‍स को भी उड़ा सकता है। इसमें लॉन्‍ग रेंज का ट्रैकिंग रडार लगा है जो इसे टारगेट लॉक करने में मदद करता है। ट्रैजेक्‍टरी ऑप्टिमाइजेशन फीचर की बदौलत यह डिफेंस सिस्‍टम हाई और लो, दोनों तरह के ऑल्‍टीट्यूड्स में यूज किया जा सकता है।

धरती से बाहर भी चीन ही हरकत का जवाब देने में सक्षम

NBT

भारत के पास सिर्फ धरती पर ही नहीं, अंतरिक्ष में भी युद्ध लड़ने की क्षमता है। दुनिया में सिर्फ तीन और देशों- अमेरिका, रूस और चीन के पास ही ऐंटी-सैटेलाइट मिसाइल है। भारत ने पिछले साल 17 मार्च को ‘मिशन शक्ति’ सफलतापूर्वक पूरा किया था। तब हमने धरती की निचली कक्षा में मौजूद एक सैटेलाइट को ऐंटी सैटेलाइट मिसाइल से उड़ाकर पूरी दुनिया में अपनी स्‍पेस पावर का लोहा मनवाया था।

‘अश्विन’ और SPYDER से बचकर कहां जाएगा चीन

NBT

भारत के पास इजरायल की SPYDER मिसाइल भी है जो 5 से 50 किलोमीटर तक की रेंज में मार कर सकती है। इसके अलावा ‘अश्विन’ नाम की एक स्‍वदेशी मिसाइल भी है जो करीब 30 किलोमीटर तक के ऑल्‍टीट्यूट पर मिसाइल्‍स को इंटरसेप्‍ट कर लेती है।

​जल्‍द भारत को मिलने वाला है ‘ब्रह्मास्‍त्र’

NBT

भारत को रूस की ओर से जल्‍दी ही S-400 Triumf एयर डिफेंस मिसाइल सिस्‍टम मिलने वाला है। यह सिस्‍टम भारतीय एयरफोर्स की रीच को चार गुना तक बढ़ा देगा। S-400 Triumf दुनिया के सबसे ऐडवांस्‍ड एयर डिफेंस सिस्‍टम्‍स में से एक है। इसमें जो रडार लगे हैं वह 1,000 किलोमीटर दूर से ही आ रहे ऑब्‍जेक्‍ट को पकड़ सकते हैं। दर्जनों ऑब्‍जेक्‍ट्स पर एकसाथ नजर रखने में सक्षम यह डिफेंस सिस्‍टम फाइटर एयरक्राफ्ट्स पर निशाना लगाने में जल्‍दी चूकता नहीं। एक S-400 सिस्‍टम से एक पूरे स्‍पेक्‍ट्रम को हवाई खतरे से सुरक्षित किया जा सकता है। चीन के साथ बॉर्डर पर जारी तनाव के बीच इस सिस्‍टम को जल्‍द हासिल करने की कोशिश हो रही है ताकि पूर्वी लद्दाख सेक्‍टर में सिर्फ एक डिफेंस सिस्‍टम से ही ड्रैगन की हर हरकत पर नजर रखी जाए।

दो टन वजनी है चीन की HQ-9 मिसाइल

NBT

रूस के S-300V जैसी चीन की HQ-9 भी टू-स्‍टेज मिसाइल है। जमीन से हवा में मार करने वाली यह मिसाइल सिस्‍टम करीब दो टन वजनी और 7 मीटर लंबी है। HQ-9 चीन का मेन एयर डिफेंस सिस्‍टम है। इसके वारहेड की अधिकतम रेंज 200 किलोमीटर और स्‍पीड 4.2 मैच है। इस मिसाइल में खामी यह है कि इसका थ्रस्‍ट वेक्‍टर कंट्रोल एक साइड से नजर आता है। यह मिसाइल पहले बहुत बड़ी थी, रूस की मदद से अब इसे इतना छोटा बना लिया गया है कि ट्रांसपोर्ट लॉन्‍चर से छोड़ा जा सके। फिर भी इसकी बैलिस्टिक क्षमता पर एक्‍सपर्ट्स को शक है।

चीन ने रूस से खरीदा है S-300 मिसाइल सिस्‍टम

NBT

भारत और चीन के म्‍युचुअल फ्रेंड यानी रूस ने दोनों देशों को हथियार बेचे हैं। रशियन S-300 एयर डिफेंस सिस्‍टम को चीन ने खरीदा और फिर उसे अपने यहां और डेवलप किया। S-300V का चीनी वर्जन HQ-18 के नाम से जाना जाता है। इन मिसाइल सिस्‍टम की रेंज 100 किलोमीटर तक है। कुछ मिसाइलें 150 किलोमीटर तक भी मार कर सकती है। इसका रडार एक साथ 200 टारगेट्स को डिटेक्‍ट कर सकता है।

चीन के पास पहले से है S-400 डिफेंस सिस्‍टम

NBT

दुनिया के सबसे ऐडवांस्‍ड मिसाइल सिस्‍टम्‍स में से एक, S-400 Triumf की एक खेप चीन के पास पहले से मौजूद है। इस साल फरवरी में रूस ने दूसरी खेप चीन को भेजी थी। 2014 में चीन ने दो S-400 सेट मांगे थे। पहले सेट की डिलीवरी 2018 में पूरी हुई। यानी तुलनात्‍मक रूप से देखें तो दोनों देशों के पास मजबूत एयर‍ डिफेंस सिस्‍टम है। हालांकि लॉन्‍च रेंज में भारत अभी थोड़ा कमजोर नजर आता है मगर S-400 आ जाने से उसकी स्थिति और मजबूत हो जाएगी।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

दफ्तर तोड़े जाने पर कंगना की मां बोलीं- महाराष्ट्र सरकार ने जो किया वो निंदनीय, पूरा देश मेरी बेटी के साथ

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

NEET 2020 LIVE UPDATES: कोरोना महामारी के बीच नीट परीक्षा आज, परीक्षा से जुड़ी हर अहम जानकारी यहां पढ़ें

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

Shaheen Bagh मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा, प्रदर्शन का अधिकार लेकिन लोगों के आने-जाने हक न छीनें

[नई दिल्लीसुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कहा है कि प्रदर्शन के अधिकार और लोगों के सड़क के इस्तेमाल के मामले में संतुलन बनाना...

Kanpur Shootout: शहीद सीओ देवेंद्र मिश्र से 22 साल पुरानी थी विकास की रंजिश, पहले भी चलाई थी गोली

[विकास दुबे ने 22 साल पहले 1998 में भी देवेंद्र मिश्रा पर गोली चलाई थी। उस दौरान देवेंद्र कल्याणपुर थाने में हेड कॉन्स्टेबल...

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामाला: केंद्र ने दी CBI जांच की मंजूरी तो नीतीश बोले- धन्यवाद, न्याय मिल सकेगा

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link