Home मुख्य समाचार अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के परिचालन पर लगी रोक 15 जुलाई तक बढ़ी, सरकार...

अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के परिचालन पर लगी रोक 15 जुलाई तक बढ़ी, सरकार ने जारी किए निर्देश

[

Publish Date:Fri, 26 Jun 2020 06:36 PM (IST)

नई दिल्‍ली, एएनआइ। सरकार ने अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानों के परिचालन पर लगाई गई रोक को आगामी 15 जुलाई तक के लिए बढ़ा दिया है। सरकार ने कहा है कि इस दौरान भारत से जाने और विदेशों से आने वाली सभी अंतरराष्‍ट्रीय यात्री उड़ानें (International commercial passenger services) निलंबित रहेंगी। सरकार की ओर से सभी विमानन कंपनियों को जारी सर्कुलर में कहा गया है कि उक्‍त आदेश अंतरराष्‍ट्रीय कार्गो ऑपरेशनों और डीजीसीए द्वारा अप्रूव्ड उड़ानों पर लागू नहीं होगा। यही नहीं विशेष मामलों में केस टू केस के आधार पर सलेक्‍टेड रास्‍तों पर कुछ उड़ान सेवाओं को भी इस आदेश से बाहर रखा गया है। 

वहीं विमानन नियामक डीजीसीए ने एक सर्कुलर जारी कर कहा कि अलग-अलग मामलों के आधार पर चुनिंदा रूटों पर सक्षम प्राधिकरण द्वारा विमान सेवा के परिचालन की अनुमति दी जाएगी। सरकार की ओर से कहा गया है कि कोरोना संकट को देखते हुए उक्‍त फैसला लिया गया है। मालूम हो कि बीते 23 मार्च को अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों पर रोक लगा दी गई थी। हालांकि बीते छह मई को विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए सरकार ने बंदे भारत मिशन के तहत एयर इंडिया एवं अन्‍य निजी एयरलाइनों को विशेष परिस्‍थ‍ित‍ियों में विदेशों के लिए उड़ानों की इजाजत दी थी। बीते 25 मई को लॉकडाउन के दो महीने के बाद घरेलू उड़ानों के संचालन को मंजूरी दी गई थी।

कुछ दिनों से ऐसी अटकलें थी कि केंद्र सरकार घरेलू उड़ानों के शुरू किए जाने के बाद अब अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को जल्द बहाल करने पर फैसला लेगी लेकिन अब इस फैसले ने इन पर विराम लगा दिया है। उल्‍लेखनीय है कि कई देशों ने अपने यहां फंसे भारतीयों के लिए भारत से विमान सेवाएं शुरू करने की अपील की थी। इसके बाद भारत ने अपने नागरिकों को लाने के लिए बंदे भारत अभियान शुरू किया था। विदेश मंत्रालय की मानें तो सरकार ने ‘वंदे भारत’ अभियान के तहत अब तक 3.6 लाख से अधिक भारतीयों को विदेशों से वापस लाया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कल बताया था कि कुल 5,13,047 भारतीयों ने विदेशों में भारतीय मिशनों के साथ वतन वापसी के लिए अपना अनुरोध किया है। 

विदेश मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़े बताते हैं कि जिनका पंजीकरण हुआ है उनमें से 3,64,209 भारतीय इस मिशन के तहत वतन वापस लाए जा चुके हैं। इनमें से 84,000 से अधिक भारतीय नेपाल, भूटान और बांग्लादेश से जमीनी सीमा आव्रजन चौकियों के रास्‍ते लौटे हैं। सरकार की मानें तो वंदे भारत मिशन के पहले तीन चरणों में पांच महाद्वीपों के 50 से अधिक देशों से लगभग 875 अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें निर्धारित की गई थीं जिनसे 700 से अधिक उड़ानें भारत पहुंच चुकी हैं। इन उड़ानों से लगभग 1,50,000 भारतीयों को वापस लाया गया है। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

Weather Update Today: मौसम विभाग का अलर्ट, बिहार सहित इन राज्यों में अगले पांच दिन हो सकती भारी बारिश

[ Publish Date:Thu, 09 Jul 2020 02:53 PM (IST) नयी दिल्ली, एजेंसी। उत्तर भारत के कई भागों में बुधवार को हल्की से मध्यम बारिश...

सोनाक्षी सिन्हा के बाद इन स्टार्स ने ट्विटर को कहा अलविदा, बताई ये वजह

[ बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाक्षी के बाद अब एक्टर साकिब सलीम, आयुष शर्मा और जहीर इकबाल ने ट्विटर को अलविदा कह दिया...

Monsoon Update: मॉनसून ने पूरे देश में समय से पहले दी दस्तक, दिल्ली-NCR में 3 दिन बारिश के आसार

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source...

चीन पर PM नरेंद्र मोदी की सर्वदलीय बैठक के लिए आरजेडी, आप, एआईएमआईएम को अब तक न्योता नहीं?

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

अगले 48 घंटे के भीतर कई राज्यों में बारिश की संभावना, दिल्ली से अभी मानसून काफी दूर

[ न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Fri, 12 Jun 2020 05:30 PM IST पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों से...