Home मुख्य समाचार गलवान में खूनी संघर्ष के बाद अब उत्तरी लद्दाख में चीनी सेना...

गलवान में खूनी संघर्ष के बाद अब उत्तरी लद्दाख में चीनी सेना ने लगाया टेंट, भारतीय सेना ने भी मौजूदगी बढ़ाई

[

चीन ने पूर्वी लद्दाख में ही नहीं, बल्कि उत्तरी लद्दाख में भी भारतीय दावे वाले क्षेत्र में घुसपैठ की है। सेना की तरफ से हालांकि इस बारे में कुछ नहीं कहा गया है, लेकिन मीडिया में आई उपग्रह की तस्वीरों से साफ दिखता है कि डेप्सांग सेक्टर में चीनी सेना की उपस्थिति देखी गई है। यहां उसने कुछ स्थाई निर्माण किए हैं और टेंट भी लगाए हैं। साथ ही दो सड़कें भी बनाई हैं। एलएसी के निकट चीनी सैनिकों की उपस्थिति बढ़ी है, जिसके बाद भारत ने भी अपने सैनिक बढ़ाए हैं। 

गलवान घाटी में हुए खूनी संघर्ष के बाद एक तरफ चीन से तनाव कम करने को लेकर सैन्य एवं कूटनीतिक स्तर पर वार्ताएं चल रही हैं, वहीं यह नया खुलासा चिंता पैदा करता है। सूत्रों का कहना है कि ये तस्वीरें जून महीने की हैं तथा इसके बाद भारतीय सेना ने भी अपनी उपस्थिति उस इलाके में बढ़ा दी है। बड़े पैमाने पर भारतीय सुरक्षा बलों की वहां मौजूदगी है। समझौते का उल्लंघनसूत्रों के अनुसार डेप्सांग सेक्टर दौलतबेग ओल्डी से पूर्व की दिशा में है तथा लद्दाख का यह उत्तरी इलाका है। 

रणनीतिक रूप से यह क्षेत्र महत्वपूर्ण है। डेप्सांग में भी एलएसी स्पष्ट नहीं है तथा इस जगह को लेकर भारत और चीन के अपने-अपने दावे हैं। यह करीब 20 किलोमीटर का क्षेत्र है। इस इलाके में दोनों देशों की सेनाएं पेट्रोलिंग करती हैं लेकिन पूर्व के समझौतों के तहत किसी को भी स्थाई निर्माण बनाने की अनुमति नहीं है लेकिन चीन ने निर्माण कर समझौते का उल्लंघन किया है। गश्ती दल की राह में भी बाधा पहुंचाई। सूत्रों का कहना है कि हाल के दिनों में चीन की तरफ से इस क्षेत्र में भारतीय गश्ती दल की राह में भी बाधा पहुंचाई गई। 

यह भी पढ़ें- चीन ने आखिर माना झड़प में मारे गए सैनिक, संख्या नहीं बताने का यह बहाना

हालांकि, ये घटनाएं 22 जून से पहले की हैं। बता दें कि 22 जून को लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की वार्ता में पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले स्थानों से तनाव कम करने पर सहमति हुई है, लेकिन यह टकराव का नया मोर्चा है। चीनी सैनिकों की उपस्थिति बढ़ रहीसूत्रों का यह भी कहना है कि एलएसी के निकट चीनी सेना की उपस्थिति लगातार बढ़ रही है। 

हालांकि, वे चीनी क्षेत्र में ही मौजूद हैं। रक्षा विशेषज्ञों ने चिंता जाहिर की है जब एक तरफ चीन शांति की बात कर रहा है तो दूसरी तरफ सेना की उपस्थित क्यों बढ़ा रहा है। रक्षा विशेषज्ञ अजय शुक्ला ने ट्वीट कर दावा किया है कि गलवान घाटी संघर्ष के बाद चीनी सेना की संख्या में 30 फीसदी का इजाफा हुआ है।
 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

सीओ के सिर पर गोली मारी; घर से घसीटते हुए बाहर ले जाकर कुल्हाड़ी से पैर काटा; एक के ऊपर एक 5 शव रखे मिले थे

[ घायल पुलिसवाले मदद के लिए दरवाजे खटखटाते रहे, पीछे से आए बदमाशों ने गोलियां दागींकानपुर में गुरुवार रात मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मियों की...

Delhi-NCR Live: दिल्ली में कोरोना वायरस के रिकॉर्ड 2224 नए मामले आए सामने, गौतमबुद्धनगर में 70 पॉजिटिव

[ सार दिल्ली-एनसीआर में संक्रमण की दर लगातार तेज गति से बढ़ रही है।  खासतौर से दिल्ली में अब संक्रमितों की कुल संख्या लगभग...

फर्जी शिक्षकों की अब खैर नहीं, सीएम योगी का बड़ा फैसला, 900 करोड़ वसूलेगी यूपी सरकार

[Edited By Abhishek Shukla | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 02 Jul 2020, 11:10:00 PM IST सीएम योगी आदित्यनाथहाइलाइट्सउत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग...

चीन विवाद पर सोनिया-राहुल ने पूछा केंद्र से सवाल, कहा- सच बताएं प्रधानमंत्री मोदी

https://www.youtube.com/watch?v=631bnudjd1Q राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी इस बारे में सच बोलें और अपनी जमीन वापस लेने के लिए कार्रवाई करें तो पूरा...

चीन ने अपने ही पैरों पर मारी कुल्‍हाड़ी? शी जिनपिंग को बहुत महंगा पड़ सकता है पड़ोसियों से पंगा

[कोरोना वायरस को लेकर जानकारियां छिपाने का आरोप चीन पर लगता रहा है। अब शी जिनपिंग (Xi Jinping) ने कई देशों के साथ...

नरेश त्रेहान: सफदरजंग अस्पताल में इंटर्नशिप से लेकर मेदांता की स्थापना तक का सफर

[डॉक्टर नरेश त्रेहान अकसर चर्चा में रहते हैं। वह देश के जानेमाने डॉक्टर हैं। इनके जाने-पहचाने अस्पताल मेदांता की जमीन आवंटन को लेकर...