Home मुख्य समाचार चीन का डबल गेम, एक तरफ शांति की बात और दूसरी ओर...

चीन का डबल गेम, एक तरफ शांति की बात और दूसरी ओर एलएसी पर खोल रहा नए मोर्चे

[

India China border dispute: भारत की लाख कोशिशों के बावजूद चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है और डबल गेम खेल रहा है। गलवान घाटी और पैंगोग सो के बाद अब वह दौलत बेग ओल्डी में भी भारतीय सेना की गश्त में बाधा डाल रहा है।

Edited By Dil Prakash | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

सैटेलाइट तस्वीरों के मुताबिक चीन की सेना गलवान घाटी से नहीं हटी है
हाइलाइट्स

  • भारत की लाख कोशिशों के बावजूद चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है
  • एक तरफ शांति की बात रहा है और दूसरी ओर एलएसी नए मोर्चे खोल रहा है
  • गलवान घाटी और पैंगोग सो के बाद अब दौलत बेग ओल्डी में भी भारतीय सेना की गश्त में बाधा
  • कराकोरम दर्रे के पास के इलाके में भी घुसपैठ करना चाहता है घुसपैठ

नई दिल्ली

भारत की लाख कोशिशों के बावजूद चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है और डबल गेम खेल रहा है। एक तरफ वह सीमावर्ती इलाकों में शांति एवं स्थिरता की बात कर रहा है और दूसरी ओर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर नए मोर्चे खोल रहा है। सूत्रों के मुताबिक गलवान घाटी और पैंगोग सो के बाद अब वह दौलत बेग ओल्डी में भी भारतीय सेना की गश्त में बाधा डाल रहा है।

सूत्रों के मानें तो चीन ने दौलत बेग ओल्डी और डेस्पांग सेक्टर के पास अपने तंबू गाड़ दिए हैं। वहां चीनी सेना के बेस में हलचल तेज हो गई है। जून की सैटेलाइट तस्वीरों में इसका खुलासा हुआ है। वहां चीन के किसी भी दुस्साहस का जवाब देने के लिए भारतीय सेना ने भी वहां अपनी स्थिति मजबूत कर ली है। एलएसी पर चीन के आक्रामक रवैये को देखते हुए भारत ने भी अपनी चौकसी बढ़ा दी है। बुधवार को लेह से एयरफोर्स के विमानों ने सीमा की टोह लेने के लिए नियमित रूप से उड़ान भरी। लेह में सेना की गतिविधि हाल के दिनों में काफी बढ़ गई है।

चीन से बोला भारत, LAC पर दिखाएं ईमानदारी

कराकोरम दर्रे पर नजर

सूत्रों का कहना है कि चीन कराकोरम दर्रे के पास के इलाके में भी घुसपैठ करना चाहता है। यह दर्रा सामरिक दृष्टि से बेहद अहम है। ओपन सोर्स से मिली 22 जून की सैटेलाइट तस्वीरों में दिख रहा है कि चीन की सेना गलवान घाटी से पीछे नहीं हटी है। 15 जून को जहां दोनों सेनाओं में हिंसक झड़प हुई थी।

इंडिया टुडे ने सैटेलाइट इमेजरी एक्सपर्ट कर्नल (रिटायर्ड) विनायक भट ने इन तस्वीरों का विश्लेषण कराया। कर्नल भट ने बताया, ‘दोनों पक्षों ने नदी के किनारों पर अपने सैनिकों को तैनात किया है. लेकिन लगता है कि PLA के सैनिक अपने वायदे के मुताबिक पीछे नहीं हटे हैं।’ कर्नल भट ने नोट किया कि भारतीय पक्ष की ओर तंबू संघर्ष की जगह से 500 मीटर दूरी पर हैं। वहीं चीनियों का तबुंओं और स्टोरेज का दायरा ज्यादा बड़ा फैला है और संघर्ष की जगह के बहुत पास है। कर्नल भट ने कहा, ‘तस्वीरों में ऑब्जर्व की गई अधिकतर स्टोरेज संघर्ष की जगह से 200 मीटर से 2 किलोमीटर तक है।’

चीन एक तरफ एलएसी पर नए मोर्चे खोल रहा है और दूसरी ओर चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि चीन और भारत अपने नेताओं के बीच बनी महत्वपूर्ण सहमति और सिलसिलेवार समझौतों का सख्ती से पालन करने, सैन्य क्षेत्र में विश्वास बहाली के उपायों को और मजबूत करने तथा सीमावर्ती इलाकों में शांति एवं स्थिरता को संयुक्त रूप से बरकरार रखने के राजी हो गए हैं।

सीमा पर तनाव के बीच भारत-चीन सैनिकों की फाइट का नया वीडियोसीमा पर तनाव के बीच भारत-चीन सैनिकों की फाइट का नया वीडियोलद्दाख की गलवान घाटी में भारत-चीन के सैनिकों में हुई खूनी झड़प के चलते पैदा हुए तनाव के बीच सोमवार को एक नया वीडियो सामने आया। वीडियो में भारत और चीन के सैनिक भिड़ते हुए नजर आ रहे हैं। ये वीडियो कहां का, कब का है…इस बारे में दोनों पक्षों की ओर से कोई जानकारी नहीं दी गई है। लेकिन सैनिकों के मुंह पर लगे मास्क इस बात की पुष्टि कर रहे हैं कि ये वीडियो हाल ही का है।

शांति का दावा

दोनों देशों के वरिष्ठ राजनयिकों ने 15 जून को दोनों देशों की सेनाओं के बीच हुई झड़प के बाद पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव घटाने के तरीके तलाशने के लिये वीडियो कांफ्रेंस के जरिए स्पष्ट और गहन वार्ता की। चीनी विदेश मंत्रालय में सीमा एवं सागरीय मामलों के विभाग के महानिदेशक होंग लियांग और रतीय विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पूर्वी एशिया), नवीन श्रीवास्तव के बीच यह वार्ता हुई।

गलवान में भारतीय फौज ने चीनियों को खदेड़ा


चीनी विदेश मंत्रालय द्वारा यहां जारी एक बयान के मुताबिक दोनों पक्षों ने चीन-भारत सीमा पर हालिया स्थिति पर स्पष्ट रूप से और गहनता से विचारों का आदान-प्रदान किया। उन्होंने दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच 17 जून को फोन पर बातचीत के दौरान बनी महत्वपूर्ण सहमति को यथाशीघ्र लागू करने की इच्छा जताई।

सैन्य स्तर पर सहमति का क्रियान्वयन

बयान में कहा गया है कि दोनों पक्ष छह जून और 22 जून को सैन्य स्तर की दो चरण की वार्ता के नतीजों को क्रियान्वित करने के लिये दोनों देशों की सेनाओं के साथ दोनों पक्ष सक्रियता से सहयोग करेंगे। दोनों पक्ष सैन्य एवं राजनयिक माध्यमों के जरिए संचार एवं समन्वय मजबूत करने तथा सीमावर्ती इलाकों में प्रासंगिक मुद्दों का द्विपक्षीय वार्ता एवं विचार-विमर्श के जरिए शांतिपूर्ण समाधान करने को राजी हुए।

Web Title china playing double game with india(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

bharat me ek alag tarah ka corona virus: भारत में है एक अलग तरह का कोरोना वायरस

[नई दिल्ली भारत में कोरोना वायरस (Corona Virus in India) के मामले रोज नए रेकॉर्ड बना रहे हैं। बुधवार शाम तक देश में कोरोना...

UP Board 10th 12th Result 2020 Live Updates: कुछ घंटे बाकी, 12 बजे upmsp.edu.in और upresults.nic.in पर जारी होगा यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटर रिजल्ट

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

सहवास के दौरान प्राइवेट पार्ट बीच से मुड़-सा जाता है

जब मैं सेक्स करना चाहता हूं, तो प्राइवेट पार्ट कुछ मुड़-सा जाता है। मुझे प्रवेश के लिए पार्टनर की मदद लेनी पड़ती...

India–Russia Relations: आइए जानते हैं भारत और चालबाज चीन के लिए आखिर क्यों जरूरी है रूस

[ Publish Date:Wed, 24 Jun 2020 09:28 AM (IST) नई दिल्‍ली, जेएनएन। India–Russia Relations भारत और चीन के मध्य उपजे हालातों में रूस अचानक से बीच...