Home मुख्य समाचार भारत-चीन तनाव: IAF चीफ के बाद सेना प्रमुख जनरल नरवणे भी लेह...

भारत-चीन तनाव: IAF चीफ के बाद सेना प्रमुख जनरल नरवणे भी लेह के दौरे पर, क्‍या है प्‍लान

[

Edited By Deepak Verma | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

लद्दाख में धोखे के बाद अब क्या कर रहा चीन?
हाइलाइट्स

  • पूर्वी लद्दाख बॉर्डर पर तनाव के बीच लेह जा रहे हैं आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे
  • दिल्‍ली में टॉप आर्मी कमांडर्स के साथ की मीटिंग, सिक्‍योरिटी सिचुएशन का रिव्‍यू
  • लेह में ग्राउंड सिचुएशन का जायजा लेंगे आर्मी चीफ, चीनी सेना के साथ बातचीत की प्रोग्रेस समझेंगे
  • IAF चीफ आरके भदौरिया भी कर चुके लेह, श्रीनगर एयरबेस का दौरा

नई दिल्‍ली

पूर्वी लद्दाख में चीन से सटे बॉर्डर पर तनाव के बीच सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे मंगलवार को लेह जा रहे हैं। जनरल नरवणे ने सोमवार को दिल्‍ली में टॉप आर्मी कमांडर्स के साथ सिक्‍योरिटी सिचुएशन पर चर्चा की थी। कमांडर्स कान्‍फ्रेंस में हिस्‍सा लेने के लिए आर्मी के सभी कमांडर्स इन दिनों राजधानी में मौजूद हैं। इसमें नॉर्दर्न और वेस्‍टर्न फ्रंट पर ऑपरेशन सिचुएशन को लेकर चर्चा हुई है। आर्मी चीफ यहां के इनपुट्स को लेह में जवानों से साझा कर सकते हैं। इसके अलावा, वह सीमा पर ताजा हालात के बारे में भी अपडेट लेंगे।

झड़प में घायल जवानों का लेंगे हाल

आर्मी चीफ लेह के मिलिट्री हॉस्पिटल में इलाज करा रहे घायल जवानों से मिलेंगे। 15-16 जून को गलवान घाटी में पैट्रोलिंग पॉइंट 14 पर चीनी सैनिकों संग हिंसक झड़प में ये सैनिक घायल हुए थे। सेना प्रमुख इन जवानों से मुलाकात कर उनका हौसला बढ़ाएंगे। इसके अलावा, वह XIV कॉर्प्‍स के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह से भी मिलेंगे। सिंह और उनके चीनी समकक्ष के बीच, सोमवार को तनाव सुलझाने के लिए 12 घंटे बातचीत हुई थी। वह सेना प्रमुख को इस बातचीत का पूरा ब्‍यौरा देंगे।

चीन से बातचीत पर अपडेट लेंगे आर्मी चीफ

जनरल नरवणे का यह दौरा सेना की तैयारियों के लिहाज से बेहद अहम है। चीन की ताजा हरकतों के बाद, बड़ी संख्‍या में फोर्स LAC से सटे इलाकों में तैनात की गई है। सेना के बेसेज पर भी रिजर्व फोर्स मौजूद है। सेना प्रमुख लेह में इंडियन आर्मी की तैयारियों का रिव्‍यू करेंगे। इसके अलावा, चीनी सेना के साथ तनाव सुलझाने को लेकर हो रही बातचीत में आगे क्‍या स्‍ट्रैटजी अपनाई जाए, इसपर चर्चा हो सकती है। साथ ही, जिन पॉइंट्स पर दोनों सेनाओं के बीच तनाव हैं, वहां के ऐक्‍शन प्‍लान पर भी बात हो सकती है।

लेह-लद्दाख में ऐक्टिव हैं सेनाएं

पहले IAF चीफ और अब आर्मी चीफ का लेह दौरा। भारत-चीन के बीच हालिया तनाव को देखते हुए इनका महत्‍व बढ़ गया है। IAF चीफ के दौरे के बाद से ही, भारत ने एयर पैट्रोलिंग बढ़ा दी है। जम्‍मू और कश्‍मीर, पंजाब और हरियाणा के एडवांस एयरबेसेज पर फाइटर एयरक्राफ्ट्स तैनात रखे गए हैं। लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल पर जहां-जहां चीन के साथ विवाद है, वहां पर ड्रोन्‍स के जरिए निगरानी की जा रही है। LAC के वेस्‍टर्न, मिडल और ईस्‍टर्न सेक्‍टर में भारत ने स्‍पेशलाइज्‍ड हाई-आल्‍टीट्यूड फोर्सेज तैनात की हैं ताकि चीन की किसी भी हरकत का तगड़ा जवाब दिया जा सके।

जानिए दोस्त भारत के लिए क्यों ऐक्टिव रूस

आर्मी के सपोर्ट में होंगी ITBP बटालियंस

करीब 3,488 किलोमीटर लंबी LAC पर सेना के सपोर्ट के लिए इंडो-तिब्‍बत बॉर्डर पुलिस (ITBP) की और बटालियंस मौजूद रहेंगी। इस बारे में फैसला 20 जून को हुआ। तब डायरेक्‍टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस, ले. जनरल परमजीत सिंह और ITBP और BSF के डीजी एसएस देवाल लेह आए थे। दोनों ऑफिसर्स को चीनी सेना के साथ जारी तनाव के बारे में XIV कॉर्प्‍स कमांडर ले. जनरल हरिंदर सिंह ने ब्रीफ किया था। ITBP को साथ इसलिए लिया गया है ताकि पूर्वी लद्दाख में 1,547 किलोमीटर लंबी LAC पर पैट्रोलिंग ठीक से हो सके। युद्ध काल में ITBP सेना के तहत काम करती है।

चीन ने पहली बार माना, मारे गए हैं 2 अफसर

आर्मी को खुली छूट, सर्विलांस पर जोर

भारत सरकार ने सेना को किसी भी घुसपैठ का करारा जवाब देने की छूट दी है। हिंदुस्‍तान टाइम्‍स में छपी रिपोर्ट के अनुसार, नैशनल टेक्निकल रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (NTRO) से कहा गया है कि वह उस इलाके में और सर्विलांस ड्रोन्‍स तैयार करे ताकि हर एक हरकत पर नजर रखी जा सके। चीनी सेना के पास हथियारबंद ड्रोन की विंग है, भारतीय सेना भी इस सिस्‍टम को अमेरिका या इजरायल से हासिल करने की कोशिश में हैं।

'लद्दाख के शेर' ने बताया- चीन से निपटने के लिए क्या करे सरकार‘लद्दाख के शेर’ ने बताया- चीन से निपटने के लिए क्या करे सरकार‘लद्दाख के शेर’ कहे जाने वाले कर्नल (रिटायर्ड) सोनम वांगचुक ने कहा है कि सरकार को लद्दाख स्काउट्स के और बटालियन तैयार करने चाहिए, क्योंकि इसके जवान यहां के हालात के ज्यादा वाकिफ होते हैं और चीन की सेना से बेहतर तरीके से निपट सकते हैं।

बातचीत से तनाव सुलझाने की भी कोशिश

भारत और चीन के बीच तनाव कम करने के लिए मिल‍िट्री और डिप्‍लोमेटिक लेवल पर बातचीत हो रही है। सेना को साफ निर्देश हैं कि किसी भी हाल में पीपुल्‍स लिबरेशन आर्मी (PLA) के सैनिक LAC न कॉस करने पाएं। भारत और चीन के सैनिकों में, 15-16 जून की रात हिंसक झड़प हुई थी। इसमें भारत के 20 जवान शहीद हुए थे और चीन के 43 जवानों के हताहत होने की रिपोर्ट्स थीं। चीन ने कॉर्प्‍स कमांडर लेवल बातचीत में सोमवार को माना कि झड़प में उसके भी कमांडिंग ऑफिसर (सीओ) और पीएलए बटालियन के एक अन्य अधिकारी की मौत हुई थी।

कमांडर्स के साथ मीटिंग के बाद लेह जा रहे आर्मी चीफ। (फाइल फोटो)

कमांडर्स के साथ मीटिंग के बाद लेह जा रहे आर्मी चीफ। (फाइल फोटो)

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

LG के आदेश का पालन करेंगे, यह समय मतभेदों और आपसी झगड़ों का नहीं : अरविंद केजरीवाल

[प्रेस कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में केजरीवाल ने कहा, ''दिल्ली में 31,000 कुल मामले हो चुके हैं, 12,000 ठीक हो चुके हैं जबकि करीब...

Unlock2 के लिए सरकार ने जारी किए दिशानिर्देश, रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक रहेगा कर्फ्यू

[Unlock2 Guidelines: अनलॉक2 को लेकर सरकार ने जारी की गाइडलाइंस.नई दिल्ली: Unlock2 Guidelines: सरकार ने अनलॉक के दूसरे चरण यानी अनलॉक2 (Unlock2) के लिए दिशानिर्देश जारी कर दिए...

हरभजन सिंह के बायकॉट से चीन के मुखपत्र को लगी ‘मिर्ची’

[Edited By Arun Kumar | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 19 Jun 2020, 12:04:00 PM IST नई दिल्ली लद्दाख की गलवान वैली (Galwan Valley)...

यूपी में नहीं होंगी विश्वविद्यालय की परीक्षाएं, प्रोन्नत होंगे 48 लाख विद्यार्थी

[ पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद ख़बर सुनें ख़बर सुनें कोरोना संक्रमण के चलते प्रदेश...