Home मुख्य समाचार नेपाल ने फिर भारत को उकसाया, नदियों पर रोका तटबंध का काम,...

नेपाल ने फिर भारत को उकसाया, नदियों पर रोका तटबंध का काम, बिहार पर मंडराया बाढ़ का खतरा

[

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना
Updated Tue, 23 Jun 2020 05:28 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

भारत के साथ सीमा विवाद के बीच नेपाल ने उकसाने वाला कदम उठाते हुए सीमा पर बन रहे नदी तटबंध का मरम्मत कार्य रोक दिया है, जिससे बिहार में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है। बिहार सरकार के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार ने सोमवार को कहा, वाल्मीकि नगर में गंडक बैराज के 36 गेट हैं, जिनमें से 18 नेपाल की तरफ हैं। नेपाल ने वहां बैरियर लगा दिए हैं, जो पहले कभी नहीं हुआ। रविवार को बैराज से 1.5 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। अगर बाढ़ से निपटने वाली सामग्री और हमारे अधिकारी नहीं पहुंचे तो स्थिति बेहद गंभीर हो सकती है।

जेडीयू नेता ने कहा, इसी तरह नेपाल ने पूर्वी चंपारण जिले में लालबकेया नदी के तटबंध पर काम रोक दिया है। यह इलाका नो मैंस लैंड हैं और 20 साल से वहां बांध हैं। बिहार सरकार नदी पर तटबंध बनाती है और हर साल मानसून से पहले वहां मरम्मत कार्य किया जाता है। इससे पहले नेपाल की तरफ से कभी आपत्ति नहीं उठाई गई। पिछले साल बिना परेशानी के मरम्मत कार्य किया गया था, लेकिन इस बार वे इसमें अड़ंगा लगा रहे हैं। इसी तरह, मधुबनी के जयनगर में कमला नदी पर भी मरम्मत का काम नहीं करने दिया जा रहा है। हमने इस संबंध में विदेश मंत्रालय को पत्र लिखा है। बिहार की 700 किलोमीटर सीमा नेपाल से लगती है। अगर मानसून से पहले इस मुद्दे को सुलझाया नहीं गया तो बिहार में बाढ़ से बड़ी तबाही मच सकती है।  

पहली बार इस तरह व्यवहार कर रहा नेपाल

मंत्री ने कहा, यह पहली बार है जब नेपाल की ओर से इस तरह का व्यवहार किया जा रहा है। भारत में बिहार सरकार सारा मरम्मत का कार्य कराती है और इस बार हमें पहली बार उस तरह सामग्री और अधिकारियों को भेजने में मुश्किल आ रही है। जिला मजिस्ट्रेट और स्थानीय इंजीनियर नेपाल प्रशासन से बात कर मुद्दे को सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं।
असम, बिहार को चेतावनी

इस बीच, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने बिहार और असम के लिए बाढ़ की चेतावनी जारी की है। इस बीच केंद्रीय जल आयोग ने उन नदियों की सूची जारी की है, जिनमें जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। बिहार में गंडक, बागमती, जबकि असम में दिसांग, धनसिरी, ब्रह्मपुत्र, जिया भराली नदी में जलस्तर बढ़ने की बात कही गई है।

भारत के साथ सीमा विवाद के बीच नेपाल ने उकसाने वाला कदम उठाते हुए सीमा पर बन रहे नदी तटबंध का मरम्मत कार्य रोक दिया है, जिससे बिहार में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है। बिहार सरकार के जल संसाधन मंत्री संजय कुमार ने सोमवार को कहा, वाल्मीकि नगर में गंडक बैराज के 36 गेट हैं, जिनमें से 18 नेपाल की तरफ हैं। नेपाल ने वहां बैरियर लगा दिए हैं, जो पहले कभी नहीं हुआ। रविवार को बैराज से 1.5 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। अगर बाढ़ से निपटने वाली सामग्री और हमारे अधिकारी नहीं पहुंचे तो स्थिति बेहद गंभीर हो सकती है।

जेडीयू नेता ने कहा, इसी तरह नेपाल ने पूर्वी चंपारण जिले में लालबकेया नदी के तटबंध पर काम रोक दिया है। यह इलाका नो मैंस लैंड हैं और 20 साल से वहां बांध हैं। बिहार सरकार नदी पर तटबंध बनाती है और हर साल मानसून से पहले वहां मरम्मत कार्य किया जाता है। इससे पहले नेपाल की तरफ से कभी आपत्ति नहीं उठाई गई। पिछले साल बिना परेशानी के मरम्मत कार्य किया गया था, लेकिन इस बार वे इसमें अड़ंगा लगा रहे हैं। इसी तरह, मधुबनी के जयनगर में कमला नदी पर भी मरम्मत का काम नहीं करने दिया जा रहा है। हमने इस संबंध में विदेश मंत्रालय को पत्र लिखा है। बिहार की 700 किलोमीटर सीमा नेपाल से लगती है। अगर मानसून से पहले इस मुद्दे को सुलझाया नहीं गया तो बिहार में बाढ़ से बड़ी तबाही मच सकती है।  

पहली बार इस तरह व्यवहार कर रहा नेपाल

मंत्री ने कहा, यह पहली बार है जब नेपाल की ओर से इस तरह का व्यवहार किया जा रहा है। भारत में बिहार सरकार सारा मरम्मत का कार्य कराती है और इस बार हमें पहली बार उस तरह सामग्री और अधिकारियों को भेजने में मुश्किल आ रही है। जिला मजिस्ट्रेट और स्थानीय इंजीनियर नेपाल प्रशासन से बात कर मुद्दे को सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं।
असम, बिहार को चेतावनी

इस बीच, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने बिहार और असम के लिए बाढ़ की चेतावनी जारी की है। इस बीच केंद्रीय जल आयोग ने उन नदियों की सूची जारी की है, जिनमें जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। बिहार में गंडक, बागमती, जबकि असम में दिसांग, धनसिरी, ब्रह्मपुत्र, जिया भराली नदी में जलस्तर बढ़ने की बात कही गई है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

15 दिन में घर भेजे जाएं सभी प्रवासी मज़दूर, सड़क पर चलने के खिलाफ दर्ज मामले लिए जाएं वापस : सुप्रीम कोर्ट

[बताते चले कि मजदूरों को भेजे जाने, रजिस्ट्रेशन, और उनके रोजगार की व्यवस्था जैसे बिंदुओं पर केंद्र व राज्यों के लिए सुप्रीम कोर्ट...

Coronavirus Updates: 24 घंटे में COVID-19 के सबसे ज़्यादा नए मामले आए सामने, कुल आंकड़ा 2.17 लाख

[MaharashtraDistrictCasesAkola618Aurangabad1602Dhule164Jalgaon757Mumbai40746Mumbai Suburban4089Nagpur574Nashik1265Palghar1022Pune8419Satara561Solapur973Thane11173Yavatmal137Ahmednagar127Amravati246Beed48Bhandara32Buldhana77Chandrapur27Hingoli187Jalna142Kolhapur545Latur127Nanded137Nandurbar38Parbhani72Raigad1242Ratnagiri301Sangli119Gadchiroli38gondia67Osmanabad82Sindhudurg51Wardha9Washim1174860 256039944 144232329 9962587 122Andhra PradeshDistrictCasesChittoor265Guntur453Krishna508Kurnool781Sri Potti Sriramulu Nell*247Anantapur357East Godavari282Prakasam76Srikakulam149Visakhapatnam79West Godavari143Y.S.R.168Vizianagaram174080 1821546 1332466 4568 4KarnatakaDistrictCasesBengaluru Rural20Bengaluru Urban418Mysuru103Bagalkote94Ballari52Belagavi251Bidar178Chikkaballapura145Dakshina Kannada133Dharwad52Gadag37Kalaburagi433Mandya294Tumakuru40Uttara Kannada86Vijayapura138Chamarajanagara0Chikkamagaluru19Chitradurga13Davangere164Hassan171Haveri19Kodagu4Kolar26Koppal4Raichur275Ramanagara2Shivamogga52Udupi490Yadgir2954063 2672496 1551514 11153...

LIVE India China News: भारत में आक्रोश के साथ ही अब विदेशों में भी चीनी दूतावासों के पास हो रहे प्रदर्शन

[ नई दिल्ली, एजेंसियां। India-China Border Tension, पूर्वी लद्दाख की गलवन घाटी (Galwan Valley) में चीन की सेना के साथ खूनी झड़प के...

दिल चाहता है सिर्फ सेक्स करूं, इसका क्या इलाज है?

सवाल- मुझे सेक्स के बिना नींद नहीं आती। मैं पत्नी के साथ हफ्ते में एक या दो बार ही सहवास कर पाता हूं।...