Home मुख्य समाचार लद्दाख तनाव के बीच मॉस्को दौरे पर राजनाथ, भारत के पुराने मित्र...

लद्दाख तनाव के बीच मॉस्को दौरे पर राजनाथ, भारत के पुराने मित्र से मांगेंगे ‘ब्रह्मास्त्र’

[

Rajnath Singh’s Russia visit: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (rajnath singh) की आज से शुरू हो रही रूस यात्रा के दौरान भारत ऐंटी मिसाइल सिस्टम S-400 पर अपने पुराने दोस्त से बड़ा आग्रह करेगा। लद्दाख सीमा पर चीन से बढ़े तनाव के बीच नई दिल्ली कूटनीतिक से लेकर सामरिक हर मोर्चे पर पेइचिंग को घेर रहा है।

Edited By Satyakam Abhishek | इकनॉमिक टाइम्स | Updated:

लद्दाख में अब चीन को मिलेगा सख्ती से जवाब
हाइलाइट्स

  • भारत और चीन के बीच लद्दाख सीमा पर चरम पर पहुंचा तनाव
  • रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज से करीबी मित्र रूस के दौरे पर
  • राजनाथ रूस के से ऐंटी मिसाइल सिस्टम S-400 जल्द मांगेंगे
  • बता दें कि भारत ने रूस के साथ पिछले कुछ सालों में अरबों डॉलर का करार किया है

नई दिल्ली

लद्दाख में चीन के साथ चरम तनाव के बीच भारत अब कोई मोर्चे पर एक्टिव हो चुका है। ड्रैगन को आर्थिक से लेकर सामरिक तरीके से घेरा जा रहा है। इसी क्रम में भारत अपने पुराने दोस्त रूस से ऐंटी मिसाइल सिस्टम S-400 को जल्दी से पाने की कोशिशों में जुट गया है। भारत ने रूस के साथ 2018 में 5 अरब डॉलर से ज्यादा की कीमत वाला यह समझौता किया था। कोविड-19 महामारी के कारण इस सिस्टम की आपूर्ति में देरी हो रही है। इसे अब दिसंबर 2021 तक मिलने की बात कही जा रही है। पर नई दिल्ली इस सिस्टम की जल्दी से जल्दी आपूर्ति चाहता है। इन सबके बीच, भारत ने सेना को पूरी तरह से अलर्ट कर दिया है और तमाम रक्षा तैयारियां पूरी करने का आदेश दिया गया है।

पढ़ें, क्या है एयर डिफेंस सिस्टम S-400, जानिए

राजनाथ आज से 3 दिवसीय रूस दौरे पर

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की आज से शुरू होने वाली तीन दिवसीय रूस की यात्रा में रूस को S-400 मिसाइल सिस्टम की जल्दी आपूर्ति के लिए आग्रह किया जाएगा। भारत ने पिछले साल ही इस सिस्टम के लिए एडवांस राशि दे भी दी है। बता दें कि चीन के भी रूस के साथ मजबूत रक्षा रिश्ते हैं। चीन पहले ही S-400 ऐंटी मिसाइल सिस्टम अपने बेड़े में शामिल कर चुका है।

यह भी पढ़ें,नारे से चलेगा काम? दवा के लिए चाहिए चीन

​महाराष्ट्र सरकार से मिला तीसरा बड़ा झटका

  • ​महाराष्ट्र सरकार से मिला तीसरा बड़ा झटका

    चीन को तीसरा झटका महाराष्ट्र सरकार से मिला है। वहां उद्धव सरकार ने चीनी कंपनियों के साथ साइन तीन अग्रीमेंट को ठंडे बस्ते में डाल दिया है। ये तीन प्रॉजेक्ट करीब 5 हजार करोड़ के थे। इन्हें हाल ही में मैग्नेटिक महाराष्ट्र 2.0 इंवेस्टर समिट में साइन किया गया था। इस बारे में इंडस्ट्री मिनिस्टर सौरभ देसाई ने बताया कि ये अग्रीमेंट गलवान हिंसा से पहले साइन हुए थे। केंद्र सरकार को इसकी जानकारी दे दी गई है। विदेश मंत्रालय ने फिलहाल चीन के साथ कोई और अग्रीमेंट साइन नहीं करने की सलाह दी है।

  • ​महाराष्ट्र में किन कंपनियों के थे प्रॉजेक्ट

    साइन प्रॉजेक्टों में पहला ग्रेट वॉल मोटर्स का था। 3,770 करोड़ के इस प्रॉजेक्ट में पुणे के पास ऑटोमोबाइल प्लांट लगना था। दूसरी प्रॉजेक्ट पीएमआई इलेक्ट्रो मोबिलिटी और फोटोन (चाइना) का था। इसमें 1 हजार करोड़ रुपये में यूनिट लगनी थी। तीसरा प्रॉजेक्ट हिंगली इंजिनियरिंग का था। इसमें 250 करोड़ का निवेश था।

  • ​रेलवे ने भी वापस लिया था ठेका

    गलवान में झड़प के तुरंत बाद रेलवे ने भी चीनी कंपनी का ठेका रद्द किया था। यह प्रॉजेक्ट करीब 417 करोड़ का था। यह चीनी कंपनी बीजिंग नेशनल रेलवे रिसर्च एंड डिजायन इंस्टीट्यूट के पास था। इसमें कानपुर और मुगलसराय के बीच 417 किलोमीटर लंबे खंड पर सिग्नल और दूरसंचार का काम होना था। रेलवे ने कहा कि ठेका काम की स्लो स्पीड की वजह से रद्द किया जा रहा है।

  • ​सबसे पहले BSNL ने वापस लिया टेंडर

    चीन को बॉर्डर पर की गई गुस्ताखी का जवाब सबसे पहले BSNL से मिला। इसमें भारत सरकार ने सरकारी टेलिकॉम कंपनियों से किसी भी चीनी कंपनी के इक्विपमेंट्स का इस्‍तेमाल न करने को कहा है। भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) और महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (MTNL) के टेंडर को कैंसिल कर दिया गया है। इससे चीन को करीब 3 हजार करोड़ का नुकसान होगा।

  • ​सरकार ने मांगी चीनी आयात की विस्तृत जानकारी

    भारत पूर्वी लद्दाख में चीन की नापाक हरकत का सैन्य और कूटनीतिक मोर्चे के साथ-साथ आर्थिक मोर्चे पर भी जवाब देने की पूरी तैयारी कर रहा है। सूत्रों के मुताबिक सरकार ने इंडस्ट्री से विदेशों खासकर चीन से आने वाले सामान के बारे में विस्तृत जानकारी मांगी है। इसका मकसद चीन से आने वाले घटिया सामान का आयात रोकना और घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देना है।

भारत की दो मोर्चों पर युद्ध की तैयारी का प्लान

भारत दो मोर्चं पर लड़ाई की तैयारी शुरू कर दी है। तमाम पेंडिंग पड़ी खरीदारी को तेज कर दिया गया है इसके अलावा साजो-सामान के भंडार को बढ़ाया जा रहा है। मामले से जुड़े सूत्रों ने बताया कि रूस S-400 की खेप भारत के साथ कुछ और देशों को भी देने वाला है। पर भारत और रूस के बीच ऐतिहासिक रिश्तों का हवाला देकर भारत इस ऐंटी मिसाइल सिस्टम की जल्दी आपूर्ति के लिए दबाव बनाने वाला है। समझौते के दो हिस्से हैं. पहला, लड़ाकू विमान सुखोई और मिग बेड़े के कलपुर्जे जल्दी से उपलब्ध कराना और दूसरा राजनीतिक स्थिति में बदलाव के बाद भी भारत को मिलने वाली आपूर्ति बाधित नहीं होगी। इकनॉमिक टाइम्स को पता चला है कि गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में 20 भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद यह मुद्दे उच्चस्तरीय बैठक में उठा था।



पीएम मोदी के साथ बैठक में बना प्लान


मौजूदा समय में डिफेंस तैयारियों के लिए रूस से तुरंत मदद की जरूरत है। कोरोना महामारी के कारण रूस में होने वाली विक्ट्री डे परेड में शामिल होने जा रहे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह हालांकि इस दौरान कोई मंत्रीस्तरीय बैठकें नहीं करेंगे। पीएम नरेंद्र मोदी के साथ हुई बैठक में राजनाथ के रूस जाने का प्लान बना था। सरकार का मानना था कि मौजूदा स्थिति में रूस के साथ रिश्तों में गर्मजोशी जरूरी है। चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंगी भी इस कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे। हाल के वर्षों में चीन ने रूस के साथ बेहतर रक्षा रिश्ते बनाए हैं और उसने उच्च स्तरीय रूसी तकनीक को हासिल किया है, खासतौर पर जेट इंजन बनाने के क्षेत्र में। दरअसल, चीन अपना डिफेंस उद्योग विकसित करने को लेकर लंबे समय से योजना बना रहा है।

S-400 की खासियत भी जान लें

– यह ऐंटी मिसाइल सिस्टम से रेडार से बचने की चाल को नाकाम करता है। यानी अचूक।

-S-400 का 230 किलोमीटर तक सटीक निशाना लगा सकता है।

-दुनिया की सबसे बेहतरीन ऐंटी मिसाइल डिफेंस सिस्टम।

-S-400 से क्रूज मिसाइल और बैलिस्टिक मिसाइलों को ध्वस्त किया जा सकता है।

रूसी ऐंटी मिसाइल सिस्टम S-400

रूसी ऐंटी मिसाइल सिस्टम S-400

Web Title india and china standoff new delhi to urge old friend russia to rush delivery of s-400 system(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

96 घंटे, 38 मीटिंग, पांच राज्यों पर फोकस: कोरोना पर वार के लिए पीएम मोदी और अमित शाह का ऐक्‍शन प्लान

[प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार रात कैबिनेट के वरिष्‍ठ सदस्‍यों संग कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर उठाए गए कदमों की...

LIVE Saroj Khan Death News: मशहूर कोरियोग्राफर सरोज ख़ान का निधन, आज ही होगा अंतिम संस्कार

[ Publish Date:Fri, 03 Jul 2020 08:42 AM (IST) नई दिल्ली,जेएनएन। फिल्म इंडसट्री को आज एक और झटका लगा है। मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान...

चीन को कड़ा संदेश देना जरूरी, ‘सीमित ऐक्शन’ के पक्ष में है सेना का बड़ा हिस्सा

[Edited By Vishva Gaurav | टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Updated: 19 Jun 2020, 05:37:00 AM IST चीन को सबक सिखाने गूगल...

लद्दाख विवादः शरद पवार ने राहुल को दिलाई अतीत की याद, कहा- भूल नहीं सकते 1962 में क्या हुआ था

[ राहुल गांधी-शरद पवार (फाइल फोटो) - फोटो : PTI पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद ख़बर...

बड़ा झटका: दो हफ्ते में 8 रुपये तक बढ़ जाएंगी पेट्रोल-डीजल की कीमतें!

; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e); s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, document, 'script', 'https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js'); fbq('init', '482038382136514'); fbq('track', 'PageView'); Source link