Home मुख्य समाचार जानिए किस तरह बिहारी जाबांजों ने गलवान घाटी में बरसते पत्थरों के...

जानिए किस तरह बिहारी जाबांजों ने गलवान घाटी में बरसते पत्थरों के बीच चीनी पोस्ट को उखाड़ फेंका 

[

जून 15 की शाम, भारतीय 3 इन्फेंटरी डिवीजन के कमांडर अपने कुछ वरिष्ठ अधिकारियों के साथ पूर्वी लद्दाख में श्योक और गलवान नदी के Y जंक्शन के पास पोस्ट पर थे। क्योंकि चीन के साथ बैठक होने वाली थी। सूत्रों ने एएनआई को बताया कि इसके लिए सुरक्षाबलों की एक छोटी टुकड़ी को यह देखने के लिए मौके पर भेजा गया कि चीनी सैनिकों ने समझौते के मुताबिक पोस्ट हटा ली है या नहीं। इसमें 16 बिहार रेजिमेंट के सैनिक सबसे अधिक थे। 

भारतीय सैनिक वहां जब पहुंचे तो उन्होंने देखा कि चीन की निगरानी पोस्ट में 10-12 सैनिक मौजूद थे। भारतीय सैनिकों ने उनसे कहा कि दोनों सेनाओं में हुए समझौते के मुताबिक वे पीछे चले जाएं। चीनी सैनिकों ने वहां से हटने से इनकार कर दिया। भारतीय सैनिक यह सूचना देने के लिए यूनिट में वापस आ गए। 

यह भी पढ़ें: सेना को निर्देश- चीनी दुस्साहस का मुंहतोड़ जवाब देने को रहें तैयार

उस समय वहां करीब 50 सैनिक गए थे और 16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल संतोष बाबू उनका नेतृत्व कर रहे थे। जब भारतीय सैनिक अपने पोस्ट पर वापस आए तो इस बीच चीनी सैनिकों ने गलवान घाटी में पीछे मौजूद सैनिकों को बुला लिया। इस बार वहां करीब 300-350 सैनिक आ गए। 

भारतीय सैनिकों के वहां दोबारा आने से पहले चीनी सैनिकों की संख्या बढ़ चुकी थी। उन्होंने पोस्ट के आसपास पोजिशन ले ली थी। पत्थर, रॉड जैसे हथियार हमले के लिए तैयार कर लिए थे। हमले के लिए पहले से घात लगाए बैठे चीनी सैनिकों ने सबसे पहले 16 बिहार रेजिमेंट के सीओ हविलदर पलानी पर हमला कर दिया। सीओ के गिरते ही भारतीय सैनिक भी आक्रोशित हो उठे और संख्या में अधिक और ऊपर से पत्थर बरसा रहे चीनी सैनिकों पर पलटवार शुरू किया। 

यह भी पढ़ें: LAC के फॉरवर्ड फ्रंट पर होगी ITBP के दो हजार और जवानों की तैनाती

यह संघर्ष तीन घंटे से अधिक समय तक यानी देर रात तक चलता रहा, इसमें कई चीनी सैनिक या तो गंभीर रूप से घायल हो गए या मारे गए। सूत्रों ने बताया कि अगली सुबह जब वहां सबकुछ शांत हो चुका था, चीनी सैनिकों की लाशें वहां बिखरी पड़ी थीं। भारतीय सैनिकों ने चीनी शवों को पड़ोसी देश के दूसरे सैनिकों को सौंपा।  

बताया गया कि भारत की तरफ से करीब 100 सैनिक थे, जबकि चीनी करीब 350 थे। इस संघर्ष के बीच बिहारी जाबांजों ने चाइनीज पोस्ट को उखाड़ फेंका। इस घटना के बाद पीछे के इलाकों में सैनिकों की संख्या और ज्यादा बढ़ा दी। सूत्रों ने कहा कि संख्या में कहीं अधिक होने और पहले से हमले के लिए तैयार चीनी सैनिकों को भारतीय सैनिकों ने मुंहतोड़ जवाब दिया और ‘बिहारियों’ ने उनकी वह पोस्ट उखाड़ फेंकी, जिसे चीनी समझौते के बावजूद छोड़ने को तैयार नहीं थे। 

अब अगले कुछ दिनों में पेट्रोलिंग पॉइंट 14, 15 और 17A के पास स्थिति को सामान्य करने के लिए भारत और चीन में लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत पर विचार चल रहा है।   

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

भाजपा के ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह, कांग्रेस के दिग्विजय सिंह जीते, फूल सिंह बरैया हारे

[ भाजपा को राज्यसभा चुनाव में 2 वोटों का झटका लगा, एक ने क्रॉस वोटिंग की, दूसरे का वोट निरस्तगुना के भाजपा विधायक गोपीलाल...

bharat me ek alag tarah ka corona virus: भारत में है एक अलग तरह का कोरोना वायरस

[नई दिल्ली भारत में कोरोना वायरस (Corona Virus in India) के मामले रोज नए रेकॉर्ड बना रहे हैं। बुधवार शाम तक देश में कोरोना...

Jharkhand Coronavirus News Update: झारखंड में आज DSP, डॉक्‍टर समेत 145 कोरोना पॉजिटिव, 3 मौत, अबतक 3663; जानें ताजा हाल

[ Publish Date:Sun, 12 Jul 2020 01:26 AM (IST) रांची, राज्य ब्यूरो। Coronavirus in Jharkhand News Update  झारखंड में कोरोना के संक्रमित मरीजों के...

नहीं मिली मदद तो पेंशन के लिए 100 साल की मां को चारपाई पर लिटाकर बैंक ले जाने को मजबूर हुई बेटी

[बैंक की असंवेदनशीलता के बाद मजबूर महिला ने उठाया यह कदम.खास बातेंओडिशा से आई दर्दनाक तस्वीर असहाय महिला को अपनी मां को चारपाई पर...

अंदर से ऐसा दिखता है रेलवे का आइसोलेशन वार्ड वाला कोच, देखें वीडियो

,(a=t.createElement(n)).async=!0,a.src="https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js",(f=t.getElementsByTagName(n)).parentNode.insertBefore(a,f))}(window,document,"script"),fbq("init","465285137611514"),fbq("track","PageView"),fbq('track', 'ViewContent'); Source link

चीनी सेना ने विवादित इलाके पैंगोंग त्सो में बनाया हैलीपेड, भारतीय सेना के लिए बढ़ी चुनौती

https://www.youtube.com/watch?v=inkNGlxd09Qhttps://www.youtube.com/watch?v=inkNGlxd09Q चीनी सेना ने फिंगर 8 पर अपना परमानेंट बेस बना लिया है और अब वह वहां से आठ किलोमीटर पश्चिम में फिंगर 4...