Home मुख्य समाचार Surya Grahan June 2020: खंडग्रास है यह सूर्यग्रहण, चूड़ामणि योग भी; क्‍या...

Surya Grahan June 2020: खंडग्रास है यह सूर्यग्रहण, चूड़ामणि योग भी; क्‍या करें, क्‍या न करें जानें सबकुछ डीटेल में

[

Publish Date:Sat, 20 Jun 2020 06:17 AM (IST)

रांची, जेएनएन। Surya Grahan June 2020 Date and Time विक्रम संवत् 2077 शाके 1942, आषाढ़ कृष्ण अमावस्या, रविवार, दिनांक 21 जून 2020 को खंडग्रास सूर्यग्रहण लगेगा। यह ग्रहण चूड़ामणि योग युक्त होगा। यह भारत में देशभर में दिखाई देगा। भारत के अतिरिक्त यह ग्रहण अफ्रीका, दक्षिण-पूर्व यूरोप, मध्य पूर्व के देशों, एशिया, इंडोनेशिया में दिखाई देगा। इस सूर्यग्रहण का सूतक 12 घंटे पूर्व प्रारंभ हो जाएगा। यह ग्रहण मृगशिरा और आर्द्रा नक्षत्र पर, मिथुन राशि पर लगेगा।

सार्वभौमिक परिदृश्य में इसका आरंभ दिन में 09:16 बजे होगा और  मोक्ष 15:04 बजे होगा किंतु  ग्रहण का समय प्रत्येक स्थान पर अलग-अलग होता है। रविवार, 21 जून को दिन में 10:35 बजे से  दिन में 14:10:30 बजे तक यह ग्रहण रहेगा। यह झारखंड की राजधानी रांची और उसके समीपवर्ती इलाके का समय है। इसका सूतक शनिवार, दिनांक 20 जून को रात 22:20 बजे से ही प्रारंभ होगा। इसका ग्रासमान 95.2% होगा। इस ग्रहण के कारण पृथ्वी पर अंधकारमय स्थिति होगी। विश्व के लिए यह ग्रहण हानिकारक होगा। 

निम्न राशि वालों के लिए यह ग्रहण लाभदायक होगा

 मेष, सिंह, मीन और कुछ हद तक वृश्चिक 

निम्न राशि वालों के लिए हानिकारक होगा

वृष, मिथुन, कर्क, तुला, कन्या, धनु, मकर और कुंभ 

सूतक एवं ग्रहण काल में यह करना वर्जित

सूतक एवं ग्रहण काल में मूर्ति स्पर्श करना ,अनावश्यक खाना-पीना, निद्रा, तेल मर्दन वर्जित है। झूठ-कपट आदि वृथा अलाप, नाखून काटने आदि से परहेज करना चाहिए। वृद्ध, रोगी, बालक एवं गर्भवती स्त्रियों को यथा अनुकूल भोजन या दवाई आदि लेने में कोई दोष नहीं है।

गर्भवती महिलाओं को रखना है खास ध्‍यान

गर्भवती महिलाओं को ग्रहण काल में सब्जी काटने, शयन करने, पापड़ सेकने आदि उत्तेजक कार्यों से परहेज करना चाहिए तथा धार्मिक ग्रंथ का पाठ करते हुए प्रसन्नचित रहें। इससे भावी संतति स्वस्थ एवं सद्गुणी होती है। गर्भवती महिलाएं पेट पर गाय के गोबर का पतला लेप लगा लें तथा संभव हो तो सुंदरकांड का पाठ  करें।

ग्रहण काल में जरूर करें यह काम

दूध, घी, तेल, पनीर, अचार, मुरब्बा एवं भोजन सामग्रियों में तिल, कुश या तुलसीपत्र डाल देने से ये ग्रहण काल में दूषित नहीं होते। सूखे खाद्य पदार्थ में तिल या कुशा डालने की आवश्यकता नहीं है।

                अन्नं पक्वमिह त्याज्यं स्नानं सवसनं ग्रहे।

                 वारितक्रारनालादि तिलैदंभौर्न दुष्यते।। 

ग्रहणकाल में सूर्य उपासना करें

ग्रहणकाल में भगवान सूर्य -उपासना, आदित्य हृदय स्तोत्र, सूर्याष्टक स्तोत्र आदि सूर्य स्तोत्रों का पाठ व गुरु मंत्र का जाप करना चाहिए। ग्रहणोंपरांत स्नान-दान का भी महत्त्व है। ग्रहण जहां जितने समय तक  दिखाई देता है, वहीं उसकी मान्यता  उतने काल तक ही होती है। 

जरूरी बातें

  • ग्रहण ग्रस्त सूर्य बिम्ब को नंगी आंखों से कदापि न देखें।
  • वैल्डिंग वाले काले ग्लास में से इसे देख सकते हैं।

भारत के विभिन्न शहरों में ग्रहण का प्रारंभ एवं समाप्ति काल 

                प्रारंभ         समाप्त

                (घं  मि)      (घं   मि)

  1. दिल्ली     10:20.       13:48
  2. वाराणसी  10:31         14:04
  3. चेन्नई        10:22         13:41
  4. गया         10:36         14:09       
  5. मुंबई        10:01         13:28
  6. लखनऊ   10:27         13:59
  7. पटना       10:37         14:09
  8. अमृतसर  10:19         13:42
  9. जालंधर   10:20         13:44
  10. हरिद्वार    10:24         13:51
  11. रांची        10:37         14:10
  12. प्रयाग       10:28        14:01
  13. आरा        10:34        14:07
  14. कोलकाता 10:46       14:17
  15. गोरखपुर   10:32       14:05
  16. सूरत         10:03       13:31
  17. अयोध्या    10:29       14:01
  18. हरिद्वार     10:23       13:50
  19. आजमगढ़ 10:31       14:04
  20. बलिया     10:35       14:06
  21. बंगलोर     10:12      13:31
  22. डिब्रूगढ़     11:07      14:30

 

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

दिल्ली के LG अनिल बैजल ने बताया, अस्पतालों में इलाज पर क्यों पलटा केजरीवाल सरकार का फैसला

[Edited By Vineet Tripathi | एएनआई | Updated: 09 Jun 2020, 09:01:00 PM IST हाइलाइट्सदिल्ली के उपराज्यपाल ने दिल्ली सरकार के...

चीनी मीडिया का दावा- भारतीय सेना ने गालवान घाटी में फिर पार की LAC, बोला हमला

[ India-China Ladakh Border Dispute Latest News Live Update: LAC विवाद को लेकर भारत-चीन में हिंसक झड़प के बाद मंगलवार शाम को चीनी मीडिया ने...

लद्दाख में किसी भी कीमत पर पीछे नहीं हटेंगे भारतीय जवान, अत्यधिक ठंड में उपयोग किए जाने वाले टेंट का ऑर्डर देने की तैयारी

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

प्राइवेट पार्ट से तेज बदबू आती है, क्या कोई इंफेक्शन है?

सवालः फोरप्ले के बाद जब मैं पत्नी के साथ सेक्स करने की कोशिश करता हूं, तो उसके प्राइवेट पार्ट से तेज बदबू आती...

Coronavirus in India Live Updates: ओडिशा में एक दिन में सर्वाधिक 225 मामले सामने आए, संक्रमितों की संख्या 3723 हुई

; if (d.getElementById(id)) return; js = d.createElement(s); js.id = id; js.async=true; is_fb_sdk=true; js.src="https://connect.facebook.net/en_GB/sdk.js#xfbml=1&version=v3.2&appId=1652954484952398&autoLogAppEvents=1"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk')); } //comment...

कानपुर शूटआउटः विकास दुबे के मुखबिर होने के शक में दारोगा विनय तिवारी हिरासत में

,(a=t.createElement(n)).async=!0,a.src="https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js",(f=t.getElementsByTagName(n)).parentNode.insertBefore(a,f))}(window,document,"script"),fbq("init","465285137611514"),fbq("track","PageView"),fbq('track', 'ViewContent'); Source link