Home मुख्य समाचार शांति वार्ता के दौरान चीन ने छल से रात के अंधेरे में...

शांति वार्ता के दौरान चीन ने छल से रात के अंधेरे में किया भारत पर हमला, जानें कब-क्या हुआ

[

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Wed, 17 Jun 2020 05:54 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर तनाव बढ़ रहा है। परंतु वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर 1962 के बाद पहली बार भारत और चीन के सैनिकों के बीच खूनी झड़प हुई है। कोरोना के कारण घरेलू मोर्चे पर बुरी तरह घिरे चीनी नेतृत्व से एलएसी पर तनाव को चरम पर पहुंचाने का अंदेशा पहले भी था। आइए जानते हैं कि ताजा घटनाक्रम में कब-क्या हुआ….

  • चार मई को पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी और पैंगॉग झील इलाकों में चीन की घुसपैठ के बाद उसके सैन्य अधिकारी जहां भारत के साथ लगातार शांति वार्ताएं कर रहे थे, वहीं 15 जून की रात उसके सैनिकों ने रात के अंधेरे में भारतीय सैनिकों पर हमला बोल दिया।
  • भारत और चीन के बीच पहली बार लेफ्टिनेंट जनरल स्तर के सैन्य अधिकारियों की बैठक 6 जून को हुई। बैठक में भारत की ओर से, लेह स्थित भारतीय सेना की 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह शामिल हुए।
  • उससे पहले भारतीय सेना की उत्तरी कमान के कमांडिंग अफसर लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने जमीनी हालात की समीक्षा के लिए लेह का दौरा किया था।
  • इससे पहले दोनों ओर की सीमा चौकियों पर लोकल कमांडर के बीच दस दौर की बातचीत हो चुकी थी। इनमें से तीन बैठकें तो मेजर जनरल स्तर की हुई थीं। मेजर जनरल रैंक के अधिकारियों की अंतिम बातचीत 2 जून को हुई थी।
  • वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के अतिक्रमण की घटनाएं साल में सौ बार से बढ़कर छह सौ बार तक पहुंच गई हैं। दोनों देशों के सैनिकों के बीच जहां तीन साल में कभी एक बार भिड़ंत होती थी, वहीं पिछले एक साल में तीन बार हाथापाई की घटनाएं हो चुकी हैं।

यह भी पढ़ें:   रक्षा-सैन्य विशेषज्ञों की राय: तनाव और बढ़ाएगा मगर युद्ध छेड़ने की स्थिति में नहीं है चीन

यह भी पढ़ें: सीमा विवाद: कथनी और करनी के मामले में चीन का दागदार इतिहास

  • झड़प और तनाव की शुरुआत तब हुई जब बीते महीने चीनी सेना यहां अपनी वास्तविक सीमा से दो किलोमीटर आगे बढ़ गई। घाटी के उस हिस्से में जमावड़ा लगाया जो भारत की अहम सड़क से बमुश्किल दो किलोमीटर दूर है।
  • यह सड़क दरअसल एलएसी पर भारत की सप्लाई लाइन है। भारत यहां सामरिक बढ़त के लिए चीन की तर्ज पर ही युद्धस्तर पर सड़कें बना रहा है। जाहिर तौर पर चारों तरफ सड़क निर्माण के बाद चीन अपनी स्वाभाविक बढ़त भी खो देगा।
भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर तनाव बढ़ रहा है। परंतु वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर 1962 के बाद पहली बार भारत और चीन के सैनिकों के बीच खूनी झड़प हुई है। कोरोना के कारण घरेलू मोर्चे पर बुरी तरह घिरे चीनी नेतृत्व से एलएसी पर तनाव को चरम पर पहुंचाने का अंदेशा पहले भी था। आइए जानते हैं कि ताजा घटनाक्रम में कब-क्या हुआ….

  • चार मई को पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी और पैंगॉग झील इलाकों में चीन की घुसपैठ के बाद उसके सैन्य अधिकारी जहां भारत के साथ लगातार शांति वार्ताएं कर रहे थे, वहीं 15 जून की रात उसके सैनिकों ने रात के अंधेरे में भारतीय सैनिकों पर हमला बोल दिया।
  • भारत और चीन के बीच पहली बार लेफ्टिनेंट जनरल स्तर के सैन्य अधिकारियों की बैठक 6 जून को हुई। बैठक में भारत की ओर से, लेह स्थित भारतीय सेना की 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह शामिल हुए।
  • उससे पहले भारतीय सेना की उत्तरी कमान के कमांडिंग अफसर लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने जमीनी हालात की समीक्षा के लिए लेह का दौरा किया था।
  • इससे पहले दोनों ओर की सीमा चौकियों पर लोकल कमांडर के बीच दस दौर की बातचीत हो चुकी थी। इनमें से तीन बैठकें तो मेजर जनरल स्तर की हुई थीं। मेजर जनरल रैंक के अधिकारियों की अंतिम बातचीत 2 जून को हुई थी।
  • वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के अतिक्रमण की घटनाएं साल में सौ बार से बढ़कर छह सौ बार तक पहुंच गई हैं। दोनों देशों के सैनिकों के बीच जहां तीन साल में कभी एक बार भिड़ंत होती थी, वहीं पिछले एक साल में तीन बार हाथापाई की घटनाएं हो चुकी हैं।

यह भी पढ़ें:   रक्षा-सैन्य विशेषज्ञों की राय: तनाव और बढ़ाएगा मगर युद्ध छेड़ने की स्थिति में नहीं है चीन

यह भी पढ़ें: सीमा विवाद: कथनी और करनी के मामले में चीन का दागदार इतिहास


आगे पढ़ें

भारत को अपनी तर्ज पर निर्माण नहीं करने देना चाहता चीन

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

खुफिया एजेंसी ने कहा- इन 52 चाइनीज एप का नहीं करें इस्तेमाल, चीन पहुंच रहा है डाटा

[ पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free मेंकहीं भी, कभी भी। 70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद ख़बर सुनें ख़बर सुनें चाइनीज एप के साथ प्राइवेसी...

चीन के हरेक हवाई ठिकाने पर इंडियन एयरफोर्स की नजर, जवाबी कार्रवाई के लिए तैयार

[Indian Air Force vs China Air Force: भारतीय वायुसेना चीन की हर हरकत पर नजर बनाए हुए है। यही नहीं एयरफोर्स ने चीनी...

दिल्ली में तेज हुई कोरोना की रफ्तार, मुंबई को पीछे छोड़ मरीजों की संख्या 70 हजार पार

,(a=t.createElement(n)).async=!0,a.src="https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js",(f=t.getElementsByTagName(n)).parentNode.insertBefore(a,f))}(window,document,"script"),fbq("init","465285137611514"),fbq("track","PageView"),fbq('track', 'ViewContent'); Source link

Corona [email protected]: झारखंड में फिर मिले 34 कोरोना पॉजिटिव, अबतक 1845; जानें ताजा हाल

[ Publish Date:Wed, 17 Jun 2020 05:19 AM (IST) रांची, जेएनएन। Jharkhand Coronavirus Update झारखंड में मंगलवार को कुल 34 कोरोना संक्रमितों की पहचान...

LIVE: पाकिस्‍तान ने फिर किया सीजफायर का उल्‍लंघन, 4 नागरिक घायल

; if (d.getElementById(id)) return; js = d.createElement(s); js.id = id; js.src = "https://connect.facebook.net/en_GB/sdk.js#xfbml=1&version=v2.9"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk'));(function(d, s, id)...