Home मुख्य समाचार सावधान! आपका सैनिटाइजर हो सकता है जहरीला, पहली बार CBI ने जारी...

सावधान! आपका सैनिटाइजर हो सकता है जहरीला, पहली बार CBI ने जारी किया अलर्ट

[

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए ज्यादातर डॉक्टर हैंड सैनिटिजर (Hand Sanitizer) इस्तेमाल करने की सलाह दे रहे हैं. लेकिन यही करने वाला सैनिटाइजर आपके बचाव की जगह खतरनाक साबित हो सकता है. सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इंवेस्टिगेशन (CBI) ने पहली बार अलर्ट जारी कर कहा है कि देश में ऐसे सैनिटाइजर भी बिक रहे हैं जो खतरनाक विषैले हैं. इससे लोगों की जान को खतरा हो सकता है.

सैनिटाइजर में हो रहा है मेथानॉल का इस्तेमाल
सीबीआई ने इंटरपोल से मिली जानकारी के आधार पर देश भर में पुलिस और कानून लागू करने वाली एजेंसियों को सतर्क किया है कि कई गिरोह काफी विषैले मेथानॉल के प्रयोग से बने हैंड सेनिटाइजर बेच रहे हैं और एक अन्य तरह का गिरोह भी काम कर रहा है जो खुद को पीपीई और कोविड-19 से जुड़े मेडिकल आपूर्तिकर्ता बताता है. यह जानकारी सोमवार को अधिकारियों ने दी.

काफी खतरनाक है ऐसे सैनिटाइजर का इस्तेमाल
अधिकारियों ने बताया कि वैश्विक पुलिस सहयोग एजेंसी इंटरपोल ने जानकारी दी है कि मेथानॉल का इस्तेमाल कर फर्जी हैंड सेनिटाइजर बनाया जा रहा है. मेथानॉल काफी विषैला पदार्थ होता है. उन्होंने कहा कि कोविड-19 के दौरान जहरीले हैंड सेनिटाइजर के इस्तेमाल के बारे में दूसरे देशों से भी सूचनाएं प्राप्त हुई हैं. एक अधिकारी ने बताया, ‘मेथानॉल काफी विषैला हो सकते हैं और मानव शरीर के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं.’

धोखाधड़ी के भी आ रहे हैं नए मामले
अधिकारियों ने कहा कि इंटरपोल से सूचना मिलते हुए केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने तुरंत पुलिस अधिकारियों को सतर्क किया कि गिरोह को लेकर सतर्क रहें जो इस तरीके से तुरंत धनोपार्जन में लगे हुए हैं. इंटरपोल का मुख्यालय लॉयन में है और भारत में उसके साथ समन्वय करने की जिम्मेदारी सीबीआई के पास है.

ये भी पढ़ें- कोरोना: 62 दिन अस्पताल में रहा भर्ती, बिल देखकर 2 बार आया हार्ट अटैक

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी की चपेट में पूरी दुनिया के आने और विश्व की अर्थव्यवस्था घुटनों के बल आने के बीच कई संगठित आपराधिक समूह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उभर आए हैं जो अवैध गतिविधियों से धन कमा रहे हैं और कोविड-19 उपकरणों की कंपनियों के प्रतिनिधि बनकर ठगी कर रहे हैं.

एजेंसी के सूत्रों ने कहा कि कुछ अपराधी पीपीई किट और कोविड-19 से जुड़े उपकरणों के निर्माता के प्रतिनिधि बनकर अस्पतालों और स्वास्थ्य अधिकारियों से संपर्क कर रहे हैं. इस तरह के सामान की कमी का लाभ उठाते हुए वे अधिकारियों और अस्पतालों से ऑनलाइन अग्रिम भुगतान हासिल कर लेते हैं लेकिन पैसे लेने के बाद वे सामान की आपर्ति नहीं करते हैं.

 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

इन मैसेजेज के जरिये दोस्तों को दें स्वतंत्रता दिवस की बधाई

[ “Happy Independence Day 2020 Wishes Images, Quotes, SMS, Photos, Messages, Status: 15 अगस्त 1947 को भारत को अंग्रेजों की दासता से आजादी मिली...

माइलेन को मिली रेमडेसिविर को भारत में बनाने और बेचने की अनुमति, जानें कितनी होगी कीमत

[ Publish Date:Tue, 07 Jul 2020 05:08 AM (IST) नई दिल्ली, पीटीआइ। फार्मास्यूटिकल कंपनी माइलेन एनवी ने सोमवार को बताया कि उसे भारतीय औषधि...

यूपी: गैंगस्टर विकास दुबे के दो साथियों को पुलिस ने मार गिराया, पर कानपुर के ‘दरिंदे’ का अभी तक नहीं मिला कोई सुराग

[पुलिस एनकाउंटर में विकास दूबे का साथी प्रभात मिश्रा ढेर.कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर में पिछले हफ्ते आठ पुलिसकर्मियों को घेरकर बेरहमी से...

पैंगोंग में भारत की जवाबी कार्रवाई से बिलबिलाया चीन, बॉर्डर से सेना हटाने की मांग की

[पेइचिंगलद्दाख के पैंगोंग झील इलाके में 29-30 अगस्त की रात को भारतीय सेना से मुंह की खाने के बाद से चीन बिलबिला रहा...

दिल्ली में 954 पॉजिटिव केस, 27 मई के बाद पहली बार एक हजार से कम मामले

[Edited By Vineet Tripathi | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 20 Jul 2020, 07:08:00 PM IST दिल्ली: 54 दिन बाद दिल्ली में 1000...

मास्टरबेशन से मुझे और मेरे दोस्त को बहुत कमजोरी हुई है

सवाल: मुझे आपके एक सवाल के जवाब पर आपत्ति है। आपने बताया है कि मास्टरबेशन से कमजोरी नहीं आती। लेकिन मुझे और मेरे...