Home मुख्य समाचार मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा- राज्यसभा चुनाव कराने में जानबूझकर देरी की गई,...

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा- राज्यसभा चुनाव कराने में जानबूझकर देरी की गई, ताकि भाजपा विधायकों की खरीद फरोख्त कर सके

[

  • मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कहा कि हमने विधायकों की खरीद की जांच कराने का फैसला किया है, सच जल्द सामने आएगा
  • देशभर में राज्यसभा की 18 सीटों के लिए 19 जून को चुनाव होने हैं, राजस्थान में तीन सीटों पर चुनाव होगा

दैनिक भास्कर

Jun 12, 2020, 08:02 PM IST

जयपुर. राज्यसभा चुनाव से 7 दिन पहले राजस्थान में चल रही सियासी उठापटक के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने शुक्रवार को जयपुर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान गहलोत ने कहा, ‘राज्यसभा चुनाव दो महीने पहले हो सकते थे, लेकिन इसे लेकर जानबूझकर देरी की गई। ताकि भाजपा विधायकों की खरीद फरोख्त कर सके।’ देशभर में राज्यसभा की 18 सीटों के लिए 19 जून को चुनाव होने हैं। राजस्थान में तीन सीटों पर चुनाव होगा।

गहलोत ने कहा कि हॉर्स टेडिंग के लिए चुनाव टलवाया गया था। वापस चुनाव शुरू हो रहे हैं। देश में लोकतंत्र की हत्या हो रही है। देश में लोकतंत्र की हत्या हो रही है। नरेंद्र मोदी हों या अमित शाह। पूरे देश में दो लोग फैसले कर रहे हैं, जो देश में अच्छी परंपरा नहीं है। कौन दर्द बांट रहा है, कौन दवा बांट रहा है। यह फैसला करना होगा। कोरोना के दौरान उन्हें देश की चिंता ही नहीं है। कोरोना के बावजूद मध्यप्रदेश में सरकार बदली गई। मोदी जी कहते हैं कि कांग्रेस मुक्त बनाएंगे। कांग्रेस देश के डीएनए में है। जाति और धर्म के नाम पर कब तक लड़ाओगे जनता को।

सचिन पायलट ने कहा-  राज्यसभा की दो सीटें हम जीतेंगे 
सचिन पायलट ने कहा कि राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत होगी। आंकड़े दिखाते हैं कि हमारे निर्दलीय साथी हमारे साथ खड़े हैं। राज्यसभा में हमारे दोनों उम्मीदवार जीतेंगे। सभी विधायक हमारे साथ हैं और आगे भी रहेंगे। लॉकडाउन की वजह से हम तीन महीने में नहीं मिल पाए थे। इसलिए इस होटल में मीटिंग बुलाई गई।

कांग्रेस-भाजपा के 2-2 प्रत्याशी, बिना तोड़फोड़ किए भाजपा एक ही सीट जीत सकती है

  • राजस्थान में राज्यसभा की तीन सीटों पर चार उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इनमें दो कांग्रेस और दो भाजपा के हैं। कांग्रेस ने केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी और भाजपा ने राजेंद्र गहलोत और ओंकार सिंह को मैदान में उतारा है।
  • संख्याबल के हिसाब से भाजपा के पास सिर्फ एक प्रत्याशी को जिताने का बहुमत है, लेकिन दो प्रत्याशी उतार दिए। हर प्रत्याशी को जीतने के लिए कम से कम 51 वोट चाहिए। कांग्रेस को दोनों उम्मीदवारों को जिताने के लिए 102 वोटों की जरूरत है जो आसानी से जीतते दिख रहे हैं। कांग्रेस के साथ 13 निर्दलीय, लेफ्ट, बीटीपी के दो-दो और एक आरएलडी विधायक हैं। भाजपा के पास खुद के 72 विधायकों के अलावा तीन वोट आरएलपी के हैं।

राजस्थान विधानसभा की मौजूदा स्थिति  

पार्टी विधायकों की संख्या
कांग्रेस 107
भाजपा 72
निर्दलीय 13
आरएलपी 3
बीटीपी 2
लेफ्ट 2
आरएलडी 1

कांग्रेस का आरोप- भाजपा विधायकों को 25 करोड़ का ऑफर दे रही  
कांग्रेस ने टूट के डर से सभी विधायकों को तीन दिन से यहां के रिजॉर्ट में रखा है। कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने पुलिस को पत्र लिखकर शिकायत की है कि कर्नाटक, गुजरात और मप्र की तरह राजस्थान में भी चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने के लिए विधायकों को 25 करोड़ रु. तक ऑफर दिए जा रहे हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

विवाद के बाद मॉनसून सत्र में प्रश्न काल की वापसी, महज आधे घंटे का होगा, सिर्फ अतारांकित प्रश्न लिए जाएंगे

[हाइलाइट्स:14 सितंबर से शुरू हो रहे संसद के मॉनसून सत्र के लिए प्रश्न काल को दी गई इजाजतहालांकि, इस बार प्रश्न काल सिर्फ...

कांग्रेस नेताओं की चिट्ठी पर बोलीं सोनिया गांधी- ‘मैं आहत हूं, लेकिन जो हुआ सो हुआ अब…’

[सोनिया गांधी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष बनी रहेंगीनई दिल्ली: कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की सोमवार को सात घंटे तक चली मैराथन बैठक के बाद...

Home Quarantine Guidelines: बाहरी राज्यों से दिल्ली आ रहे लोगों के लिए बदला होम क्वारंटाइन का नियम

[ Publish Date:Thu, 04 Jun 2020 10:47 AM (IST) नई दिल्ली, जागरण संवाददाता।  Home Quarantine Guidelines :  दिल्ली में बाहर से आने वाले ऐसे लोग जिनमें...

पाकिस्तान, तुर्की, ओआईसी… कश्मीर पर यूएन के मंच से भारत की खरी-खरी

[जिनेवाभारत ने कश्मीर और मानवाधिकारों को लेकर पाकिस्तान, तुर्की और ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कंट्रीज (OIC) को जमकर फटकार लगाई है। जिनेवा में संयुक्त...

देश में अब ड्रोन से हथियारों की खेप पहुंचा रहा पाकिस्तान, सुरक्षाबलों के लिए बनी बड़ी चुनौती

[ सीमा पार पाकिस्तान से अब देश में अशांति फैलाने के लिए सिर्फ आतंकियों की घुसपैठ ही नहीं की जा रही है बल्कि...

चीन में भारत के राजदूत की खरी-खरी, बीजिंग तय कर ले संबंधों को किधर ले जाना चाहता है

,(a=t.createElement(n)).async=!0,a.src="https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js",(f=t.getElementsByTagName(n)).parentNode.insertBefore(a,f))}(window,document,"script"),fbq("init","465285137611514"),fbq("track","PageView"),fbq('track', 'ViewContent'); Source link