Home मुख्य समाचार सूंघने, स्वाद की क्षमता अचानक खत्म होने पर कराना पड़ेगा कोविड-19 का...

सूंघने, स्वाद की क्षमता अचानक खत्म होने पर कराना पड़ेगा कोविड-19 का टेस्ट

[

हाइलाइट्स

  • कोविड-19 पर हुई राष्ट्रीय कार्य बल की बैठक में इस विषय पर चर्चा हुई
  • कोरोना के मरीजों में सूघने और स्वाद की क्षमता जाने के लक्षण दिख रहे हैं
  • भारत में कोरोना वायरस के मामले 3 लाख के करीब पहुंचने वाले हैं

नई दिल्ली

सरकार सूंघने या स्वाद लेने की क्षमता अचानक चले जाने को कोविड-19 की जांच में एक मानदंड के तौर पर शामिल करने पर विचार कर रही है। शुक्रवार को सूत्रों की ओर से यह जानकारी दी गई। भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और यह 3 लाख के करीब पहुंचने वाले हैं। पिछले रविवार कोविड-19 पर हुई राष्ट्रीय कार्य बल की बैठक में इस विषय पर चर्चा की गई थी, लेकिन इस पर सर्वसम्मति नहीं बन सकी।

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक सूत्र ने कहा, बैठक में कुछ सदस्यों ने कोविड-19 की जांच में सूंघने या स्वाद ले पाने की शक्ति चले जाने को एक कसौटी के तौर पर शामिल करने का यह कहते हुए सुझाव दिया था कि कई मरीजों में इस तरह के लक्षण देखने को मिल रहे हैं। एक विशेषज्ञ के अनुसार, भले ही यह लक्षण विशिष्ट तौर पर कोविड-19 से जुड़े हुए नहीं हैं क्योंकि फ्लू या इंफ्लुएंजा में भी व्यक्ति की सूंघने या स्वाद ले पाने की क्षमता चली जाती है लेकिन यह बीमारी के शुरुआती लक्षण हो सकते हैं और जल्द पता लगाने से जल्दी इलाज में मददगार हो सकते हैं।

‘जुलाई या अगस्त में पीक पर पहुंच सकते हैं कोरोना के मामले’

अमेरिका के राष्ट्रीय जन स्वास्थ्य संस्थान, रोग नियंत्रण एवं बचाव केंद्र (सीडीसी) ने मई की शुरुआत में कोविड-19 के नये लक्षणों में सूंघने या स्वाद ले पाने की शक्ति खो जाने को शामिल किया था। कोविड-19 के लिए भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) की 18 मई को जारी संशोधित जांच रणनीति के मुताबिक, इंफ्लुएंजा जैसी बीमारी (आईएलआई) के लक्षणों के साथ अन्य राज्यों से लौटने वालों और प्रवासियों की ऐसे लक्षण नजर आने के बाद 7 दिन के अंदर-अंदर जांच करनी होगी।

Coronavirus का टेस्ट कराना है? गूगल करेगा आपकी मदद

आईसीएमआर ने कहा था कि अस्पताल में भर्ती मरीजों और कोविड-19 की रोकथाम के लिए अग्रिम मोर्चे पर काम कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों में आईएलआई जैसे लक्षण विकसित होने पर उनकी भी आरटी-पीसीआर जांच के जरिए कोविड-19 की जांच होगी। साथ ही इसने कहा कि किसी भी संक्रमित मरीज के संपर्क में आने वाले ऐसे लोग जिनमें लक्षण नजर नहीं आते और उच्च जोखिम वाले लोगों के संपर्क में आने के बाद 5 से 10 दिन के भीतर एक बार जांच करानी ही होगी।

कोरोना काल में टाटा के अस्पताल ने किया कमालकोरोना काल में टाटा के अस्पताल ने किया कमालपूरी दुनिया कोरोना महामारी की चपेट में है। ऐसे में अन्य सभी बीमारियों के इलाज कहीं पीछे छूट गए हैं। कैंसर भी ऐसी ही घातक बीमारियों में से एक है। लेकिन कोरोना काल में भी मुंबई के टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल ने कैंसर के 494 मरीजों का सफल ऑपरेशन कर के एक मिसाल पेश की है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

cisce.org , ICSE 10th , ISC 12th Result 2020 LIVE Updates: CISCE कुछ देर में जारी करेगा आईसीएसई 10वीं और आईएससी 12वीं रिजल्ट

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा कोरोना संक्रमित, संपर्क में आए लोगों से क्वारंटाइन होने का निवेदन

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

Jammu-Kashmir: LG मुर्मू का बड़ा खुलासा, ‘विषम परिस्थितियों में लिया गया था अनुच्छेद 370 रद्द करने का फैसला

[Jammu and Kashmir Latest News: जम्मू और कश्मीर के पहले उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू (Girish Chandra Murmu) ने बड़ा खुलासा किया है। उनका...