Home मुख्य समाचार सुप्रीम कोर्ट ने लगाई दिल्ली को फटकार, कहा - COVID-19 मरीज़ों से...

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई दिल्ली को फटकार, कहा – COVID-19 मरीज़ों से हो रहा है जानवरों से बदतर सलूक

[

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को भी जारी किया नोटिस

नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट ने कोविड-19 के उपचार और अस्पतालों में कोरोना संक्रमित शवों के साथ गलत व्यवहार को लेकर सुनवाई करते हुए कहा कि शवों के शाथ अनुचित व्यवहार हो रहा है. कुछ शव कूड़े में मिल रहे हैं. लोगों के साथ जानवरों से भी बदतर व्यवहार किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि मीडिया ने इस तरह की रिपोर्ट दिखाई हैं. बता दें कि कोर्ट ने खुद इस मामले पर संज्ञान लेते हुए मामले की सुनवाई जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस  एम आर शाह की पीठ को सौंपी है. कोर्ट ने इस मामले पर दिल्ली सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि दिल्ली और इसके अस्पतालों में बहुत अफसोसजनक स्थिति है. एमएचए दिशानिर्देशों का कोई पालन नहीं हो रहा है. अस्पताल शवों की उचित देखभाल नहीं की जा रही है. यहां तक कि कई मामलों में मरीजों के परिवारों को भी मौतों के बारे में सूचित नहीं किया जाता है. परिवार कुछ मामलों में अंतिम संस्कार में भी शामिल नहीं हो पाए हैं. 

यह भी पढ़ें

कोर्ट ने कहा कि मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली के एक सरकारी अस्पताल में लॉबी और वेटिंग एरिया में शव पड़े थे. वार्ड के अंदर, ज्यादातर बेड खाली थे, जिनमें ऑक्सीजन, सलाइन ड्रिप की सुविधा नहीं थी. बड़ी संख्या में बेड खाली हैं, जबकि मरीज भटकते फिर रहे हैं. कोर्ट ने इस मामले के लिए केंद्र सरकार को भी नोटिस जारी किया है. 

कोर्ट ने दिल्ली के साथ साथ महाराष्ट्र और तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है साथ ही दिल्ली के LNJP अस्पताल को भी नोटिस भी जारी किया है. कोर्ट ने मुख्य सचिवों को मरीजों के प्रबंधन प्रणाली का जायजा लेने और कर्मचारियों, रोगी आदि के बारे में उचित स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया है. मामले की अगली सुनवाई 17 जून को होगी. 

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार पर टेस्टिंग को लेकर उठाए सवाल हैं. कोर्ट ने कहा कि चेन्नई और मुंबई के मुकाबले मामले बढ़े. कोर्ट ने पूछा कि टेस्टिंग एक दिन में 7000 से 5000 तक कम क्यों हो गई है? जबकि मुंबई और चेन्नई में यह टेस्टिंग 15 हजार से 17 हजार हो गई है. दिल्ली सरकार ने खुद संकेत दिया है कि COVID रोगियों के परीक्षण की संख्या कम हो गई है.  जो भी अनुरोध करता है उसके अनुरोध को तकनीकी आधार पर टेस्टिंग  से इनकार नहीं किया जा सकता है. .सरकार प्रक्रिया को सरल बनाने पर विचार करे ताकि अधिक से अधिक टेस्ट  किए जा सकें. कोर्ट ने कहा कि दिल्ली के अलावा, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में गंभीर स्थिति है. 

Video:लॉकडाउन में सैलरी विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लोकप्रिय

प्रेगनेंट होने के लिए स्‍पर्म का योनि के अंदर जाना जरूरी नहीं, जानिए क्‍यों

यदि वीर्य योनि के अंदर होने की बजाय योनि या वल्‍वा के आसपास हो तो भी प्रेग्‍नेंसी हो सकती है। महिलाओं की...

Live: शुक्रवार को सामने आएगा SSR की ऑटोप्‍सी का सच! फरेंसिक रिपोर्ट तैयार

[सुशांत सिंह राजपूत के केस में सीबीआई की टीम लगातार संबंधित लोगों के पूछताछ कर बयान और सबूत इकट्ठे कर रही है। सोमवार...

अपनी टीचर के प्रति आकर्षित हो रहा हूं, वह सिंगल हैं, क्या मुझे आगे बढ़ना चाहिए?

मैं ग्रेजुएशन का स्टूडेंट हूं और फाइनल इयर में पढ़ाई कर रहा हूं। पिछले कुछ समय से मेरा अपनी एक टीचर के...

झूठा है चीन, खुद फायरिंग करके लगा रहा है भारतीय सेना पर आरोप

;t=b.createElement(e);t.async=!0;t.src=v;s=b.getElementsByTagName(e);s.parentNode.insertBefore(t,s)}(window,document,'script','https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js');fbq('init', '2442192816092061');fbq('track', 'PageView'); Source link

Rajsthan Crisis : कांग्रेस में बने रहने को तैयार हैं सचिन पायलट और पार्टी भी चाहती है वापसी? जानें कहां फंस रहा पेच

[Edited By Naveen Kumar Pandey | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 16 Jul 2020, 11:40:00 PM IST सचिन पायलट।हाइलाइट्सकांग्रेस पार्टी ने सचिन पायलट...

12 घंटे के अंदर देश के 5 राज्यों में आया भूकंप, देखिए किन हिस्सों में आए झटके

[नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 24 Jul 2020, 02:11:30 PM IST भारत के अलग-अलग हिस्सों में शुक्रवार आधी रात से लेकर दिन तक पांच अलग-अलग...